शादी समारोह से बच्चे ने चुराया 3 लाख का बैग !    फर्जी अंगूठा लगाकर मनरेगा के खाते से उड़ाये लाखों !    गुरु की तस्वीरों पर प्रकाश अाभा न दिखाने पर एतराज !    हरियाणा में 2006 के बाद के कर्मियों को भी ग्रेच्युटी !    पहले दिया समर्थन, अब झाड़ा पल्ला !    सप्ताह भर में न भरा टैक्स तो टावर होंगे सील !    पेंशन की दरकार, एसडीएम कार्यालय पर प्रदर्शन !    परियोजना वर्करों की देशव्यापी हड़ताल कल !    आईएस का हाथ था कानपुर रेल हादसे में !    आज फिर चल पड़ेगी नेताजी की कार !    

तन-मन › ›

फ़ीचर्ड न्यूज़
मुंहासों से बचायें ये उपाय

मुंहासों से बचायें ये उपाय

ये बिन बुलाए आते हैं और लंबे समय तक रहते हैं। एक्ने यानी मुंहासे ऐसी समस्या है, जिसका सामना ज्यादातर लोगों को करना पड़ता है। संतुलित आहार और पर्याप्त पानी पीकर मुंहासों से बचा जा सकता है। त्वचा विशेषज्ञ चिरंजीव छाबड़ा ने बताये हैं मुंहासों को दूर करने के कुछ ...

Read More

विचारों को रोकने का प्रयास करो ही नहीं

विचारों को रोकने का प्रयास करो ही नहीं

तुम्हारे विचारों की कोई जड़ें नहीं हैं, उनका कोई घर नहीं है; वे बादलों की तरह भटकते हैं। इसलिए तुम्हें उनके साथ संघर्ष नहीं करना है, तुम्हें उनके विपरीत नहीं होना है, तुम्हें उन्हें रोकने का भी प्रयास नहीं करना है। यह तुम्हारे भीतर गहरी समझ बन जानी चाहिए, क्योंकि ...

Read More

कैंसर के इलाज में काम आएगी पीपली

कैंसर के इलाज में काम आएगी पीपली

भोजन को मसालेदार बनाने के लिए मशहूर भारतीय पीपली का उपयोग जल्द ही कैंसर के इलाज की प्रभावी दवा तैयार करने में किया जा सकता है। बायोलॉजिकल केमिस्ट्री जर्नल में प्रकाशित एक अध्ययन के अनुसार पीपली में एक ऐसा रसायन पाया जाता है जो शरीर को उस एंजाइम बनाने से ...

Read More

जाड़े में जोड़ों को चुस्त, दिल को दुरुस्त रखे अलसी

जाड़े में जोड़ों को चुस्त, दिल को दुरुस्त रखे अलसी

सर्दी के इन दिनों में अलसी खाने से जहां जोड़ों के दर्द से राहत मिलती है, वहीं कई अन्य फायदे भी होते हैं। आहार विशेषज्ञ अंजलि मुखर्जी के मुताबिक यदि गठिया की दिक्कत हो तो दिन में 2 बार अलसी के बीज व पाउडर लेने से जोड़ों में सूजन व ...

Read More

बढ़ती सर्दी में सेहत बढ़े, वजन नहीं

बढ़ती सर्दी में सेहत बढ़े, वजन नहीं

मृदुला वत्स, पीजीआई चंडीगढ़ के डाइटेटिक्स विभाग की पूर्व एचओडी मेटाबॉलिज्म, यानी हमारे पाचन से जुड़ी प्रक्रिया। यह प्रक्रिया सर्दियों में अकसर मंद पड़ जाती है। इसीलिए इस मौसम में कई लोगों का वजन बढ़ने लगता है। लेकिन, मेटाबॉलिज्म के मंद पड़ने का कारण ठंड नहीं, बल्कि हमारे खान-पान और जीवनशैली ...

Read More

उल्लास से समेटिये उजाला

उल्लास से समेटिये उजाला

केवल तिवारी सूर्य ऊर्जा का स्रोत है। ऊर्जा से आनंद है। आनंद है तो जीवन में उजाला है। उजाला यानी उल्लास। आत्मसात करने के लिए। दूसरों को रोशन करने के लिए। प्रार्थना से। खानपान से। यही है माघ महीने का संदेश। हिंदू पंचांग का 11वां महीना। एक खास महीना। उत्सव का ...

Read More

कैल्शियम कितना जरूरी!

कैल्शियम कितना जरूरी!

हमारे शरीर में कुल कैल्शियम का 99 फीसदी हड्डियों और दांतों में जमा होता है। बाकी एक फीसदी खून, मांसपेशियों और कोशिकाओं में होता है। इंडियन काउंसिल ऑफ मेडिकल रिसर्च के मुताबिक... 600 मिली ग्राम कैल्शियम हर रोज जरूरी होता है 1 से 9 साल की उम्र के बच्चों के लिए 10 ...

Read More


जीवन मंत्र

Posted On August - 17 - 2016 Comments Off on जीवन मंत्र
पिछले रक्षाबंधन के बाद पूरे एक साल तक मैं जिन हालातों से गुज़रा था सभी जानते हैं। करुणा भी मेरे हालात से बेख़बर नहीं थी। मदद तो दूर साल भर उसने न तो कभी हमारे घर आने की ज़रूरत समझी और न ही कुछ पूछताछ करने की। ....

