सपा प्रत्याशी ने लिया नाम वापस !    सुप्रीम कोर्ट की शरण में प्रजापति गिरफ्तारी पर रोक की अर्जी !    गुजरात के तो गधों का भी होता है प्रचार !    दलित की बेटी हेलीकॉप्टर में घूमे, मोदी को अच्छा नहीं लगता !    बहुजन से बहनजी तक सिमटी बसपा : मोदी !    दहेज लोभी को नकारा, इंजीनियर से रचायी शादी !    गैंगस्टर के 4 अौर समर्थक गिरफ्तार !    मेट्रो महिला ने किया आत्महत्या का प्रयास !    जगमग योजना के विरोध में जड़ा बिजलीघर को ताला !    कोर्ट ने महिला की याचिका की खारिज !    

खुला पन्ना › ›

फ़ीचर्ड न्यूज़
नि:शक्तजनों की देखभाल....

नि:शक्तजनों की देखभाल....

काॅफी पर गपशप हरीश खरे पिछले शुक्रवार की सुबह विशेष ओलंपिक, ‘भारत’ के चंडीगढ़ चैप्टर की संयोजक श्रीमती नीलू सरीन की बदौलत मुझे एक एेसा अनुभव हुआ जो कि मेरे दिल को द्रवित कर गया। श्रीमती सरीन ने मुझे नि:शक्त बच्चों की वार्षिक एथलेटिक मीट के उद‍्घाटन के लिए बुलाया था। वह ...

Read More

1984 को ‘बंद’ कर देने का वक्त...

1984 को ‘बंद’ कर देने का वक्त...

अब से लेकर 11 मार्च के बीच का समय ही संभवत: ऐसा वक्त है जब हम 1984 के सिख विरोधी दंगों के पीड़ितों के लिए न्याय की राजनीति की बात कर सकते हैं। पंजाब कम से कम 11 मार्च तक तो एक सुखद स्थिति के अनुकूल अधर में है, क्योंकि ...

Read More

आप दे रही है चुनौती

आप दे रही है चुनौती

काॅफी पर गपशप हरीश खरे पंजाब के मतदाता ने शनिवार को अपनी जिम्मेदारी अदा कर दी। अब 11 मार्च तक का समय हम सबके लिए पूर्ण संशय का अंतर्काल होगा। इस दौरान राज्य में शांति रहेगी क्योंकि नेता तो जायज ‘आराम’ के लिए इधर-उधर निकल जायेंगे। कई उम्मीदवार अपने पसंदीदा देवी-देवताओं की ...

Read More

हर रोज बदल रही है हवा

हर रोज बदल रही है हवा

बस पांच दिन की और बात है। उसके बाद कम से कम  पंजाब में तो चुनावी शोर थम ही जायेगा। यह  प्रदेश पिछले एक साल से अधिक समय से चुनावी मोड में था। इसकी कुछ वजह राजनीतिक वर्ग का शासन प्रबंधन के निचले स्तर पर चले जाना और कुछ वजह ...

Read More

ट्रम्प के उद्घाटन भाषण में भविष्य के संकेत

ट्रम्प के उद्घाटन भाषण में भविष्य के संकेत

काॅफी पर गपशप हरीश खरे प्राचीन रोम काल से आज तक हर दौर में वाकपटुता नेतृत्व का महत्वपूर्ण तत्व रहा है। कोई भी राजनेता प्रेरणादायी भाषण के बिना एक प्रभावशाली नेता नहीं बन सकता। द्वितीय विश्वयुद्ध के काले दिनों के दौरान विंस्टन चर्चिल के भाषण ने देश की सेना में ऐसा जोश ...

Read More

हम विवेकानंद से अप्रभावित क्यों हैं?

हम विवेकानंद से अप्रभावित क्यों हैं?

