कम्युनिस्टों से खफा-खफा बापू !    कोजी कोजी ठंड !    उलट सियासी विचार वाले साथी संग दो पल !    डाकिया थनप्पा खुशी बांचता गम छिपाता !    मैं हूं मीरा !    स्ट्रीट फूड बनारस का !    भारतीय जवान को पाक ने साढ़े 3 माह बाद छोड़ा !    लिव-इन-रिलेशनशिप में दिक्कत नहीं !    खबर है कि !    हल्दी का सीन करते नम हुई आंखें !    

पावर सेंटर अब 10 जनपथ की जगह 12 तुगलक लेन!

Posted On January - 10 - 2017

अजय पांडेय/ट्रिन्यू
नयी दिल्ली, 10 जनवरी
10901cd _rahul_storyसमाजवादी पार्टी में सत्ता की खातिर बाप और बेटे भले आमने-सामने दिख रहे हों लेकिन कांग्रेस में सत्ता का हस्तांतरण इसके ठीक उलट हो रहा है। मां अपनी सत्ता खुद ही बेटे की ओर सरका रही हैं। शायद यही वजह है कि अब कांग्रेस का पावर सेंटर 10 जनपथ से खिसककर 12 तुगलक लेन बनता जा रहा है। 10 जनपथ कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी का निवास है, जबकि 12 तुगलक लेन में पार्टी उपाध्यक्ष राहुल गांधी रहते हैं। उनसे मिलने मंगलवार को खुद सोनिया और प्रियंका गांधी पहुंचीं। बाद में अपनी मां को छोड़ने के लिए राहुल खुद ही गाड़ी चलाकर 10 जनपथ पहुंचे। बाद में पंजाब कांग्रेस के प्रधान कैप्टन अमरेंद्र ने भी राहुल से मुलाकात की।
कांग्रेस में राहुल गांधी को अध्यक्ष पद सौंपने की तैयारियां लगभग पूरी हो चुकी हैं। ऐसे कयास लगाये जा रहे हैं कि बुधवार को तालकटोरा में हो रहे जनवेदना सम्मेलन और उससे पहले होने वाली कांग्रेस कार्यसमिति की बैठक में इस आशय का प्रस्ताव भी पारित कर दिया। लेकिन बड़ी बात यह है कि इस औपचारिक ऐलान से पहले ही पार्टी की कमान राहुल के हाथों में पहुंच चुकी है। कांग्रेस कार्यसमिति की पिछली बैठक की अध्यक्षता राहुल ने की थी और पार्टी प्रवक्ता शक्ति सिंह गोहिल ने स्वीकार किया कि देशभर के पार्टी डेलिगेट्स की मौजूदगी में बुधवार को हो रहे सम्मेलन की अध्यक्षता भी राहुल ही करेंगे। कहा जा रहा है कि सोनिया इस सम्मेलन में नहीं आएंगी।
पंजाब के लिए किया गया इंतजार
कांग्रेस में राहुल को अप्रत्यक्षतौर पर कमान किस कदर सौंपी जा चुकी है इसका अंदाजा इसी बात से लगाया जा सकता है कि उनकी विदेश यात्रा से लौटने से पहले पंजाब की बाकी बची 40 सीटों के उम्मीदवारों के नाम नहीं तय हो पाए थे और न ही नवजोत सिद्धू के पार्टी में शामिल होने का फैसला ही हो पाया था। इतना ही नहीं, उत्तर प्रदेश में समाजवादी पार्टी के साथ कांग्रेस के गठबंधन का औपचारिक ऐलान नहीं होने के पीछे भी राहुल की गैरहाजिरी को एक प्रमुख वजह बताया जा रहा है। पार्टी के वरिष्ठ नेताओं ने यूं तो साफ कुछ नहीं कहा, बस बताया कि अध्यक्ष की गैर हाजिरी में उपाध्यक्ष ही किसी सम्मेलन की अध्यक्षता करता है। जन वेदना सम्मेलन का आयोजन नोटबंदी से हो रही परेशानियों के मद्देनजर किया जा रहा है लेकिन यह तय माना जा रहा है कि इसके बहाने राहुल की ताजपोशी की मांग उठेगी। बताते हैं कि पंजाब का मामला मंगलवार को तय हो गया। राहुल के घर पर बैठक होने के बाद में फिर सोनिया गांधी के घर पर भी राहुल समेत पार्टी के तमाम बड़े नेताओं की बैठक हुई। सिद्धू के बारे में बताया गया कि वे बुधवार को राहुल के सामने कांग्रेस में शामिल हो सकते हैं, जबकि उत्तर प्रदेश में गठबंधन के मामले पर भी जल्दी फैसला लिये जाने की उम्मीद है।


Comments Off on पावर सेंटर अब 10 जनपथ की जगह 12 तुगलक लेन!
1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (No Ratings Yet)
Loading...
Both comments and pings are currently closed.

Comments are closed.

समाचार में हाल लोकप्रिय

Powered by : Mediology Software Pvt Ltd.