एकदा !    सबरीमाला मामले में सुप्रीम कोर्ट में सुनवाई पूरी !    सपा प्रत्याशी ने लिया नाम वापस !    सुप्रीम कोर्ट की शरण में प्रजापति गिरफ्तारी पर रोक की अर्जी !    गुजरात के तो गधों का भी होता है प्रचार !    दलित की बेटी हेलीकॉप्टर में घूमे, मोदी को अच्छा नहीं लगता !    बहुजन से बहनजी तक सिमटी बसपा : मोदी !    दहेज लोभी को नकारा, इंजीनियर से रचायी शादी !    गैंगस्टर के 4 अौर समर्थक गिरफ्तार !    मेट्रो महिला ने किया आत्महत्या का प्रयास !    

सेल्फी के बाद अब शेपीज का जमाना

Posted On September - 5 - 2016

10509CD _3D_FIGUREसेल्फी का क्रेज अभी कम भी नहीं हुआ है कि तेजी से नये आयाम लेती तकनीक की दुनिया में फोटोग्राफी के लिये एक नये फॉर्मेट का चलन शुरू हो गया है । डिजिटल कैमरा और स्मार्टफोन ने फोटोग्राफी की दुनिया को ऐसे बदला कि फोटो स्टूडियो का क्रेज कम हो गया । अब 3डी प्रिंटर तकनीक इसमें नया बदलाव ला रही है । आने वाले समय में लोगों का रुझान ऐसे स्टूडियो की ओर बढ़ सकता है, जहां वे छोटे आकार के खुद के 3डी पुतले बनवा सकते हैं। यह शुरुआत दक्षिण समेत कई देशों में हो चुकी है ।
सेल्फी खींचने और उसे डिजिटल फॉर्मेट में सुरक्षित रखने का मौजूदा ट्रेंड निकट जल्द ही बदल सकता है। दक्षिण कोरिया अब फोटोग्राफी को सेल्फी और डिजिटल प्रारूप में सुरक्षित रखने से आगे 3डी प्रिंटिंग के दौर में ले जा रहा है। ‘रॉयटर’ की एक रिपोर्ट के मुताबिक, सियोल में कई थ्रीडी फोटो स्टूडियो खुल चुके हैं, जहां एक छोटे पुतले के रूप में आप अपनी या बच्चों की 3डी प्रिंटिंग हासिल कर सकते हैं। फिलहाल इसकी कीमत ज्यादा है, इसलिए पैसे वाले लोग ही यहां पहुंचते हैं, लेकिन भविष्य में इसकी कीमत कम होने पर यह आम लोगों की पहुंच से बाहर नहीं रहेगा।

एक साथ 100 कैमरे लेते हैं फोटो
अपना 3डी पुतला बनवाने की चाहत रखने वाले इन स्टूडियो में बीच में बने एक प्लेटफॉर्म पर खड़े होते हैं, जिसके चारों ओर करीब 100 कैमरे लगे हैं। ये सभी कैमरे अनेक एंगल से एक साथ आपकी 2डी तस्वीर खींचते हैं, जिन्हें सियोल की एक खास फैक्टरी में भेजा जाता है। इस फैक्टरी में 3डी प्रिंटर के लिए बनाये गये खास कंप्यूटर प्रोग्रेम्स के दिशा-निर्देशों के तहत इसे ट्रांसफॉर्म किया जाता है ।

हजार लेयर में बनती है इमेज
इसके बाद 3डी प्रिंटर जिप्सम पाउडर की करीब 1,000 लेयर में आपकी उस इमेज को गढ़ता है, 2डी तस्वीरें लेते वक्त इसमें वह उन सभी छोटी-से-छोटी चीजों को शामिल करता है, ताकि वह बिल्कुल असली की तरह दिखे। हालांकि, इस फिगर यानी पुतले का आकार बहुत छोटा होता है ।

99 डॉलर में पांच सेमी का पुतला
यहां बनाये जानेवाले 3डी पुतलों की कीमत 99 डॉलर से 299 डॉलर तक है। सबसे छोटा आकार पांच सेंटीमीटर है, जिसकी कीमत 99 डॉलर है, जबकि सबसे 30 सेंटीमीटर आकार के पुतले की कीमत 299 डॉलर है । ‘बैंकॉक पोस्ट’ की एक रिपोर्ट में एशियाई देशों में फिलहाल इस नयी तकनीक को दक्षिण कोरिया तक ही सीमित बताया गया है, लेकिन जल्द ही पूरी दुनिया में इसके प्रसार की उम्मीद जतायी गयी है। हालांकि, कई अन्य रिपोर्ट बताती हैं कि भारत समेत कई देशों में भी इसकी शुरुआत हो चुकी है ।

