कम्युनिस्टों से खफा-खफा बापू !    कोजी कोजी ठंड !    उलट सियासी विचार वाले साथी संग दो पल !    डाकिया थनप्पा खुशी बांचता गम छिपाता !    मैं हूं मीरा !    स्ट्रीट फूड बनारस का !    भारतीय जवान को पाक ने साढ़े 3 माह बाद छोड़ा !    लिव-इन-रिलेशनशिप में दिक्कत नहीं !    खबर है कि !    हल्दी का सीन करते नम हुई आंखें !    

हर पल को बनाएं जीवंत

Posted On January - 11 - 2017

10401CD _SPIRITUहवा चल रही है, इसे आप दो तरह से महसूस कर सकते हैं। आप सोच सकते हैं कि हवा आपके बालों के साथ खेल रही है या फिर यह आपके बालों को बिगाड़ रही है। यह आपके ऊपर है कि आप इसे कैसे लेते हैं। वैसे देखा जाए तो यह दोनों ही काम कर रही है, तो यह आप पर है कि आप इसे कैसे अनुभव करते हैं। एक तरीका है – ‘अरे वाह! मंद हवा का मेरे बालों से खेलना कितना अच्छा लग रहा है।’ या फिर – ‘यह हवा मेरे बाल खराब कर रही है, अब मैं कैसा दिखूंगा?’ आप कुछ भी सोच सकते हैं। ऐसा ही जिंदगी के हर पहलू के साथ होता है। तो आनंदित रहने और न रहने के बीच क्या आपके पास कोई विकल्प है? यह हवा जो आपके साथ खेल रही है, इसे बहुत ज्यादा गंभीर न बनाएं। सांस लेने और सांस

जग्गी वासुदेव

जग्गी वासुदेव

छोड़ने की प्रक्रिया पर जरा गौर करें – यह एक तरह से छेड़ना है। आप न तो सांस को रोक कर रख सकते और न ही सांस लिए बिना रह सकते हैं। अगर यह आपके साथ गंभीर हो गई, और आपके भीतर ही रह गई, बाहर नहीं निकली, तो? यह समझें कि सब कुछ एक खेल है। जब हम खेल कहते हैं, तो इसका मतलब यह नहीं कि किसी तरह से काम चला लेंगे। आप जीवन के किसी अन्य पहलू को किसी तरह चला सकते हैं, लेकिन आप किसी तरह से खेल नहीं खेल सकते। खेल के लिए पूरी तरह से शामिल हो कर खेलना पड़ता है। आप बेमन से पढ़ाई कर सकते हैं। आप बेमन से अपने काम पर जा सकते हैं । लेकिन पूरी तरह से शामिल हुए बिना खेल नहीं खेल सकते। जब आप बस खेल खेल रहे हैं, तो नतीजे से फर्क नहीं पड़ेगा। अगर आप खेल के नतीजे को लेकर गंभीर हो जाएंगे, तो कहीं आप एक ‘मैच फिक्सर’ न बन जाएं। जब आप खुश हो कर खेलेंगे, केवल तभी आप सही तरीके से खेल सकते हैं। और ऐसा तभी होगा, जब आप इसमें पूरी तरह से शामिल होंगे। आप खेल को बस तभी खेल पाएंगे, जब आप नियमों का ईमानदारी से पालन करेंगे। अगर आप यह समझ जाते हैं, तो जिंदगी अच्छी तरह से गुजारेंगे।
isha.sadhguru.org से साभार


Comments Off on हर पल को बनाएं जीवंत
1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (No Ratings Yet)
Loading...
Both comments and pings are currently closed.

Comments are closed.

समाचार में हाल लोकप्रिय

Powered by : Mediology Software Pvt Ltd.