काॅफी पर गपशप हरीश खरे बृहस्पतिवार को मुझे ग्रामीण एवं औद्योगिक विकास शोध केंद्र (क्रिड) के डॉ. कृष्ण चंद ने बताया कि उस दिन स्वामी विवेकानंद की जयंती थी। डॉ. कृष्ण चंद ने बड़ी उत्सुकता के साथ मुझे उन द्वारा संपादित '‘रेलेवेंस ऑफ स्वामी विवेकानंद इन कंटेम्परेरी इंडिया’ नामक पुस्तक की प्रति ...

Read More

पसंद का नेता तय करने का समय

पसंद का नेता तय करने का समय

काॅफी पर गपशप हरीश खरे पंजाब का मतदाता अगले पांच साल के लिए अपने हुक्मरान चुनने के लिए 4 फरवरी को मतदान करेगा। क्या ये मतदाता सहजता के साथ ईमानदार विकल्प चुन पाने के प्रति आश्वस्त होगा? एक नागरिक के नज़रिए से कहें तो यह बात बहुत महत्वपूर्ण है कि पंजाब में चुनाव ...

Read More


  • हर रोज बदल रही है हवा
     Posted On January - 29 - 2017
    बस पांच दिन की और बात है। उसके बाद कम से कम पंजाब में तो चुनावी शोर थम ही....
  • आप दे रही है चुनौती
     Posted On February - 5 - 2017
    पंजाब के मतदाता ने शनिवार को अपनी जिम्मेदारी अदा कर दी। अब 11 मार्च तक का समय हम सबके लिए....
  • 1984 को ‘बंद’ कर देने का वक्त…
     Posted On February - 12 - 2017
    अब से लेकर 11 मार्च के बीच का समय ही संभवत: ऐसा वक्त है जब हम 1984 के सिख विरोधी....
  • नि:शक्तजनों की देखभाल….
     Posted On February - 19 - 2017
    पिछले शुक्रवार की सुबह विशेष ओलंपिक, ‘भारत’ के चंडीगढ़ चैप्टर की संयोजक श्रीमती नीलू सरीन की बदौलत मुझे एक एेसा....

क्यों हिंसक हो रहा हमारा समाज?

Posted On March - 28 - 2016 Comments Off on क्यों हिंसक हो रहा हमारा समाज?
काॅफी पर गपशप हरीश खरे पेशे से दंत चिकित्सक डा. पंकज नारंग पश्चिमी दिल्ली में प्रेक्टिस करते थे। पिछले दिनों उनकी हत्या कर दी गई। क्रिकेट की गेंद को लेकर हुई मामूली-सी बहस का अंत एक हिंसक एवं भयावह मौत के रूप में हुआ। यहां सवाल यह है कि उन्हें मौत का शिकार क्यों होना पड़ा? हमें इस सवाल का जवाब कभी नहीं मिलेगा। डा. नारंग यदि भारत के किसी और शहर, मान लीजिए बठिंडा 

धान-गेहूं के फसल चक्र से बाहर निकलें किसान

Posted On March - 20 - 2016 Comments Off on धान-गेहूं के फसल चक्र से बाहर निकलें किसान
धान और गेहूं के फसल चक्र में उलझे किसान अपने खर्चे भी बढा रहे हैं और रसायनों के अंधाधुंध इस्तेमाल से उनकी मिट्टी भी खराब हो रही है। आज जरूरत इस बात ही है कि किसान हरी खाद की खेती भी करें और गोबर व प्राकृतिक खाद के प्रयोग को दें बढावा। पंजाब कृषि विश्व विद्यालय में लगे किसान मेले में उपकुलपति डा० बलदेव सिंह ढिल्लों ने इन्हीं शब्दों में किसानों को खेती के धान – गेहूं के चक्र से निकल कर 

किसानों को मुआवजे का गया जमाना अब तो फसल बीमा ही सहारा

Posted On March - 20 - 2016 Comments Off on किसानों को मुआवजे का गया जमाना अब तो फसल बीमा ही सहारा
उपेन्द्र पाण्डेय हांसी हिसार से श्याम कुमार, सिवानी मंडी से प्रताप चौहान, सिरसा से जोगिंदर सिंह व जगवंती, जुलाना और जींद से सुभाष और दमयंती को समझ नहीं आ रहा है कि कपास के मुआवजे को लेकर किसानों के साथ भेदभाव क्यों किया गया। उनका कहना है कि जिन किसानों ने 15 एकड़ मे कपास लगाई और सारी कपास बरबाद हो गई उन्हें भी उतना ही मुआवजा मिला, जितना छह एकड़ फसल के लिए। किसानों का कहना है कि अफसर 