‘सेल्फी’ का स्थान ले सकती है ‘शेपीज’!
भविष्य में आपके घर में टेबल पर मौजूद सजावटी सामग्रियों के बीच आपकी ‘शेपीज’ यानी आपकी शेप का पुतला हो सकता है। ‘ब्लूमबर्ग टेक्नोलॉजी’ के मुताबिक, लग्जम्बर्ग आधारित कंपनी ‘आर्टेक’ ने सितंबर, 2014 में पहली बार ‘3डी बॉडी स्कैनिंग बूथ’ का डिजाइन तैयार कर ड्रेस समेत पूरे शरीर की इमेज स्कैनिंग करके 3डी प्रिंट के छोटे प्रतिरूप में मुहैया कराया था। कैलिफोर्निया के पालो आल्टो में आर्टेक के शोरूम में यह तकनीक प्रदर्शित की गयी थी।  ग्राहकों को यहां पांच इंच का पुतला दिया जाता है। फिगर बनाने वाले इस आइडिया को फिलहाल ‘शेपीज’ या ‘3डी सेल्फीज’ नाम दिया गया है ।

3डी सेल्फी के लिए ऑनलाइन ऑर्डर
सेल्फी को स्मार्टफोन में ही देख सकते हैं। लेकिन, अब 3डी सेल्फी का जमाना आने वाला है।  इस थ्रीडी सेल्फी को आप एक छोटे पुतले की भांति अपने साथ रख सकते हैं। ‘माय3डीसेल्फी डॉट कॉम’ इसके लिए बाकायदा ऑर्डर हासिल करता है।

 पांच मिनट में 3डी मॉडल  
आर्टेक शेपिफाई बूथ 3डी बॉडी स्कैनिंग और सेल्फी बनाने वाली ऑटोमेटेड मशीन है ।  महज 12 सेकेंड में ग्राहक की स्कैनिंग करके ऑटोमेटिक तरीके से पांच मिनट में 3डी मॉडल तैयार हो जाता है और कुछ दिनों में पूरी तरह तैयार करके इसे ग्राहक को भेज दिया जाता है । इस बूथ में प्रति घंटे 10 लोगों की स्कैनिंग की जा सकती है ।

भारत में भी हो चुकी है शुरुआत
हैदराबाद की एक फर्म ‘3डी स्फेयर’ ने भी ऐसी एक शुरुआत की है। इसकी वेबसाइट पर दी गयी जानकारी के मुताबिक, 3डी प्रिंटिंग के जरिये पुतले बनाने का काम यह चार चरणों में पूरा करता है :
3डी स्कैनिंग : पहले चरण में यह पूरे शरीर की स्कैनिंग करता है। फोटोग्राफिक तकनीक के जरिये तस्वीर की 3डी स्कैनिंग की जाती है।
एडिटिंग : स्कैनिंग से हासिल किये गये 3डी डाटा को संबंधित 3डी सॉफ्टवेयर में एडिट करता है ।
3डी प्रिंटिंग : कलर 3डी प्रिंटर में इसे प्रिंट किया जाता है ।
पोस्ट प्रोसेस : तैयार हुए प्रोडक्ट यानी पुतले पर चिपके अतिरिक्त पाउडर को हटाया जाता है और उस पर ग्लू चिपकाया जाता है।

क्लोन मी का 3डी प्रोडक्ट
यह 3डी सेल्फी से क्लोन बनाने वाली एक कंपनी है, जो इनोवेटिव टेक्नोलॉजी और उत्तम कोटि की शिल्पकारी के जरिये 3डी फिगर तैयार करती है। यह कंपनी पांच चरणों में 3डी फिगर बनाती है।
 क्लोन मी शोरूम : इच्छुक लोगों को सबसे पहले शोरूम आना होता है या फिर आप ऑनलाइन अपनी तस्वीर भेज सकते हैं
क्लोन मी 3डी स्टूडियो : इसके प्रधान कार्यालय में स्कैनिंग को अंतिम रूप देते हुए उसकी गुणवत्ता बढ़ायी जाती है ।
रिफाइनमेंट : 3डी फिगर तैयार होने के बाद शिल्पकारों द्वारा साज-सज्जा करते हुए इसे अंतिम स्वरूप प्रदान किया जाता है ।


Comments Off on सेल्फी के बाद अब शेपीज का जमाना
1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (No Ratings Yet)
Loading...
Both comments and pings are currently closed.

Comments are closed.

समाचार में हाल लोकप्रिय

Powered by : Mediology Software Pvt Ltd.