जगीर कौर की सजा पर रोक से हाईकोर्ट का इनकार !    मैं जन्मजात कांग्रेसी, घर वापसी हुई !    सुबह कोहरे की चादर, दिन में बादलों की ओढ़नी !    8 महीने से होमगार्डों को नहीं मिला वेतन !    व्हाट्सएप, फेसबुक को नोटिस !    मीटर जांच कर रही टीम की लाठी-डंडों से धुनाई !    रोहतक में माकपा का प्रदर्शन, रोष सभा भी की !    सिलिकोसिस पीड़ितों का होगा मुफ्त इलाज !    सड़कों पर गूंजा नोटबंदी का विरोध !    अफसर के िवरोध में उतरे चेयरपर्सन, पार्षद !    

अल्जाइमर का खतरा दो गुणा बढ़ा सकती है विटामिन डी की कमी

Posted On August - 7 - 2014

बुर्जुर्ग लोगों में विटामिन डी के निचले स्तर से डिमेंशिया और अल्जाइमर के विकसित होने का खतरा दोगुना हो सकता है। यह बात एक अध्ययन में पाई गई है। यूनिवर्सिटी ऑफ एक्सेटर मेडिकल स्कूल में डॉक्टर डेविड लेवेलिन के नेतृत्व वाले अंतरराष्ट्रीय दल ने पाया कि इस अध्ययन में शामिल जिन लोगों में विटामिन डी की कमी थी, उनमें डिमेंशिया और अल्जाइमर की बीमारी पनपने की संभावना दोगुने से भी ज्यादा थी।
शोधकर्ताओं ने उन बुजुर्ग अमेरिकी नागरिकों का अध्ययन किया था, जिन्होंने कार्डियोवेस्कुलर हेल्थ स्टडी में भाग लिया।
उन्होंने पाया कि जिन वयस्कों में विटामिन डी की कमी थोड़ी सी ही थी, उनमें किसी भी तरह का डिमेंशिया पैदा होने का खतरा 53 प्रतिशत था। वहीं जिनमें विटामिन डी कमी का स्तर गंभीर था, उनमें यह खतरा 125 प्रतिशत था।
ऐसे ही नतीजे अल्जाइमर बीमारी के बारे में भी पाए गए। कम कमी वाले समूह में इस बीमारी का खतरा 69 प्रतिशत था जबकि गंभीर रूप से विटामिन डी की कमी वाले लोगों में इसका प्रतिशत 122 प्रतिशत था।
इस अध्ययन में 65 वर्ष और उससे ज्यादा उम्र के उन 1,658 वयस्कों का अध्ययन किया गया, जो अध्ययन की शुरूआत के समय बिना किसी मदद के चल सकते थे, डिमेंशिया, हृदय संबंधी बीमारी और आघात से मुक्त थे। यह अध्ययन न्यूरोलॉजी जर्नल में प्रकाशित हुआ।


Comments Off on अल्जाइमर का खतरा दो गुणा बढ़ा सकती है विटामिन डी की कमी
1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (1 votes, average: 4.00 out of 5)
Loading...
Both comments and pings are currently closed.

Comments are closed.

समाचार में हाल लोकप्रिय

Powered by : Mediology Software Pvt Ltd.