कम्युनिस्टों से खफा-खफा बापू !    कोजी कोजी ठंड !    उलट सियासी विचार वाले साथी संग दो पल !    डाकिया थनप्पा खुशी बांचता गम छिपाता !    मैं हूं मीरा !    स्ट्रीट फूड बनारस का !    भारतीय जवान को पाक ने साढ़े 3 माह बाद छोड़ा !    लिव-इन-रिलेशनशिप में दिक्कत नहीं !    खबर है कि !    हल्दी का सीन करते नम हुई आंखें !    

तन-मन › ›

फ़ीचर्ड न्यूज़
मुंहासों से बचायें ये उपाय

मुंहासों से बचायें ये उपाय

ये बिन बुलाए आते हैं और लंबे समय तक रहते हैं। एक्ने यानी मुंहासे ऐसी समस्या है, जिसका सामना ज्यादातर लोगों को करना पड़ता है। संतुलित आहार और पर्याप्त पानी पीकर मुंहासों से बचा जा सकता है। त्वचा विशेषज्ञ चिरंजीव छाबड़ा ने बताये हैं मुंहासों को दूर करने के कुछ ...

Read More

विचारों को रोकने का प्रयास करो ही नहीं

विचारों को रोकने का प्रयास करो ही नहीं

तुम्हारे विचारों की कोई जड़ें नहीं हैं, उनका कोई घर नहीं है; वे बादलों की तरह भटकते हैं। इसलिए तुम्हें उनके साथ संघर्ष नहीं करना है, तुम्हें उनके विपरीत नहीं होना है, तुम्हें उन्हें रोकने का भी प्रयास नहीं करना है। यह तुम्हारे भीतर गहरी समझ बन जानी चाहिए, क्योंकि ...

Read More

कैंसर के इलाज में काम आएगी पीपली

कैंसर के इलाज में काम आएगी पीपली

भोजन को मसालेदार बनाने के लिए मशहूर भारतीय पीपली का उपयोग जल्द ही कैंसर के इलाज की प्रभावी दवा तैयार करने में किया जा सकता है। बायोलॉजिकल केमिस्ट्री जर्नल में प्रकाशित एक अध्ययन के अनुसार पीपली में एक ऐसा रसायन पाया जाता है जो शरीर को उस एंजाइम बनाने से ...

Read More

जाड़े में जोड़ों को चुस्त, दिल को दुरुस्त रखे अलसी

जाड़े में जोड़ों को चुस्त, दिल को दुरुस्त रखे अलसी

सर्दी के इन दिनों में अलसी खाने से जहां जोड़ों के दर्द से राहत मिलती है, वहीं कई अन्य फायदे भी होते हैं। आहार विशेषज्ञ अंजलि मुखर्जी के मुताबिक यदि गठिया की दिक्कत हो तो दिन में 2 बार अलसी के बीज व पाउडर लेने से जोड़ों में सूजन व ...

Read More

बढ़ती सर्दी में सेहत बढ़े, वजन नहीं

बढ़ती सर्दी में सेहत बढ़े, वजन नहीं

मृदुला वत्स, पीजीआई चंडीगढ़ के डाइटेटिक्स विभाग की पूर्व एचओडी मेटाबॉलिज्म, यानी हमारे पाचन से जुड़ी प्रक्रिया। यह प्रक्रिया सर्दियों में अकसर मंद पड़ जाती है। इसीलिए इस मौसम में कई लोगों का वजन बढ़ने लगता है। लेकिन, मेटाबॉलिज्म के मंद पड़ने का कारण ठंड नहीं, बल्कि हमारे खान-पान और जीवनशैली ...

Read More

उल्लास से समेटिये उजाला

उल्लास से समेटिये उजाला

केवल तिवारी सूर्य ऊर्जा का स्रोत है। ऊर्जा से आनंद है। आनंद है तो जीवन में उजाला है। उजाला यानी उल्लास। आत्मसात करने के लिए। दूसरों को रोशन करने के लिए। प्रार्थना से। खानपान से। यही है माघ महीने का संदेश। हिंदू पंचांग का 11वां महीना। एक खास महीना। उत्सव का ...

