करदाताओं को धमकी न दें : सीबीडीटी !    भूमि अधिग्रहण के बाद मुआवजा अपील निरर्थक !    माल्या को लाने की कोशिशें तेज हुईं !    रिलायंस जियो का अब 3 नॉट 3 ऑफर !    ऋतिक का किस्सा अब खत्म : कंगना !    रसोइया नहीं जनाब इन्हें शेफ कहिये !    इलाहाबाद में राहुल-अखिलेश के लिए तैयार मंच गिरा !    93 के मुगाबे बोले, अगले साल भी लड़ूंगा चुनाव !    जंगली जानवर के हमले से गांवों में दहशत !    नूंह में दीवार तोड़ महिलाओं ने कर लिया दुकान पर कब्जा !    

याददाश्त बढ़ाती है गहरी सांस

Posted On December - 14 - 2016

11412cd _saansअकसर सलाह दी जाती है कि गुस्से, तनाव या डर की स्थिति में खुद को शांत करने के लिए नाक से लंबी गहरी सांस लेनी चाहिये। अब, एक नये शोध में यह बात साबित हुई है कि सांस लेने की यह तकनीक सच में दिमाग पर अच्छा प्रभाव डालती है। ऐसा प्रभाव जिससे याद रखने की क्षमता बढ़ती है। इस नतीजे पर पहुंचने के लिए अमेरिका की नॉर्थवेस्टर्न यूनिवर्सिटी के शोधकर्ताओं ने कुछ युवाओं पर शोध किया। उन्हें स्क्रीन पर तेजी से बदलते कई चेहरे दिखाकर उनके भाव पहचानने को कहा गया। यह काम उन्हें नाक से गहरी सांस लेते हुए करना था। शोधकर्ताओं ने पाया कि शोध में शामिल ज्यादातर युवा उन चेहरों के भाव तेजी से पहचान पाये, जो उन्होंने सांस लेते वक्त देखे। सांस छोड़ते वक्त वे चेहरों के भाव उतनी आसानी से नहीं पहचान पाये। वहीं, स्क्रीन पर दिखाई गयी चीजों को याद रखने की कसौटी पर भी ऐसा ही नतीजा पाया गया। शोधकर्ताओं ने पाया कि नाक से गहरी सांस लेने पर हमारे दिमाग का भावनाओं और याददाश्त से जुड़ा हिस्सा बेहद सक्रिय हो जाता है। गहरी सांस लेते और छोड़ते वक्त इन दोनों हिस्सों में बड़ा अंतर दिखता है। शोधकर्ताओं के मुताबिक इससे यह भी संकेत मिलता है कि किसी डर की स्थिति में हमारी धड़कन और सांस क्यों तेज हो जाती है। सांस तेज होने पर दिमाग के कई हिस्से सक्रिय होते हैं, जिससे हम तेजी से प्रतिक्रिया कर पाते हैं।


Comments Off on याददाश्त बढ़ाती है गहरी सांस
1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (No Ratings Yet)
Loading...
Both comments and pings are currently closed.

Comments are closed.

समाचार में हाल लोकप्रिय

Powered by : Mediology Software Pvt Ltd.