असल जिंदगी का रूप है सिनेमा : अख्तर !    नहीं रहे प्रसिद्ध उर्दू गीतकार लायलपुरी !    पूर्व सीबीआई प्रमुख की रिपोर्ट पर फैसला आज !    अकाली दल के कई नेता कांग्रेस में शामिल !    2 गोल्ड जीतकर लौटी फरीदाबाद की बेटी !    जेसी कालेज की लड़कियों ने मारी बाजी !    भारत का प्रतिनिधित्व करेगा दिवेश !    तेरिया ने जीता 'झलक दिखला जा' का खिताब !    पाक में मामले की सुनवाई 25 को !    विशेष अतिथि होंगे 40 आदिवासी !    

‘नाम’ में पहली बार नहीं गये पीएम

Posted On September - 19 - 2016

गुटनिरपेक्ष आंदोलन (NAM) के 17वें शिखर सम्मेलन में इस बार भारत की प्रतिभागिता से जुड़ा एक अहम तथ्य उभर कर आया। यह गुटनिरपेक्ष शिखर सम्मेलनों के दौर में पहला मौका था जब भारत के प्रधानमंत्री ने इसमें भाग नहीं लिया । गौरतलब है कि वेनेजुएला के मार्गरीटा आइलैण्ड में 13 से 18 सितम्बर 2016 के बीच चल रहे गुटनिरपेक्ष शिखर सम्मेलन में भारतीय प्रतिनिधिमण्डल का नेतृत्व करने के लिए उप-राष्ट्रपति हामिद अंसारी वेनेजुएला गये थे।

  • 1979 के बाद पहला मौका है जब भारत के प्रधानमंत्री गुटनिरपेक्ष शिखर सम्मेलन में प्रतिभागिता नहीं कर रहे हों । 1979 में भी जब चरण सिंह ने क्यूबा की राजधानी हवाना में हुए शिखर सम्मेलन में भाग नहीं लिया था तब वे देश के कार्यवाहक प्रधानमंत्री थे ।
  • भारत के पूर्व प्रधानमंत्री पण्डित जवाहरलाल नेहरू गुटनिरपेक्ष आंदोलन के मुख्य प्रेरणास्रोतों तथा स्तंभों में से एक थे इसलिए भारतीय प्रधानमंत्री (नरेन्द्र मोदी) के इस आंदोलन के शिखर सम्मेलन में भाग नहीं लेने को तमाम पक्षों द्वारा शंका से देखा जा रहा है। लेकिन दूसरी तरफ माना जा रहा है कि अमेरिका के प्रति भारत की झुकाव की कूटनीति के दौर में गुटनिरपेक्ष आंदोलन की प्रासंगिकता काफी कम हो गई है। दक्षिण अमेरिकी देश वेनेजुएला 17वें गुट-निरपेक्ष शिखर सम्मेलन का मेजबान था ।
  • भारत गुट निरपेक्ष संगठन का संस्थापक सदस्य है तथा भारत के पूर्व प्रधानमंत्री पण्डित जवाहरलाल नेहरू को इस आंदोलन के स्तंभ व सूत्रधारों में से एक माना जाता है। संगठन के प्रमुख सदस्य देश हैं भारत, मिस्र, इण्डोनेशिया, क्यूबा, दक्षिण अफ्रीका, मलेशिया, ईरान, वेनेजुएला, जाम्बिया और जिम्बाब्वे। वर्तमान में सदस्य देशों की संख्या लगभग 120 है।
  • हालांकि गुट-निरपेक्ष शिखर सम्मेलन का मेजबान देश वेनेजुएला इस समय भयंकर आर्थिक संकट तथा सिकुड़ती अर्थव्यवस्था के दौर से गुजर रहा है। अंतर्राष्ट्रीय मुद्रा कोष के अनुसार जहाँ देश की अर्थव्यवस्था की वृद्धि दर ऋणात्मक 8 प्रतिशत (-8%) है वहीं यहाँ मुद्रास्फीति की दर 482% जितनी ऊँची है।
  • ऐसी रिपोर्ट सामने आई हैं कि वेनेजुएला में खाद्यान्न व खाद्य पदार्थ हासिल करने के लिए दंगे होने लगे हैं तथा पूरे देश में आपातकाल लगा दिया गया है। यहाँ तक कि इस सम्मेलन के आयोजन के लिए राष्ट्रपति निकोलस मडुरो ने मार्गरीटा आईलैण्ड को प्रतिबन्धित कर दिया है।

Comments Off on ‘नाम’ में पहली बार नहीं गये पीएम
1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (No Ratings Yet)
Loading...
Both comments and pings are currently closed.

Comments are closed.

समाचार में हाल लोकप्रिय

Powered by : Mediology Software Pvt Ltd.