Read More

कैल्शियम कितना जरूरी!

कैल्शियम कितना जरूरी!

हमारे शरीर में कुल कैल्शियम का 99 फीसदी हड्डियों और दांतों में जमा होता है। बाकी एक फीसदी खून, मांसपेशियों और कोशिकाओं में होता है। इंडियन काउंसिल ऑफ मेडिकल रिसर्च के मुताबिक... 600 मिली ग्राम कैल्शियम हर रोज जरूरी होता है 1 से 9 साल की उम्र के बच्चों के लिए 10 ...

Read More


हल्दी दिल की दोस्त, कैंसर की दुश्मन

Posted On December - 14 - 2016 Comments Off on हल्दी दिल की दोस्त, कैंसर की दुश्मन
आयुर्वेद और प्राकृतिक चिकित्सा में चमत्कारी औषधि के ‘खिताब’ से नवाजी गयी हल्दी वैज्ञानिकों की भी पसंद बन गयी है। कई अध्ययनों में कैंसर, दिल की बीमारी, डिमेंशिया, गठिया और सोरायसिस जैसी बीमारियों की रोकथाम में भारतीय मसालों की इस ‘सरताज’ को कारगर पाया गया है। राष्ट्रपति के निजी चिकित्सक पद्मश्री प्रोफसर मोहसिन वली का कहना है कि हल्दी का लोहा अब वैज्ञानिक भी ....

कंट्रोल पैनल हैं आपके हाथ

Posted On December - 14 - 2016 Comments Off on कंट्रोल पैनल हैं आपके हाथ
मुद्रा शब्द का शाब्दिक अर्थ होता है मोहर या ठप्पा। यह हाथों की एक खास स्थिति है। मुद्राएं आपके शरीर को एक खास तरीके से व्यवस्थित करने का सूक्ष्म विज्ञान हैं। आप महज अपनी हथेलियों की स्थिति बदल कर ही अपने सिस्टम के काम करने के तरीके को बदल सकते हैं। यह अपने आप में एक पूरा विज्ञान है, जो वास्तव में शरीर की ज्यामिति ....

याददाश्त बढ़ाती है गहरी सांस

Posted On December - 14 - 2016 Comments Off on याददाश्त बढ़ाती है गहरी सांस
अकसर सलाह दी जाती है कि गुस्से, तनाव या डर की स्थिति में खुद को शांत करने के लिए नाक से लंबी गहरी सांस लेनी चाहिये। अब, एक नये शोध में यह बात साबित हुई है कि सांस लेने की यह तकनीक सच में दिमाग पर अच्छा प्रभाव डालती है। ऐसा प्रभाव जिससे याद रखने की क्षमता बढ़ती है। इस नतीजे पर पहुंचने के ....

दुख की चिंता क्यों सताती है

Posted On December - 14 - 2016 Comments Off on दुख की चिंता क्यों सताती है
दुनिया में शायद ही कोई ऐसा व्यक्ति हो जिसने अपने जीवन में कभी निराशा का दंश न झेला हो। निराशा का तन और मन दोनों पर बुरा प्रभाव पड़ता है। धर्मवीर भारती के नाटक ‘अंधायुग’ का एक संवाद याद आ रहा है- ‘मर्यादा मत तोड़ो, तोड़ी हुई मर्यादा, कुचले हुए अजगर-सी, कौरव वंश को, अपनी गुंजलिका में लपेटकर, सूखी लकड़ी-सा तोड़ डालेगी।’ ....

चुपके-से नजर चुराये मीठा

Posted On December - 7 - 2016 Comments Off on चुपके-से नजर चुराये मीठा
हमारे देश में डायबिटीज के मामले तेजी से बढ़ रहे हैं। यहां तक कि बच्चों और युवाओं को भी यह रोग घेर रहा है। करीब 41 करोड़ लोग इससे जूझ रहे हैं। ....

