शादी समारोह से बच्चे ने चुराया 3 लाख का बैग !    फर्जी अंगूठा लगाकर मनरेगा के खाते से उड़ाये लाखों !    गुरु की तस्वीरों पर प्रकाश अाभा न दिखाने पर एतराज !    हरियाणा में 2006 के बाद के कर्मियों को भी ग्रेच्युटी !    पहले दिया समर्थन, अब झाड़ा पल्ला !    सप्ताह भर में न भरा टैक्स तो टावर होंगे सील !    पेंशन की दरकार, एसडीएम कार्यालय पर प्रदर्शन !    परियोजना वर्करों की देशव्यापी हड़ताल कल !    आईएस का हाथ था कानपुर रेल हादसे में !    आज फिर चल पड़ेगी नेताजी की कार !    

जिंदगी में कुछ नया हो जाये

Posted On December - 28 - 2016

डॉ. मोनिका शर्मा
pt copyजीवन की अपनी गति है। आप उस दिशा पर भी ध्यान दीजिये जिस ओर आपकी जिंदगी जा रही है। यह दिशा सकारात्मक और संतुलित हो, यह सबसे ज्यादा जरूरी है। इसके लिए हर परिस्थिति में खुद को मजबूती से थामे रहें। नये साल में हर भय से बाहर आएं। कुछ नया सीखना चाहते हैं, कहीं जाना चाहते हैं या नया जानना-समझना चाहते हैं, लेकिन अनजाने भय ने आपको घेर रखा है, तो इस बरस इस डर से बाहर निकलें।
कहते हैं कि सीखने की प्रक्रिया जीवनभर चलती है। साथ ही कुछ नया जानना-सीखना मन को खुशी भी देता है, आत्मविश्वास बढ़ाता है। इसीलिए झिझकना छोड़ कर नयी चीजें सीखने की कोशिश करें। सबसे पहले तो इस डर को ही पूरी तरह से अपने मन से निकाल दें कि आप सफल ना हो पाये तो? आप विशेषज्ञ बनने के लिए नहीं, मन की खुशी और खुद को बेहतर बनाने के लिए चीजें सीख रहे हैं।
याद रखिये, ऐसा करना आपको कुछ-कुछ ना अनुभव जरूर देकर जाएगा। साथ ही इस साल अपनी सोच और संबंधों के दायरे भी बढ़ाएं। सामाजिक बनें। मेलमिलाप करें। नये साल की शुरुआत से जिंदगी में किसी नये बदलाव की नींव रखें। हर डर को पीछे छोड़ अपनी बेहतरी का रास्ता अपनाने की सोच ही इस नयेपन का आधार बन सकती है।
यकीन मानिए, यह सब इतना मुश्किल भी नहीं है। जरूरत है तो बस इस बात की कि आप अपने सुखद सपनों को पूरा करने की ठान लें और मंजि़ल की ओर बढ़ चलें। अपने आप से यह जुड़ाव सकारात्मक और रचनात्मक हुआ तो परिणाम भी पॉजिटिव ही होंगे। यह नये साल में आपके लिए भी एक नयी शुरुआत हो सकती है।
सरलता अपनाएं
आज के समय में एक अजीब सी जटिलता ने हमें घेर लिया है। दिखावे और स्वार्थ भरी इस उलझन से बचने के लिए आप स्वयं इस जाल से बाहर आयें। कुछ सरल और सहज-सी बातों को जिंदगी में जगह दें। बच्चों को समय दें, सामाजिक सरोकारों से जुड़ें और किताबों की ओर लौटें। ऐसी कुछ आम-सी बातें जीवन में ख़ास असर रखती हैं। यह सच है कि अगर जीवन में भागमभाग हो तो इन्सान को अपने ही भीतर झांकने का मौका नहीं मिल पाता। इसी के चलते जीवन से सहज और सरल चीज़ें दूर हो जाती हैं। मन में जितनी सरलता होगी, हालातों को संभालने और खुद को सहेजने की हिम्मत भी उतनी ही बढ़ेगी। जितनी यह हिम्मत बढ़ेगी उतना ही यह सोच को सकारात्मकता भी देगी। ऐसे ही सकारात्मक विचार जीवन में सभी सोपानों पर सफलता दिलाते हैं। ऐसे विचारों से हमारी कार्यशैली को दृढ़ पृष्ठभूमि मिलती है, जिस पर कामयाबी की सशक्त इबारत खड़ी होती है। नये साल में इस सहज बदलाव को अपनाकर आगे बढ़ें।
थामिए उम्मीद का दामन
