जगीर कौर की सजा पर रोक से हाईकोर्ट का इनकार !    मैं जन्मजात कांग्रेसी, घर वापसी हुई !    सुबह कोहरे की चादर, दिन में बादलों की ओढ़नी !    8 महीने से होमगार्डों को नहीं मिला वेतन !    व्हाट्सएप, फेसबुक को नोटिस !    मीटर जांच कर रही टीम की लाठी-डंडों से धुनाई !    रोहतक में माकपा का प्रदर्शन, रोष सभा भी की !    सिलिकोसिस पीड़ितों का होगा मुफ्त इलाज !    सड़कों पर गूंजा नोटबंदी का विरोध !    अफसर के िवरोध में उतरे चेयरपर्सन, पार्षद !    

एसएफआई ने की धांधलियों की विजीलेंस जांच की मांग

Posted On November - 23 - 2013

शिमला 23 नवंबर (निस)। हिमाचल प्रदेश विश्वविद्यालय के कुलपति प्रो. एडीएन वाजपेयी और परीक्षा नियंत्रक नरेंद्र अवस्थी का छात्र संगठनों द्वारा विरोध लगातार जारी है। वामपंथी छात्र संगठन एसएफआई ने विश्वविद्यालय में वाजपेयी और नरेंद्र अवस्थी के समय में अनेकों घोटाले होने का आरोप लगाया है और मांग की है कि इन दोनों अधिकारियों के कार्यकाल में हुए कथित घोटाले की विजिलेंस जांच करवाई जाए तथा इन दोनों को इनके पदों से हटाया जाए।
एसएफआई के प्रदेश उपाध्यक्ष बाबूराम ने आज शिमला में कहा कि कुलपति एडीएन वाजपेयी ने 100 करोड़ रुपए के लालच में रूसा प्रणाली को जल्दबाजी में लागू कर दिया जिसका खामियाजा आज आम छात्रों को भुगतना पड़ रहा है। उन्होंने कहा कि आज स्थिति यह है कि रूसा के तहत बीए प्रथम सेमेस्टर की परीक्षाएं 21 नवंबर से आरंभ हो चुकी हैं लेकिन अनेक छात्रों को अभी भी रोल नंबर नहीं मिले हैं तथा परीक्षा पत्रों में भी भारी त्रुटियां पाई गई हैं। उन्होंने कहा कि विश्वविद्यालय खासकर कुलपति और परीक्षा नियंत्रक के लापरवाही का ही नतीजा है कि विश्वविद्यालय में ही रूसा के तहत परीक्षा के लिए स्थापित परीक्षा केंद्र में छात्र परीक्षाएं नहीं दे पाए क्योंकि वहां समय पर कोई सूचना ही नहीं दी गई थी। एसएफआई का आरोप है कि विश्वविद्यालय आज भ्रष्टाचार का अड्डा बन गया है और विश्वविद्यालय की विश्वसनीयता कम होती जा रही है। संगठन ने कहा है कि विश्वविद्यालय में जब से नरेंद्र अवस्थी ने परीक्षा नियंत्रक का पद भार संभाला है तभी से यहां लगातार घोटाले हो रहे हैं। जर्मन तकनीक से अंक तालिका बनाने को लेकर हुआ घोटाला भी इसमें शामिल है।


Comments Off on एसएफआई ने की धांधलियों की विजीलेंस जांच की मांग
1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (No Ratings Yet)
Loading...
Both comments and pings are currently closed.

Comments are closed.

समाचार में हाल लोकप्रिय

Powered by : Mediology Software Pvt Ltd.