प्रधानमंत्री मोदी की डिग्री सार्वजनिक करने पर रोक !    ट्रंप ने टीपीपी संधि खत्म करने का दिया आदेश !    वार्नर को फिर आस्ट्रेलिया क्रिकेट का शीर्ष पुरस्कार !    सेरेना, नडाल का विजय अभियान जारी !    अभय ने लिखा मोदी को पत्र, मुलाकात का समय मांगा !    चुनाव से पहले सीएम उम्मीदवार घोषित होंगे कैप्टन : अानंद शर्मा !    युवती को अगवा कर होटल में किया रेप !    सुप्रीमकोर्ट ने सीएजी को दिये पुष्टि के निर्देश !    मॉरीशस में प्रधानमंत्री ने बेटे को सौंपी सत्ता !    ट्रेन हादसे की जांच को पहुंची एनआईए !    

प्रिंसिपल-प्रबंधन की लड़ाई में बच्चे बने मोहरा

Posted On January - 12 - 2017

अम्बाला, 11 जून (ट्रिन्यू)

बाल सरक्षंण आयोग के अधिकारी बच्चों से पूछताछ करते हुए।  -प्रदीप मैनी

बाल सरक्षंण आयोग के अधिकारी बच्चों से पूछताछ करते हुए। -प्रदीप मैनी

एसए जैन विजय वल्लभ पब्लिक स्कूल अम्बाला शहर में प्रबंधन समिति और प्रिंसिपल के बीच विवाद गहराता जा रहा है। दोनों की लड़ाई में स्कूल के बच्चों को मोहरा बनाया जा रहा है। अपने हितों के लिए दोनों पक्ष विद्यार्थियों का इस्तेमाल कर रहे हैं। पूरे विवाद में बच्चों को शामिल किए जाने की शिकायत मिलने पर बाल संरक्षण अधिकार टीम स्कूल पहुंची। यहां पहुंचकर टीम ने विद्यार्थियों से बातचीत की।
आयेाग के सदस्य परमजीत बडौला ने कहा कि प्रिंसिपल और प्रबंधक समिति के आपसी विवाद में बच्चों का इस्तेमाल करना गलत है। उन्होंने कहा कि स्कूल में बच्चे पढ़ाई करने आते हैं, राजनीति नहीं। उनकी टीम ने कई तथ्यों पर जांच की है  और कई पहलू सामने आये हैं। जल्द ही पूरी रिपोर्ट सरकार को सौंपी जाएगी। आयोग के साथ  जिला बाल संरक्षण अधिकारी मेघा सिंगला और डिप्टी डीईओ उर्मिला रोहिला भी जांच में शामिल थी। टीम ने स्कूल के भीतर जाकर प्रबंधन समिति के सदस्यों से बातचीत की और कुछ बच्चों से भी सवाल-जवाब कर मामले की तह तक पहुंचने की कोशिश की।
शिक्षा विभाग 19 को करेगा जांच
स्कूल में आज बाल संरक्षण आयोग की टीम के आने के कारण शिक्षा विभाग ने अपनी जांच टाल दी है। मामले की सुनवाई आज 3 बजे होनी थी। डीईईओ ने जांच के लिए अब 19 जनवरी का दिन निर्धारित किया है।

नोटिस क्यों नहीं दिया
स्कूल में पहुंचे बाल संरक्षण आयोग के सदस्य परमजीत बडौला ने कहा कि प्रिंसिपल के साथ धरने पर बैठी अध्यापिकाओं को अभी तक स्कूल प्रबंधन समिति ने नोटिस क्यों नहीं दिया। बडौला ने कहा कि दोनों के झगड़े के कारण बच्चों की पढ़ाई बाधित हो रही है। प्रबंधन समिति तुरंत धरने पर बैठी अध्यापिकाओं को नोटिस जारी करे तथा जब तक विवाद सुलझ नहीं जाता छात्रों की पढ़ाई के लिए दूसरे अध्यापकों का प्रंबध करे।
बहाली तक धरना रहेगा जारी

प्रिंसिपल तजिंद्र कौर और अन्य का कहना था कि स्कूल प्रबंधन द्वारा गुल्लक फंड के नाम पर लाखों रुपए की धोखाधड़ी की गई है। प्रिंसिपल को बिना किसी कारण निलंबित किया गया है। जब तक प्रिंसिपल को बहाल नहीं किया जाता, तब तक धरना जारी रहेगा। मैनेजमेंट के प्रधान सुदेश जैन ने कहा कि जब गुल्लक फंड लिया जा रहा था, उस समय भी तजिंद्र कौर प्रिंसिपल थीं, तब विरोध करना चाहिए था।

मैनेजमेंट बर्खास्त कर प्रशासक नियुक्त करने की मांग
अम्बाला (निस): शरणार्थी सभा ने सीएम विंडो पर शिकायत कर अम्बाला छावनी के एसडी गर्ल्स स्कूल और शहर के एसए जैन विजय वल्लभ पब्लिक स्कूल की मैनेजमेंट को तुरंत भंग कर प्रशासक की नियुक्ति की मांग की है। शिकायत में कहा है कि वार्षिक परीक्षाएं सिर पर हैं, ऐसे में दोनों स्कूलों में बच्चों की पढ़ाई बाधित हो रही है।

” किसी को भी बच्चों के भविष्य से खिलवाड़ का अधिकार नहीं है। बच्चों को अपनी लड़ाई में इस्तेमाल किया जाना सहन नहीं किया जाएगा। ”
– परमजीत सिंह बडौला, सदस्य, बाल संरक्षण अधिकार


Comments Off on प्रिंसिपल-प्रबंधन की लड़ाई में बच्चे बने मोहरा
1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (No Ratings Yet)
Loading...
Both comments and pings are currently closed.

Comments are closed.

समाचार में हाल लोकप्रिय

Powered by : Mediology Software Pvt Ltd.