शोधित बीजों और हरी खाद के बल पर सोना उपजाया सोना ने

Posted On March - 20 - 2016 Comments Off on शोधित बीजों और हरी खाद के बल पर सोना उपजाया सोना ने
अरविंद शर्मा पारंपरिक खेती के अनुभव और सूझबूझ में आधुनिकता का तड़का लग जाये तो खेत सोना जरूर उगलेगा। यमुनानगर जिले के गांव हरेवा की महिला किसान सोना देवी को यह भरोसा था। लेकिन यह नहीं पता था कि अपने खेतों को दिनरात बच्चों की तरह देखने-संभालने की उनकी आदत उन्हें एक दिन प्रधानमंत्री और मुख्यमंत्री के मंच तक पहुंचा देगी। शनिवार को प्रधान मंत्री नरेंद्र मोदी ने सोना देवी को दिल्ली 

हम भगत सिंह को याद क्यों नहीं रखते?

Posted On March - 20 - 2016 Comments Off on हम भगत सिंह को याद क्यों नहीं रखते?
काॅफी पर गपशप हरीश खरे दो दिन बाद 23 मार्च को देश भगत सिंह का शहीदी दिवस मना रहा होगा। इस रस्म अदायगी के बाद फिर पूरा साल भगत सिंह को भूल-भाल जायेंगे। शायद हम उन्हें याद ही नहीं रखना चाहते। भगत सिंह हमारी चेतना अौर इतिहास में किस रूप में याद रखे जायें, यह हम अभी तक तय नहीं कर पाये हैं। बस इतना भर है कि एक युवक था जो कि अपनी उम्र के हिसाब से कहीं अधिक बुद्धिमान अौर बेइंतहा बहादुर था। उसे 

कृषि मेले में खेतों की सेहत भी जंचवाई किसानों ने

Posted On March - 13 - 2016 Comments Off on कृषि मेले में खेतों की सेहत भी जंचवाई किसानों ने
पड़ोसियों की देखादेखी अंधाधुंध उर्वरक और रसायनों का प्रयोग करने की जगह किसान भाइयों का ध्यान अब अपने खेत मिट्टी की सेहत की ओर जा रहा है। साथ ही वे खेत की मिट्टी के गुणदोष को ध्यान में रखकर ही पोषक तत्वों और खाद-पानी का प्रयोग करने के लिए सचेत भी हैं। इसका नमूना देखने को मिला हरियाणा कृषि विश्वविद्यालय की ओर से हिसार कैंपस में आयोजित कृषि मेले के दौरानष इस मेले में 46 हजार से अधिक किसानों 

हौसला रखें, रबी फसल बचाने के करें उपाय और खरीफ में जरूर कराएं बीमा

Posted On March - 13 - 2016 Comments Off on हौसला रखें, रबी फसल बचाने के करें उपाय और खरीफ में जरूर कराएं बीमा
उपेन्द्र पाण्डेय बीते दो दिनों के भीतर हरियाणा उत्तरी जिलों पंचकूला और यमुनानगर से लेकर सुदूर दक्षिण में मेवात, रेवाड़ी, भिवानी तक, पंजाब में रोपड़, पठानकोट से लेकर पटियाला, बठिंडा, मोगा तक, हिमाचल में ऊना से लेकर नाहन तक, यूपी में सहारनपुर, गाजियाबाद, मेरठ, आगरा, मथुरा, राजस्थान के भिवाड़ी, श्रीगंगानगर, अलवर तक से किसान भाइयों के जितने फोन आए, इतने तो बीते एक पखवारे में भी नहीं आए 