प्रोटीन, कैल्शियम से भरी रागी

Posted On December - 7 - 2016 Comments Off on प्रोटीन, कैल्शियम से भरी रागी
रागी को सबसे पौष्टिक अनाजों में से एक माना जाता है। इसमें ऐसा प्रोटीन मौजूद होता है, जिसका पाचन शरीर आसानी से कर लेता है। स्वास्थ्य के लिए बहुत जरूरी कई अमिनो एसिड रागी में पाए जाते हैं, जिनकी अधिकांश दूसरे अनाजों में कमी होती है। राष्ट्रीय पोषण संस्थान के मुताबिक 100 ग्राम रागी में करीब 344 मिलीग्राम कैल्शियम होता है। यह अनाजों के मुकाबले कहीं ज्यादा है। कैल्शियम हमारी हड्डियों और दांतों 

खुद को स्वीकारें

Posted On December - 7 - 2016 Comments Off on खुद को स्वीकारें
एक गुलाब का फूल, गुलाब का फूल है, उसके कुछ और होने का प्रश्न ही नहीं उठता। और एक कमल का फूल, कमल का फूल है। ....

दिल के लिए घातक है कम नींद!

Posted On December - 7 - 2016 Comments Off on दिल के लिए घातक है कम नींद!
ज्यादा समय तक काम करना और कम समय सोना दिल के स्वास्थ्य के लिए खतरनाक साबित हो सकता है। जर्मनी के बॉन विश्वविद्यालय के शोधकर्ताओं ने पाया कि एेसे लोग जो 24 घंटे की शिफ्ट वाली तनाव भरी नौकरी करते हैं, जिन्हें सोने के लिए बहुत कम मिलता है, उनमें ब्लड प्रेशर और दिल की धड़कन असामान्य होने की समस्या बढ़ जाती है। इस नतीजे पर पहुंचने के लिए शोधकर्ताओं ने अपने अध्ययन में 20 स्वस्थ रेडियोलॉजिस्ट 

गीता सुनें-पढ़ें… उससे भी अच्छा है जुड़ें

Posted On December - 7 - 2016 Comments Off on गीता सुनें-पढ़ें… उससे भी अच्छा है जुड़ें
स्वामीजी गीता से जुड़ने की बात कहते हैं क्योंकि वो गीता से जुड़ने को अपेक्षाकृत अच्छा मानते हैं। गीता से जुड़ने का क्या अर्थ है? क्या हम गीता से जुड़े हुए नहीं हैं? हम सब इस धार्मिक, आध्यात्मिक व जीवनोपयोगी मनोवैज्ञानिक ग्रंथ को हर दृष्टि से महत्व देते हैं। हम सब गीता को एक पवित्र ग्रंथ मानते हैं, इसकी पूजा करते हैं। ....

ध्यान के लिए इन पर करें गौर

Posted On November - 30 - 2016 Comments Off on ध्यान के लिए इन पर करें गौर
आंखें बंद करके शांत बैठना कठिन लगता है? इसके लिए चिंता न करें, आप अकेले ऐसे नहीं हैं। ये कुछ सरल उपाय हैं, उनके लिए जो ध्यान लगाना चाहते हैं… 1. ध्यान वास्तव में विश्राम का समय है, इसलिए इसे अपनी सुविधा के अनुसार करें। ऐसा समय चुनें, जिसमें आप को कोई परेशान न कर सके और आप विश्राम और आनंद लेने के लिये स्वतंत्र हो। सूर्योदय और सूर्यास्त का समय जब प्रकृति दिन और रात में परिवर्तित होती 

ब्रेन स्ट्रोक : समय पर संभलिये

Posted On November - 30 - 2016 Comments Off on ब्रेन स्ट्रोक : समय पर संभलिये
कभी उम्रदराज लोगों की बीमारी समझे जाने वाले ब्रेन स्ट्रोक की चपेट में अब युवा भी आ रहे हैं। हार्ट अटैक की तरह इसे ब्रेन अटैक भी कहा जा सकता है। यह अटैक या स्ट्रोक तब होता है, जब थक्के के कारण कोई नस अचानक  बंद हो जाने से दिमाग के किसी हिस्से तक खून नहीं पहुंच पाता, या कोई नस फट जाने से दिमाग में खून लीक हो जाता है। ब्रेन स्ट्रोक के कारण शरीर के किसी भी हिस्से पर असर पड़ सकता है। इसके कारण अकसर 

