अन्न पैदा करने वाला मर रहा कर्ज के बोझ तले !    वेंकैया ने की कसरत !    गोदाम में आग, 4 युवक झुलसे !    अवैध निर्माण तोड़ने को हूडा विभाग में अलग दस्ता !    दोस्त के साथ मिलकर पत्नी को मार डाला !    पूर्व एमएलए जौली के खिलाफ रेप केस !    अपनी जमीन खाली करा पौधे लगाएगा वन विभाग !    विकास के मुद्दे पर भड़के सरपंच, सीएम तक पहुंचे !    डिपोधारकों का सामूहिक छुट्टी पर जाने का अल्टीमेटम !    'निजी बस चालक नहीं मानते बस पास' !    

दुनिया में होग्या नाम… थारे आणे तै बढग्या मान म्हारे हरियाणे का

Posted On January - 10 - 2017

नवीन पांचाल/हप्र
गुरुग्राम, 10 जनवरी

गुरुग्राम में मंगलवार को प्रवासी हरियाणा दिवस के मौके पर आयोजित कार्यक्रम में सांस्कृतिक छटा बिखेरते लोक कलाकार। - सईद अहमद

गुरुग्राम में मंगलवार को प्रवासी हरियाणा दिवस के मौके पर आयोजित कार्यक्रम में सांस्कृतिक छटा बिखेरते लोक कलाकार। – सईद अहमद

प्रवासी हरियाणा दिवस (पीएचडी) के पहले दिन हरियाणवी आर्केस्ट्रा ने संसारभर से आए हरियाणवियों को जमकर झुमाया। हरियाणवी फिल्मी गीतों की धुनों में नए जमाने के हरियाणा की झलक को शानदार तरीके से प्रस्तुत किया गया। सरकार की मंशा को कलाकारों ने अपने बोल देते हुए ‘दुनिया में होग्या नाम म्हारे हरियाणा का, थारे आने से बढ़ गया मान म्हारे हरियाणा का’ प्रदेश के विकास में भागीदारी का न्यौता भी दिया।
प्रवासी हरियाणा दिवस के शुभारंभ अवसर पर मंगलवार को हरियाणवी कलाकारों की प्रस्तुतियों ने हरियाणवी अंदाज में अपने प्रवासियों का स्वागत किया या हरियाणवी में कहें कि ‘धूम्मा ठा’ दिया। कलाकारों की धुआंदार प्रस्तुति देखकर प्रवासी हरियाणवी अपनी पुरानी यादों मे खो गए और उन्होंने भी खूब ठहाके लगाए। प्रस्तुति के दौरान दर्शकों ने ‘किल्की मारी’, जिसे हरियाणवी कार्यक्रमों की पहचान होती है। कार्यक्रम में आने वाले प्रवासी हरियाणवियों के स्वागत के लिए रेड कारपेट बिछाया गया था।
इस दौरान बॉलीवुड के प्ले बैक सिंगर सोनू निगम ने अपने लोकप्रिय गाने- ‘सूरज हुआ मद्धम , चाँद ढालने लगा’ की प्रस्तुति देकर दर्शकों की खूब तालियां बटोरी। सांस्कृतिक कार्यक्रम में प्रसिद्ध हास्य कवि सुरेंद्र शर्मा ने अपने अनोखे अंदाज से हरियाणवियों की खासियतें बताई।
कार्यक्रम का आकर्षण पारंपरिक आकेस्ट्रा रहा। इसमें प्रस्तुति की शुरुआत ही ‘दुनिया में होग्या नाम म्हारे हरियाणा का’ गीत से की गई थी। आर्केस्ट्रा में 70 हरियाणवी पारम्परिक वाद्य यंत्रों को बजाया गया। इसके अलावा, कार्यक्रम में हरियाणवी लोक संस्कृति के लोकप्रिय गीतों ‘मेरा नौ डांडी का बीजना’, ‘जीजा तू काला मै गौरी घणी’,‘मेरा बोरला घड़वा दे रे, हो नन्दी के बीरा’, ‘उड़ जाइये रै कबूतर तन्नै मारे बिजली’ आदि पर हरियाणवी नृत्य ने सभी दर्शकों को झूमने पर मजबूर कर दिया। इन गानों में सरकार की कैशलेस व डिजिटल होने की पहल का समावेश किया गया था।


Comments Off on दुनिया में होग्या नाम… थारे आणे तै बढग्या मान म्हारे हरियाणे का
1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (No Ratings Yet)
Loading...
Both comments and pings are currently closed.

Comments are closed.

समाचार में हाल लोकप्रिय

Powered by : Mediology Software Pvt Ltd.