अनुदान भी बेअसर, गन्ने का घटता रकबा बना चुुनौती

Posted On March - 13 - 2016 Comments Off on अनुदान भी बेअसर, गन्ने का घटता रकबा बना चुुनौती
अरविंद शर्मा हरियाणा के यमुनानगर , अंबाला, कुरूक्षेत्र, कैथल, करनाल, पानीपत, रोहतक, सोनीपत आदि इलाकों मेेंं गन्ने की खेती की जाती है। इन क्षेत्रों में सहकारी व निजी चीनी मिल भी हैं। जिला यमुनानगर व इससे लगते जिलों की पहंचान गन्ना की खेती को लेकर भी है। पापुलर के साथ गन्ने की फसल को कैश क्राप माना जाता है,लेकिन बीते कुछ सालों से विभिन्न कारणों के चलते लगातार घट रहा गन्ने का रकबा गन्ना 

अंबेडकर पर राजनीति न हो…

Posted On March - 13 - 2016 Comments Off on अंबेडकर पर राजनीति न हो…
पिछले रविवार मुझे करनाल के दयाल सिंह मजीठिया कालेज में अंबेडकर पर आयोजित राष्ट्रीय सेमिनार में उद्घाटन भाषण देने के लिए आमंत्रित किया गया। सेमिनार का विषय था, ‘ अंडरस्टेंडिंग भारत रत्न डा. बी.आर. अंबेडकर’।’ क्योंकि यह सेमिनार कालेज के राजनीति विज्ञान विभाग द्वारा आयोजित किया गया था और विधिवत‍् प्रशिक्षित राजनीति विज्ञानी होने के नाते मैंने वह निमंत्रण सहर्ष स्वीकार कर लिया। 

खाद्य प्रसंस्करण में पूंजी निवेश से खुशहाली की नयी उम्मीदें

Posted On March - 6 - 2016 Comments Off on खाद्य प्रसंस्करण में पूंजी निवेश से खुशहाली की नयी उम्मीदें
कुमार मुकेश केंद्र सरकार द्वारा हाल ही में पेश किए गए आम बजट को जहां गांव खेती का बजट बताया जा रहा है वहीं कृषि वैज्ञानिक खाद्य प्रसंस्करण में पूंजी निवेश को किसानों और बाज़ार दोनों के लिये खुशहाली की नयी उम्मीद मान रहे हैं। किसान आयोग के सदस्य सचिव प्रोफेसर आरएस दलाल ने बताया कि यह बजट किसानों के लिए काफी अच्छा है। उन्होंने बताया कि सरकार ने सर्विस टैक्स में 0.5 प्रतिशत का टैक्स 

बिना ‘एसी’ के साल भर करें मशरूम की खेती

Posted On March - 6 - 2016 Comments Off on बिना ‘एसी’ के साल भर करें मशरूम की खेती
हरियाणा कृषि उद्योग निगम (हैक) मुरथल, सोनीपत के कृषि अनुसंधान एवं विकास केंद्र में मशरूम उत्पादन तकनीक पर बीते सप्ताह प्रदेशस्तरीय प्रशिक्षण शिविर लगा। यह शिविर मशरूम उत्पादन में रुचि रखने वाले किसानों के लिये बहुत उपयोगी रहा। प्रशिक्षण शिविर में पूरे प्रदेश से 65 युवक-युवतियां भाग लिया। समापन समारोह के मुख्यातिथि भाजपा नेता मोहन लाल बड़ौली थे। इस मौके पर मुख्यातिथि ने कहा 

औसत उपज कम है तो क्या, गेहूं की क्वालिटी से जीतिये बाजी

Posted On March - 6 - 2016 Comments Off on औसत उपज कम है तो क्या, गेहूं की क्वालिटी से जीतिये बाजी
उपेन्द्र पाण्डेय हरियाणा में छछरौली यमुनानगर के कृष्ण कुमार, फरीदाबाद के कमल शर्मा, सहारनपुर यूपी से मोहम्मद खालिद, हिमाचल में नाहन के परमजीत तनेजा और लुधियाना के जगमीत पटियाल की एक ही चिंता है कि मौसम के असर से कनक (गेहूं) की फसल कमजोर है और जितनी लागत लग गई, वह भी निकलने के आसार नजर नहीं आ रहे हैं। उत्पादन कम हुआ है लेकिन गेहूं की चमक बढिया है। इनका सवाल है कि केंद्र सरकार जिस अनुपात 

