शादी समारोह से बच्चे ने चुराया 3 लाख का बैग !    फर्जी अंगूठा लगाकर मनरेगा के खाते से उड़ाये लाखों !    गुरु की तस्वीरों पर प्रकाश अाभा न दिखाने पर एतराज !    हरियाणा में 2006 के बाद के कर्मियों को भी ग्रेच्युटी !    पहले दिया समर्थन, अब झाड़ा पल्ला !    सप्ताह भर में न भरा टैक्स तो टावर होंगे सील !    पेंशन की दरकार, एसडीएम कार्यालय पर प्रदर्शन !    परियोजना वर्करों की देशव्यापी हड़ताल कल !    आईएस का हाथ था कानपुर रेल हादसे में !    आज फिर चल पड़ेगी नेताजी की कार !    

तन-मन › ›

फ़ीचर्ड न्यूज़
मुंहासों से बचायें ये उपाय

मुंहासों से बचायें ये उपाय

ये बिन बुलाए आते हैं और लंबे समय तक रहते हैं। एक्ने यानी मुंहासे ऐसी समस्या है, जिसका सामना ज्यादातर लोगों को करना पड़ता है। संतुलित आहार और पर्याप्त पानी पीकर मुंहासों से बचा जा सकता है। त्वचा विशेषज्ञ चिरंजीव छाबड़ा ने बताये हैं मुंहासों को दूर करने के कुछ ...

Read More

विचारों को रोकने का प्रयास करो ही नहीं

विचारों को रोकने का प्रयास करो ही नहीं

तुम्हारे विचारों की कोई जड़ें नहीं हैं, उनका कोई घर नहीं है; वे बादलों की तरह भटकते हैं। इसलिए तुम्हें उनके साथ संघर्ष नहीं करना है, तुम्हें उनके विपरीत नहीं होना है, तुम्हें उन्हें रोकने का भी प्रयास नहीं करना है। यह तुम्हारे भीतर गहरी समझ बन जानी चाहिए, क्योंकि ...

Read More

कैंसर के इलाज में काम आएगी पीपली

कैंसर के इलाज में काम आएगी पीपली

भोजन को मसालेदार बनाने के लिए मशहूर भारतीय पीपली का उपयोग जल्द ही कैंसर के इलाज की प्रभावी दवा तैयार करने में किया जा सकता है। बायोलॉजिकल केमिस्ट्री जर्नल में प्रकाशित एक अध्ययन के अनुसार पीपली में एक ऐसा रसायन पाया जाता है जो शरीर को उस एंजाइम बनाने से ...

Read More

जाड़े में जोड़ों को चुस्त, दिल को दुरुस्त रखे अलसी

जाड़े में जोड़ों को चुस्त, दिल को दुरुस्त रखे अलसी

सर्दी के इन दिनों में अलसी खाने से जहां जोड़ों के दर्द से राहत मिलती है, वहीं कई अन्य फायदे भी होते हैं। आहार विशेषज्ञ अंजलि मुखर्जी के मुताबिक यदि गठिया की दिक्कत हो तो दिन में 2 बार अलसी के बीज व पाउडर लेने से जोड़ों में सूजन व ...

Read More

बढ़ती सर्दी में सेहत बढ़े, वजन नहीं

बढ़ती सर्दी में सेहत बढ़े, वजन नहीं

मृदुला वत्स, पीजीआई चंडीगढ़ के डाइटेटिक्स विभाग की पूर्व एचओडी मेटाबॉलिज्म, यानी हमारे पाचन से जुड़ी प्रक्रिया। यह प्रक्रिया सर्दियों में अकसर मंद पड़ जाती है। इसीलिए इस मौसम में कई लोगों का वजन बढ़ने लगता है। लेकिन, मेटाबॉलिज्म के मंद पड़ने का कारण ठंड नहीं, बल्कि हमारे खान-पान और जीवनशैली ...

Read More

उल्लास से समेटिये उजाला

उल्लास से समेटिये उजाला

केवल तिवारी सूर्य ऊर्जा का स्रोत है। ऊर्जा से आनंद है। आनंद है तो जीवन में उजाला है। उजाला यानी उल्लास। आत्मसात करने के लिए। दूसरों को रोशन करने के लिए। प्रार्थना से। खानपान से। यही है माघ महीने का संदेश। हिंदू पंचांग का 11वां महीना। एक खास महीना। उत्सव का ...

Read More

कैल्शियम कितना जरूरी!

कैल्शियम कितना जरूरी!

हमारे शरीर में कुल कैल्शियम का 99 फीसदी हड्डियों और दांतों में जमा होता है। बाकी एक फीसदी खून, मांसपेशियों और कोशिकाओं में होता है। इंडियन काउंसिल ऑफ मेडिकल रिसर्च के मुताबिक... 600 मिली ग्राम कैल्शियम हर रोज जरूरी होता है 1 से 9 साल की उम्र के बच्चों के लिए 10 ...

