कम्युनिस्टों से खफा-खफा बापू !    कोजी कोजी ठंड !    उलट सियासी विचार वाले साथी संग दो पल !    डाकिया थनप्पा खुशी बांचता गम छिपाता !    मैं हूं मीरा !    स्ट्रीट फूड बनारस का !    भारतीय जवान को पाक ने साढ़े 3 माह बाद छोड़ा !    लिव-इन-रिलेशनशिप में दिक्कत नहीं !    खबर है कि !    हल्दी का सीन करते नम हुई आंखें !    

आपकी राय

Posted On January - 11 - 2017

अपूरणीय क्षति
भारतीय सिनेमा जगत के महान चरित्र अभिनेता ओमपुरी साहब का आकस्मिक निधन कला प्रेमियों के लिए गहरे सदमे जैसा है। ओमपुरी गजब के कलाकार थे। उनकी बुलंद आवाज में एक विशेष आकर्षण था। जब वे चरित्र फिल्मों में किसी भी भूमिका में दिखते थे, तो उनमें एक आम आदमी की छवि और आक्रोश झलकता था। उनकी एक्टिंग का जादू न केवल बालीवुड बल्कि विदेशी फिल्मों में भी सिर चढ़कर बोला। सामाजिक विषयों पर उनकी समझ बहुत गहरी थी। यही कारण था कि वे किसी भी चरित्र अभिनेता की भूमिका में बिल्कुल फिट बैठ जाते थे। अपनी अभिव्यक्ति की आजादी से उन्होंने कभी समझौता नहीं किया। भगवान दिवंगत ओमपुरी साहब की रूह को सुकून बख्शे।
सुरेन्द्र सिंह बागी, महम

समस्या का मूल
लोग जातिगत आधार पर आरक्षण खत्म करने की बात तो करते हैं परंतु यह कोई नहीं कहता कि आओ मिलकर जातिवाद को खत्म करें। आरक्षण देन है जातिवाद की, पहले जातियां बनाई गई हैं। जब समाज ने जातिवाद के बीज भूतकाल में बोये हैं तो काटने के लिये आरक्षण मिलेगा, ‘सामाजिक भाईचारा’ नहीं! सर्वप्रथम तो मिलकर जातिवाद की भावना को खत्म करें। जब जातियां ही नहीं होंगी तो जातिवाद के नाम पर आरक्षण कहां से होगा?
सुमित विशन सभ्रवाल, भिवानी

एप अपडेट करें
हाल ही में प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने भीम एप लांच किया है। लेकिन उसको चलाना लोगों के लिए मुश्किल हो गया है। सबसे ज्यादा परेशानी स्टेट बैंक ऑफ पटियाला के ग्राहकों को हो रही है। बताया जा रहा है कि भीम एप में बैंकों की लिस्ट में स्टेट बैंक ऑफ पटियाला का नाम ही नहीं है। सरकार को चाहिए कि वह भीम एप को पूरी तरह अपडेट करे ताकि हर बैंक का नाम भीम एप में हो और लोगों को परेशानी भी न हो।
नसीब सैनी, कैथल


Comments Off on आपकी राय
1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (No Ratings Yet)
Loading...
Both comments and pings are currently closed.

Comments are closed.

समाचार में हाल लोकप्रिय

Powered by : Mediology Software Pvt Ltd.