अमर-अकबर-एंथनी की नयी तिकड़ी

Posted On March - 6 - 2016 Comments Off on अमर-अकबर-एंथनी की नयी तिकड़ी
काॅफी पर गपशप हरीश खरे शुक्रवार की सुबह, हर कोई जमानत पर रिहा हुए जेएनयू छात्र संघ के अध्यक्ष कन्हैया कुमार के बृहस्पतिवार की रात को दिये गये भाषण की बात कर रहा था। तभी दिल्ली के एक पुराने साथी का फोन आया कि ‘भारत को अब अमर , अकबर, एंथनी की नयी तिकड़ी मिल गई है’। उनका संदर्भ कन्हैया, उमर खालिद और रोहित वेमुला से था। यह बात निश्चित रूप से चिंतन करने वाली थी। क्या 

तरबूज की तरावट में मिलाया विटामिनों का सेहत मंत्र

Posted On February - 28 - 2016 Comments Off on तरबूज की तरावट में मिलाया विटामिनों का सेहत मंत्र
वीरेन्द्र प्रमोद पंजाब कृषि विश्व विद्यालय के विशेषज्ञों ने तरबूज की एक ऐसी हाइब्रिड किस्म जारी की है जिससे किसानों को होगी लाखों की आमदनी और खाने वालों को मिलेगा ज्यादा स्वाद व पौष्टिकता वाला तरबूज। कृषि विशेषज्ञ अनुसार केवल तीन माह के समय में इसकी फसल  तैयार हो जाती है । यदि किसान गंभीरता से इस फल की फसल का ध्यान करें तो वे अपने उत्पादन को एक लाख रुपये प्रति एकड़ की दर से बेच 

इंग्लैंड जाएंगे लुवास के शिक्षक और शोधार्थी

Posted On February - 28 - 2016 Comments Off on इंग्लैंड जाएंगे लुवास के शिक्षक और शोधार्थी
कुमार मुकेश इंग्लैंड के विश्व प्रसिद्ध दी पिरब्राईट संस्थान अनुसंधान केंद्र का लुवास के कुछ युवा वैज्ञानिक व विद्यार्थी इस वर्ष दौरा कर सकते है। लुवास विश्वविद्यालय द्वारा पिछले वर्ष 27 अगस्त को इस संस्थान के साथ सहमति पत्र पर हस्ताक्षर किये हैं और इसी के अंतर्गत युवा वैज्ञानिक व विद्यार्थी ट्रेनिंग के लिए भेजे जाएंगे। यह बात लाला लाजपत राय पशु चिकित्सा एवं पशु विज्ञान विश्वविद्यालय 

गेहूं में हो आर्गेनिक का दम तो मोल न होगा ‘कनक’ से कम

Posted On February - 28 - 2016 Comments Off on गेहूं में हो आर्गेनिक का दम तो मोल न होगा ‘कनक’ से कम
उपेंद्र पाण्डेय हिमाचल प्रदेश में धर्मपुर-कसौली के किसान दंपति सुनन्दा और प्रभात शर्मा के पास कहने को तो दो एकड़ खेती है। किंतु उन्हें पहाड़ियों की ढलान-उठान के बीच छोटी-छोटी क्यारियों में बंटे इन खेतों में जितना ज्यादा श्रम करना पड़ता है, उससे आधी मेहनत में रोपड़ की उनकी बहन प्रीति शर्मा के 10 एकड़ खेतों में फसल लहलहा उठती है। दो साल पहले तक सुनन्दा को उनके कनक का इतना भी मोल नहीं 

समाचार में हाल लोकप्रिय

Powered by : Mediology Software Pvt Ltd.