अन्न पैदा करने वाला मर रहा कर्ज के बोझ तले !    वेंकैया ने की कसरत !    गोदाम में आग, 4 युवक झुलसे !    अवैध निर्माण तोड़ने को हूडा विभाग में अलग दस्ता !    दोस्त के साथ मिलकर पत्नी को मार डाला !    पूर्व एमएलए जौली के खिलाफ रेप केस !    अपनी जमीन खाली करा पौधे लगाएगा वन विभाग !    विकास के मुद्दे पर भड़के सरपंच, सीएम तक पहुंचे !    डिपोधारकों का सामूहिक छुट्टी पर जाने का अल्टीमेटम !    'निजी बस चालक नहीं मानते बस पास' !    

पूरे हरियाणा ने माना कैथल के बॉक्सर का लोहा

Posted On December - 26 - 2016

ललित शर्मा, कैथल

 हरियाणा के बेस्ट बॉक्सर अवार्डी के साथ प्राचार्य व अन्य। -हप्र

हरियाणा के बेस्ट बॉक्सर अवार्डी के साथ प्राचार्य व अन्य। -हप्र

कैथल के जाट स्कूल ने शिक्षा के साथ-साथ खेलों में खास नाम कमाया है। खेल का मैदान कोई भी हो, यहां के खिलाड़ियों का खास दबदबा रहा है। इस दबदबे को कायम रखते हुए जाट वरिष्ठ माध्यमिक विद्यालय के बॉक्सिंग खिलाड़ी राहुल ढांडा को हरियाणा का सर्वश्रेष्ठ बाॅक्सर अवार्ड से नवाजा गया है।
गुरुग्राम में 18 से 21 दिसंबर तक आयोजित हरियाणा स्टेट जूनियर बॉक्सिंग चैंपियनशिप में हरियाणा प्रदेश के इस होनहार खिलाड़ी को सर्वश्रेष्ठ बाॅक्सर का अवार्ड प्रदान किया गया है। यह अवार्ड राहुल को 56 किलोग्राम वर्ग के फाइनल में भिवानी के बॉक्सर जसवंत को परास्त कर स्वर्ण पदक जीतने और अपने सभी 6 मुकाबलों में शानदार फतेह हासिल करने के लिए प्रदान किया गया है। गुरुग्राम में जननायक चौ. देवीलाल स्टेडियम में आयोजित जूनियर ओपन मुकाबलों में बाई मिलने के बाद राहुल ने लगातार सभी मुकाबले जीते, जिसमें इस खिलाड़ी ने राई खेल स्कूल, रेवाड़ी, गुरुग्राम, पानीपत, फरीदाबाद व फाइनल में भिवानी के बॉक्सर को मात देकर यह मुकाम हासिल किया। प्रदेश भर से 350 नौजवान मुक्केबाजों की भीड़ में सर्वश्रेष्ठ खिताब जीतने से पूरा जिला गौरवान्वित हुआ है।
अब राहुल 15 जनवरी से दिल्ली में होने वाले नेशनल जूनियर चैंपियनशिप में जीत के लिए अपनी ताल ठोकेंगे। स्कूल के प्रधानाचार्य फूल सिंह मान ने उन्हें बेस्ट बाॅक्सर की ट्रॉफी प्रदान की। इससे पहले पिछले साल इसी स्कूल की छात्रा रही मनीषा मौन भी प्रदेश की सर्वश्रेष्ठ मुक्केबाज के खिताब से नवाजी जा चुकी है।
पिता ने जगायी बॉक्सिंग में रुचि
राहुल ढांडा मूलत: किठाना गांव के रहने वाले हैं। बॉक्िसंग के प्रति उनकी रुचि जगाने में उनके पिता पूर्व सैनिक रणधीर ढांडा की अहम भूमिका रही। पिता रणधीर ढांडा ने राहुल को कड़ी मेहनत और अभ्यास करने के लिए प्रेरित किया। इसके बाद उन्होंने कोच राजेंद्र सिंह, विक्रम ढुल व गुरमीत सिंह से मुक्केबाजी के गुर सीखें।  राहुल का कहना है कि वह नेशनल जीतने के लिए जी-तोड़ मेहनत करेगा। इसके बाद उसका सपना 2020 के ओलंपिक में जाने का है। उन्होंने कहा है कि कैथल में भी भारतीय खेल प्राधिकरण यानी साईं की तरफ से सुविधाएं उपलब्ध करवायी जानी चाहिए।


Comments Off on पूरे हरियाणा ने माना कैथल के बॉक्सर का लोहा
1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (No Ratings Yet)
Loading...
Both comments and pings are currently closed.

Comments are closed.

समाचार में हाल लोकप्रिय

Powered by : Mediology Software Pvt Ltd.