नन्ही आंखों की नींद उड़ा रही ‘नीली रोशनी’

Posted On November - 30 - 2016 Comments Off on नन्ही आंखों की नींद उड़ा रही ‘नीली रोशनी’
डॉ. निधि चोपड़ा,  नेत्र विशेषज्ञ, कोलंबिया एशिया हॉस्पिटल, गुरुग्राम 15 साल का अमरदीप बिलकुल स्वस्थ था, लेकिन पिछले कुछ दिनों से उसे सिर दर्द रहने लगा।  मां को लगा कि उसकी नींद पूरी नहीं हो पा रही है। वो देर रात तक मोबाइल फोन या टैब पर टकटकी जो लगाये रहता है। डॉक्टर को दिखाया तो पला चला कि सिर दर्द की वजह है वो नीली रोशनी, जो मोबाइल फोन और टैब वगैरह की स्क्रीन से निकलती है। सूरज 

इन सांसों को चहकने दो

Posted On November - 30 - 2016 Comments Off on इन सांसों को चहकने दो
कहते हैं सांस ही जीवन है। जब तक तन-मन में सांसें हैं, तब तक जिंदगी चलती है। हमारा अस्तित्व सांसों के साथ ही चहकता है, लहकता है। सहज, संगत रूप में सांस लेना वरदान है। जिस तरह हर दिन नया होता है, उसी तरह हर दिन सांसें भी नयी होती हैं। अफसोस इस बात का है कि अधिकतर लोग तनाव और समस्याओं के कारण अपनी सांसों को बोझिल बना लेते हैं और अकसर कहते नजर आते हैं कि उनका दम घुटता है। यह दम घुटना सांसों को पीड़ादायक 

कैंसर के जख्मों पर मरहम बनेगा शहद

Posted On November - 30 - 2016 Comments Off on कैंसर के जख्मों पर मरहम बनेगा शहद
हेल्थ कैप्सूल खांसी-जुकाम ही नहीं, शहद कैंसर तक के इलाज में मदद कर सकता है। आईआईटी खड़गपुर के एक दल ने कई साल के शोध के बाद शहद में छिपा ऐसा फार्मूला खोज निकाला है जो मुंह के कैंसर के जख्मों को भर सकता है। संस्थान के केमिकल इंजीनियरों, बायोटेक्नोलॉजिस्ट और डॉक्टरों ने नैनो टेक्नोलॉजी के जरिये शहद से एक खास तरह का पैच तैयार किया है। शोधकर्ताओं का दावा है कि मुंह के कैंसर की सर्जरी 

शादियों के इस मौसम में ऐसे निखारें त्वचा

Posted On November - 23 - 2016 Comments Off on शादियों के इस मौसम में ऐसे निखारें त्वचा
शादियों के इस मौसम में खिली-खिली त्वचा पाना चाहते हैं तो प्रकृति से मदद मिल सकती है। निखार लाने के लिए बाहरी और अंदरूनी तौर पर त्वचा को खास देखभाल की जरूरत होती है। ....

वजन कम करने से घटेगा कैंसर का खतरा

Posted On November - 23 - 2016 Comments Off on वजन कम करने से घटेगा कैंसर का खतरा
भाग-दौड़ भरी अव्यवस्थित जिंदगी में मोटापा कई रोगों के एक प्रमुख कारक के तौर पर उभरा है। एक नये अध्ययन की मानें तो अधिक वजन से रक्त विकार का खतरा बढ़ जाता है, जो आगे जाकर कैंसर का रूप ले सकता है। ....
Page 2 of 3312345678910...Last »

समाचार में हाल लोकप्रिय

Powered by : Mediology Software Pvt Ltd.