Read More


ठंड में धूप-पानी से लीजिये सेहत की खुराक

Posted On November - 23 - 2016 Comments Off on ठंड में धूप-पानी से लीजिये सेहत की खुराक
मौसम करवट ले चुका है। रातें ठंडी हो चुकी हैं। धूप भी थोड़ी सुहाने लगी है। यह वक्त है विटामिन-डी की प्राकृतिक खुराक लेने का। धूप से मिलने वाली यह खुराक न सिर्फ हमारी हड्डियों के लिए जरूरी है, बल्कि हमें अवसाद और हार्ट अटैक तक से बचा सकती है। ....

ऐसे बढ़ायें जिगर की जान

Posted On November - 23 - 2016 Comments Off on ऐसे बढ़ायें जिगर की जान
हम जो भी खाते-पीते हैं, उसका अच्छा-बुरा असर सीधे लिवर यानी जिगर पर पड़ता है। लिवर का काम खाने को सिर्फ पचाने तक सीमित नहीं है। यह शरीर की करीब 500 गतिविधियों में शामिल रहता है। ....

…पर असल तो छोड़ दिया

Posted On November - 23 - 2016 Comments Off on …पर असल तो छोड़ दिया
जो चीज भी बदलती हो, वह माया है, वह संसार है, वह असत्य है, सपना है। और जो चीज सदा शाश्वत रहती हो और कभी न बदलती हो, वही परमात्मा है। तुम इस सूत्र को अगर ठीक से पकड़ लो, तो आज नहीं तो कल, तुम अपने भीतर उसको खोज लोगे, जो कभी नहीं बदलता है। ....

नकली शान के पीछे दौड़े

Posted On November - 23 - 2016 Comments Off on नकली शान के पीछे दौड़े
लोग प्रतिष्ठा दें, इसके लिए तुम जीवन गंवा देते हो। लोगों की प्रतिष्ठा का क्या अर्थ है? कौन हैं ये लोग जिनकी प्रतिष्ठा के लिए तुम दीवाने हो? ये वे ही लोग हैं जो तुम्हारी प्रतिष्ठा के लिए दीवाने हैं। ....

झूठी दौलत को पकड़ा…

Posted On November - 23 - 2016 Comments Off on झूठी दौलत को पकड़ा…
एक आदमी नोट इकट्ठे करता जा रहा है। वह कभी नहीं सोचता कि नोट सिर्फ एक मान्यता है। कल सरकार बदल जाए, कानून बदल जाए, सरकार तय कर ले कि ये नोट रद्द हुए, काम के न रहे, तो कागज हो गए। ....

दर्द भी दूर करता है एलोवेरा

Posted On November - 16 - 2016 Comments Off on दर्द भी दूर करता है एलोवेरा
एलोवेरा कई गुणों से भरा है। यह शरीर को शुद्ध करता है। कोलेस्ट्रॉल को कम करता है। अम्ल बनने से रोकता है। एलोवेरा के पत्ते को काट कर उसका जेल चेहरे पर लगाने से कील, मुहांसे, झाइयां, सनबर्न नहीं होते, और यदि हैं तो समाप्त होने लगते हैं। ....

मित्रता की सीमा है, मैत्री असीम

Posted On November - 16 - 2016 Comments Off on मित्रता की सीमा है, मैत्री असीम
मित्रता संबंध है। तुम कुछ लोगों के साथ संबंध बना सकते हो। मैत्री गुणवत्ता है न कि संबंध। इसका किसी दूसरे से कुछ लेना-देना नहीं है; मौलिक रूप से यह तुम्हारी आंतरिक योग्यता है। जब तुम अकेले हो तब भी मैत्रीपूर्ण हो सकते हो। ....

उम्र 5 से कम तो टीवी-मोबाइल बस आधा घंटा

Posted On November - 16 - 2016 Comments Off on उम्र 5 से कम तो टीवी-मोबाइल बस आधा घंटा
कभी टीवी, तो कभी कम्प्यूटर और मोबाइल फोन। बड़ों की तरह बच्चे भी इनसे घंटों चिपके रहते हैं। लेकिन अमेरिका की बाल चिकित्सा से जुड़ी एकेडमी ने राय दी है कि 5 साल से कम उम्र के बच्चों को टीवी या मोबाइल फोन के सामने दिन में आधे घंटे से ज्यादा नहीं बिताना चाहिये। ....

डाइट : बातें हैं बातों का क्या

Posted On November - 16 - 2016 Comments Off on डाइट : बातें हैं बातों का क्या
यह गलत धारणा है कि मजबूत मांसपेशियों के लिए ज्यादा प्रोटीन लेना चाहिये। सच्चाई ये है कि बहुत ज्यादा प्रोटीन अनावश्यक होता है और नुकसान भी पहुंचा सकता है। ....

बचाए रखें बचपना

Posted On November - 16 - 2016 Comments Off on बचाए रखें बचपना
आमतौर पर देखने में आता है कि वे लोग मन के अनमनेपन और तन की थकान से हमेशा दूर रहते हैं जिनका बचपना बड़े होकर भी बना रहता है। जो जिंदगी की भागमभाग में भी बचपन वाली थोड़ी सी निश्छलता और बेफिक्री बचाये रहते हैं, वे खुद को मानसिक और शारीरिक तकलीफों से भी दूर रखते हैं। ....

