प्रधानमंत्री मोदी की डिग्री सार्वजनिक करने पर रोक !    ट्रंप ने टीपीपी संधि खत्म करने का दिया आदेश !    वार्नर को फिर आस्ट्रेलिया क्रिकेट का शीर्ष पुरस्कार !    सेरेना, नडाल का विजय अभियान जारी !    अभय ने लिखा मोदी को पत्र, मुलाकात का समय मांगा !    चुनाव से पहले सीएम उम्मीदवार घोषित होंगे कैप्टन : अानंद शर्मा !    युवती को अगवा कर होटल में किया रेप !    सुप्रीमकोर्ट ने सीएजी को दिये पुष्टि के निर्देश !    मॉरीशस में प्रधानमंत्री ने बेटे को सौंपी सत्ता !    ट्रेन हादसे की जांच को पहुंची एनआईए !    

6 तकलीफें यानी तनाव में हैं आप

Posted On January - 11 - 2017

10401CD _DEPRESSEDतनाव अकेले नहीं आता। यह हद से बढ़ने लगे तो इसके साथ आती हैं कई दिक्कतें। मन ही नहीं, हमारे तन को भी इन्हें झेलना पड़ता है। इनकी फेहरिस्त लंबी है। तनाव हमारे पेट से लेकर बालों, दांतों तक की दिक्कत का कारण बन सकता है।
1. पेट की पीड़ा
पेट की एक ऐसी तकलीफ तेजी से बढ़ रही है जिसकी बड़ी वजह कीटाणु-जीवाणु नहीं, बल्कि तनाव है। डॉक्टरी भाषा में इसका नाम है ‘इरिटेबल बॉवेल सिंड्रोम’ (आईबीएस)। पेट दर्द, मरोड़, डायरिया या कब्ज, इसके लक्षण हैं और अलग-अलग लोगों में यह अलग-अलग हो सकते हैं। ब्रिटेन में किए गये एक शोध में 94 फीसदी डॉक्टरों ने माना है आईबीएस का 10401CD _IBSसबसे बड़ा कारण तनाव है। विशेषज्ञों का कहना है कि हमारे दिमाग और पांचन तंत्र के बीच बेहद जटिल कनेक्शन है। हमारा मूड हमारे पेट को सीधे प्रभावित करता है। हमारे पेट और आंतों में लाखों नर्व सेल (तंत्रिका कोशिकाएं) होते हैं, जो पाचन तंत्र को नियंत्रित करते हैं। दिमाग और पेट के बीच संदेशों का सिलसिला बनाये रखने में इनकी अहम भूमिका है। यही वजह है कि जब कभी हम घबराहट या बेचैनी महसूस करते हैं तो पेट में भी हलचल होने लगती है। तनाव हद से ज्यादा रहने लगे तो पेट और दिमाग के बीच का यह कनेक्शन प्रभावित होता है और पूरा पाचन तंत्र गड़बड़ाने लगता है।

2. उड़ी-उड़ी नींद
10401CD _SLEEPतनाव का सबसे आम और बड़ा असर है नींद न आना। जब कभी हम गहरे तनाव में हों तो बिस्तर पर लेटे रहने के बावजूद नींद नहीं आता। आंखे बंद रखकर भी चिंताएं दिखती रहती हैं। दरअसल तनाव के दौरान कुछ खास तरह के हार्मोन्स का स्तर बढ़ने के कारण हमारी नींद उड़ जाती है।

3. बालों का झड़ना
10401CD _HAIR_LOSS1लंबे समय तक तनाव रहने से बाल झड़ने की समस्या हो सकती है। विशेषज्ञों के मुताबिक तनाव से जुड़े एक खास हार्मोन के कारण ‘हेयर फॉलिकल’ शिथिल पड़ जाते हैं। ऐसे में धोने या कंघी करने पर बाल ज्यादा झड़ने लगते हैं। चिकित्सकों का मानना है कि तनाव के कारण झड़े बालों को दोबारा पाया जा सकता है। यदि तनाव से छुटकारा मिल जाये और सही देखभाल की जाये तो बाल दोबारा उगने लगते हैं, हालांकि इसमें लंबा वक्त लग सकता है।