12812CD _NEGATIVE_POSITIVEनया साल पीछे मुड़कर देखने का मौका है और आगे की सुध लेने का अवसर भी। यही वजह है कि हमारे जीवन के लक्ष्यों को फिर हमारे सामने ले आता है। बीतते जा रहे समय की दस्तक देते हुए हमें याद दिलाता है कि समय का सदुपयोग करते हुए आगे बढ़ने की सोची जाये। तभी तो हर बार नववर्ष नयी आशाएं और उम्मीदें लिए कैलेंडर से उतरते हुए हमें भी उम्मीदों का दामन थमा जाता है । इन उम्मीदों पर खरा उतरने के लिए लक्ष्य तय करना ज़रूरी है। देखने में आता है कि जीवन से जुड़ी ऐसी कई गतिविधियां होती हैं जिनमें हम जाने-अनजाने अपनी ऊर्जा खपा देते हैं। इसीलिए मन-मस्तिष्क की शक्ति को सहेजते हुए अपनी रचनात्मक सोच को निखारने की सोचें ताकि जो लक्ष्य आपने बनाएं हैं उन्हें पूरा किया जा सके। क्योंकि हम जैसा सोचते हैं और जो चाहते हैं वो सब स्वयं जान लें तो कोई भटकाव नहीं रहता। ऐसा करने पर शिकायतों का बोझ नहीं बल्कि आशाओं का उत्साह मन में जगह पाता है। इन हालात में अपने लक्ष्यों को पाना और सरल हो जाता है। लक्ष्य जितना सटीक और सोचा समझा होगा उसे साकार करना उतना ही सरल होगा। फिर ना कदम डिगते हैं और ना ही विचार उथल-पुथल मचाते हैं। इसीलिए अपने लक्ष्य तय करते हुए नये साल में स्वयं को आंकने का भी सार्थक प्रयास करें। इसका नतीजा यह होगा कि नया साल नए संकल्प ही नहीं, नयी स्फूर्ति भी साथ लाएगा। इसीलिए अपने लिए एक मंजि़ल तय करें जहां तक पहुंचने के लिए कदम बढ़ाने की शुरुआत नववर्ष से हो। खुद के लिए ऐसी ही आशा और हौसले भरी सौगात के साथ नववर्ष का स्वागत करने का मन बनायें ।
असली दुनिया में लौटें
12812cd _socialसमाज से, अपने लोगों से कटकर खुश नहीं रहा जा सकता। इसलिए वर्चुअल वर्ल्ड की बुनी नये दौर की सामाजिकता में असामाजिक बनने से बचिए। नये साल में वास्तविक संसार से जुड़िये। स्टेटस अपडेट्स के जरिये बात कहने के बजाय मिल बैठकर बतियाने और मन की कहने सुनने वाली दुनिया का हिस्सा बनिये। आज के समय में इंटरनेट और स्मार्ट गैजेट्स जाने-अनजाने सुविधा के बजाय लत बन रहे हैं। इस आभासी जाल में आज सभी फंस गये हैं। इस साल सेहत और समय पर बेवजह सेंधमारी कर रहे इस आभासी संसार से थोड़ी दूरी बनायें। ताकि अपनों और अपने आप को समय दे सकें। घंटों जिस आभासी दुनिया में अनगिनत दोस्तों से जुड़े रहते हैं वहां किसकी पहचान असली है और कौन मुखौटा पहने है, यह पहचान पाना भी मुश्किल है। लेकिन इसी अजनबी दुनिया के चलते हम अपनों से नहीं अपने आप से भी दूर हो रहे हैं। इसीलिए वर्चुअल और रियल वर्ल्ड में फर्क करना ना भूलें। अपने आपको अभिव्यक्त करने और सुख-दुःख साझा करने के लिए दोस्तों की फेहरिस्त और प्रोफाइल ही काफी नहीं है। जब असल जिंदगी में अपनों से संवाद ही नहीं रहे तो किसी जुड़ाव के कोई मायने नहीं। कुल मिलाकर इस साल यह तय करें कि इस अजब-गज़ब मायावी दुनिया से दूरी बनाकर अपने और अपनों से करीब आने की कोशिश करेंगें।


Comments Off on जिंदगी में कुछ नया हो जाये
1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (No Ratings Yet)
Loading...
Both comments and pings are currently closed.

Comments are closed.

समाचार में हाल लोकप्रिय

Powered by : Mediology Software Pvt Ltd.