इस मौसम में कई रोगों से बचाये गिलोय

Posted On November - 9 - 2016 Comments Off on इस मौसम में कई रोगों से बचाये गिलोय
वायरल और डेंगू जैसी बीमारियों के इस ‘मौसम’ में गिलोय बेहद उपयोगी है। आयुर्वेद में इसे अमृतस्वरूप माना गया है, इसलिए इसे अमृता भी कहा जाता है। एंटीऑक्सीडेंट्स से भरपूर गिलोय रोगों से लड़ने की हमारी ताकत बढ़ाता है। यह शरीर में फ्री रेडिकल्स को कम करके हमारी कोशिकाओं को स्वस्थ रखने में मदद करता है। इसके सेवन से खून में प्लेटलेट्स बढ़ते हैं और डेंगू, चिकनगुनिया जैसे बुखार का असर कम होता 

न चले मीठे का वार

Posted On November - 9 - 2016 Comments Off on न चले मीठे का वार
फाइबर से फायदा आहार में फाइबर यानी रेशेदार खाद्य पदार्थ शामिल करने से ब्लड शुगर को बेहतर नियंत्रित किया जा सकता है। फल, सब्जियां, होल ग्रेन (साबुत अनाज) और दालें फाइबर से भरपूर होती हैं। गेहूं के आटे में चोकर मिलाने से उसमें न सिर्फ फाइबर बढ़ता है, बल्कि विटामिन-बी भी बढ़ता है। इनके अलावा दिन में दो बार भोजन से पहले ईसबगोल या ग्वार गम का एक चम्मच (दिन में 15 ग्राम से ज्यादा नहीं) लेने से भी 

किसी के जैसा बनने की कोशिश कितनी सही?

Posted On November - 9 - 2016 Comments Off on किसी के जैसा बनने की कोशिश कितनी सही?
लोग हमेशा सोचते हैं कि उनका एक रोल-मॉडल होना चाहिए। रोल-मॉडल रखने का अर्थ है कि आप कुछ और बनने की कोशिश कर रहे हैं, जो आप नहीं हैं। इस कोशिश में इंसान के स्वाभाविक गुण खो जाते हैं। वह अपने से अलग कुछ और बनने की जी-तोड़ कोशिश में लगा रहता है। इससे वह सहज होने की सारी काबिलियत खो देता है। आप खुद की असलियत को नहीं जान पाते क्योंकि आप किसी के काम की नकल करना चाहते हैं। बचपन से ही आपको किसी न किसी 

हेल्थ कैप्सूल

Posted On November - 9 - 2016 Comments Off on हेल्थ कैप्सूल
दांतों की सेहत  चुरा रही चीनी दांतों को लंबे समय तक स्वस्थ रखना चाहते हैं तो चीनी, ज्यादा मीठे वाले ड्रिंक और जंकफूड से परहेज करें। एम्स के डॉक्टरों ने चेताया है कि हमारे देश में डेंटल हेल्थ के हालात काफी चिंताजनक हैं। चीनी युक्त पेय पदार्थ और जंक फूड का ज्यादा सेवन स्थिति को और खराब बना रहा है। चीनी के ज्यादा सेवन की आदत नशे का रूप ले रही है और इसके कारण दांतों में समस्याएं पैदा 

खिलेगा मन और बासी हो जायेगी उदासी

Posted On November - 9 - 2016 Comments Off on खिलेगा मन और बासी हो जायेगी उदासी
केवल तिवारी उदासी। मन का एक भाव। अभाव जिसका कारण। अभाव संसाधनों का। अभाव मन मुताबिक मौसम का। अभाव उत्सव का। उत्सव आते हैं तो मन प्रफुल्लित हो जाता है। उत्सव के बीतने पर मन उदास सा हो जाता है। जैसा इन दिनों हो रहा है। पांच दिनों का दिवाली पर्व बीता तो एक अजीब उदासी-सी आ गयी। आगे कुछ दिन मौसम उदास करेगा। कभी कुहासा तो कभी शीत लहर। लेकिन उदासी का यह माहौल यूं ही नहीं आता। यही तो वह वक्त 

कहता है दीपक…

Posted On October - 26 - 2016 Comments Off on कहता है दीपक…
कहा जाता है कि अप्प दीपो भव: यानी स्वयं दीपक बनो। पहले अपने मन को प्रकाशित करो और फिर औरों के जीवन को। रोशनी की रवायत का पर्व दिवाली पुरुषार्थ और आत्मसाक्षात्कार का पर्व भी है। झिलमिलाते उजाले के बीच अंतर्मन के उजाले से रूबरू होने का। ....
Page 3 of 3312345678910...Last »

समाचार में हाल लोकप्रिय

Powered by : Mediology Software Pvt Ltd.