4. दांतों की भी शामत
10401CD _TEETHतनाव के कारण दांतों को आपस में रगड़ना भी एक समस्या है। इसे आदत कहें या तनाव का असर, यह हद से बढ़ जाये तो दांतों का आकार ही बदल जाता है। दांत घिस-घिसकर चपटे होने लगते हैं। डॉक्टरी भाषा में इसे ‘ब्रक्सिज्म’ कहा जाता है। सिर दर्द, खासतौर पर कनपटियों में दर्द, जबड़े, कंधे और गर्दन की मांसपेशियों में अकड़न, कान में दर्द इसके लक्षण हैं। कई मामलों में यह समस्या अनियंत्रित-सी हो जाती है। यहां तक कि सोते वक्त भी ऐसा हो सकता है।

5. हर वक्त थकान
तनाव जब नींद उड़ाने लगता है तो नतीजा होता है थकान। विशेषज्ञों के मुताबिक तनाव व चिंता जैसी मानसिक दिक्कतें थकान का अहसास बढ़ा देती हैं। आराम करने के बाद भी थकावट बनी रहती है। ब्रिटेन के मेंटल हेल्थ फाउंडेशन के मुताबिक ब्रिटिश लोगों की एक तिहाई आबादी तनाव के कारण इसी तरह की समस्या से पीड़ित है।

6. ज्यादा पसीना
10401CD _BODY_ODOUR_2कई लोगों को तनाव के वक्त ज्यादा पसीना आता है। खास बात यह कि तनाव के कारण आने वाला पसीना गरमी की वजह से आने वाले पसीने से अलग होता है। विशेषज्ञों के मुताबिक हमारे शरीर में पसीना लाने वाली करीब 40 लाख ग्रंथियां होती हैं। इनमें से ज्यादातर हथेलियों, तलवों, चेहरे और बगलों में होती हैं। पसीना पैदा करने वाली ये ग्रंथियां 2 तरह की हैं। एक वो जिनके कारण गरमी में पसीना आता है, इन्हें कहते हैं ‘एकराइन’। इनके पसीने में ज्यादातर पानी होता है। दूसरी ग्रंथियों को कहते हैं ‘एपोकराइन’। इनके पसीने में होता है प्रोटीन और वसा। तनाव के कारण हमारी इन्हीं ग्रंथियों से पसीना निकलता है। विशेषज्ञों के मुताबिक इसी तरह के पसीने पर बैक्टीरिया ज्यादा पनपते हैं और इसी वजह से तन की दुर्गंध भी बढ़ती है।
बचें कैसे

  • तनाव से पूरी तरह बच पाना मुश्किल है, लेकिन इसे कम करने के उपाय किए जा सकते हैं।
  • प्राणायाम करें, ध्यान लगायें। इनसे मन को शांत रखने में मदद मिलती है।
  • तनाव बार-बार हावी होने लगे तो किसी करीबी से अपनी बात साझा करें। दोस्तों के साथ बाहर जायें।
  • नींद सही आये, इसके लिए सोने और उठने का एक वक्त तय करें। रोज रात उसी वक्त बिस्तर पर जायें और सुबह तय वक्त पर उठें।
  • सोने से करीब 2 घंटे पहले मोबाइल, कंप्यूटर, टीवी की स्क्रीन से दूरी बना लें।
  • एक्सरसाइज को दिनचर्या का हिस्सा बनायें। इससे तन और मन की सेहत पर अच्छा असर पड़ता है और नींद भी अच्छी आती है।
  • संतुलित आहार लें। शराब और कैफीन वाले ड्रिंक से परहेज रखें। इनसे समस्या बढ़ती है।
  • तनाव की वजह तलाशें और उसे सुलझाने के लिए कदम उठायें। यदि वजह समझ में न आये, या सुलझा न पायें तो मनोचिकित्सक की मदद ले सकते हैं।

Comments Off on 6 तकलीफें यानी तनाव में हैं आप
1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (No Ratings Yet)
Loading...
Both comments and pings are currently closed.

Comments are closed.

समाचार में हाल लोकप्रिय

Powered by : Mediology Software Pvt Ltd.