हेल्थ कैप्सूल

Posted On August - 17 - 2016 Comments Off on हेल्थ कैप्सूल
यदि गठिया के दर्द से परेशान हैं तो अपने भोजन में फल-सब्जियां और कम चिकनाई वाले दूध-दहीं की मात्रा बढ़ाएं। अमेरिकन कॉलेज ऑफ रयूमैटोलॉजी के जर्नल में प्रकाशित एक शोध के मुताबिक ऐसा आहार शरीर में यूरिक एसिड घटाने में मदद करता है। ....

इन खिलाड़ियों से सीखें जिंदगी का खेल

Posted On August - 17 - 2016 Comments Off on इन खिलाड़ियों से सीखें जिंदगी का खेल
हौसले सबके होते हैं। सपने सब देखते हैं। फलक सबके लिये होता है। बस जरूरत होती है पंख के लगने की, फिर तो जैसे आसमां भी छोटा पड़ जाता है। लेकिन कई बार या तो भविष्य के चमकते सितारे में कुछ 'शुरुआती कमियां' देख या फिर उनके जीवन में कुछ अनहोनी को देख हम धारणा बदल लेते हैं। ....

दवा बन जाएगी माफी, जरा दिल से दीजिये…

Posted On August - 10 - 2016 Comments Off on दवा बन जाएगी माफी, जरा दिल से दीजिये…
महात्मा बुद्ध ने कहा है- ‘क्रोध को पकड़े रखना वैसा ही है जैसे किसी दूसरे पर फेंकने के लिए हम अपने हाथ में अंगारे पकड़ लें, हाथ अपना ही जलेगा।’ आज विज्ञान भी मानता है कि गुस्से को पकड़े रखने से हमारे तन और मन, दोनों को नुकसान पहुंचता है। ....

आंखें न हों पानी-पानी

Posted On August - 10 - 2016 Comments Off on आंखें न हों पानी-पानी
आंख अतिसंवेदनशील अंगों में से एक है। इसलिए इसे लेकर ज्यादा सावधानी बरतने की जरूरत होती है। आंखें लाल होना हमेशा बीमारी नहीं होती। लेकिन लगातार आंखों से पानी आ रहा हो, आंखें चिपकती हों, तो निश्चित रूप से यह बीमारी है। ....

सावन में खान-पान भी हो पावन

Posted On August - 10 - 2016 Comments Off on सावन में खान-पान भी हो पावन
सावन। मिला-जुला मौसम। रिमझिम फुहारों का महीना। तपिश और उमस का महीना। खान-पान के हिसाब से सतर्क रहने की ऋतु। इसीलिए शायद सात्विक रहने की सलाह दी जाती हो। असल में सावन का वैज्ञानिक महत्व भी है। इस मौसम में फंगस की समस्या रहती है। ....

एंटीबायोटिक बीमारी बढ़ा सकता है इलाज का यह शॉर्टकट

Posted On August - 10 - 2016 Comments Off on एंटीबायोटिक बीमारी बढ़ा सकता है इलाज का यह शॉर्टकट
‘जिंदगी इतनी आपा-धापी वाली बन गयी है, इतनी दौड़-धूप वाली बन गयी है कि कभी-कभी हमें अपने लिए सोचने का समय नहीं मिल पाता। बीमार हो गये, तो मन करता है, जल्दी से ठीक हो जाओ और इसलिए कोई भी एंटीबायोटिक लेकर डाल देते हैं शरीर में। ....

हेल्थ कैप्सूल

Posted On August - 10 - 2016 Comments Off on हेल्थ कैप्सूल
लंबे समय तक बैठे रहना सेहत के लिए ठीक नहीं होता। यह सलाह अकसर दी जाती है। लेकिन एक नये शोध में ऐसा फार्मूला सुझाया गया है जो बैठे रहने से जुड़ी दिक्कतों से बचा सकता है। ....

पंचामृत

Posted On August - 10 - 2016 Comments Off on पंचामृत
तेल से भरे नमकीन की जगह सेहतभरे स्नैक्स का विकल्प तलाश रहे हैं तो मखाना आजमायें। इसमें कोलेस्ट्रॉल व वसा बेहद कम होता है। ....

एक कहानी

Posted On August - 10 - 2016 Comments Off on एक कहानी
एक दिन एक प्रोफेसर अपनी क्लास में आये और छात्रों से बोले कि आज तुम्हारा टेस्ट है। अचानक-से टेस्ट! सभी छात्र थोड़ा हड़बड़ाये। पर टेस्ट तो देना ही पड़ना था, सो तैयार हो गये। ....

एनर्जी ड्रिंक से बढ़ता है एक्ने

Posted On July - 27 - 2016 Comments Off on एनर्जी ड्रिंक से बढ़ता है एक्ने
पंचामृत एक्ने यानी मुंहासों की समस्या हमारे खान-पान से भी जुड़ी है। यह समस्या त्वचा की तैलीय ग्रंथियों के ज्यादा सक्रिय होने पर होती है। वजह कई हैं- जीन्स, हार्मोन, मौसम, तनाव, कॉस्मेटिक्स और आहार। इनमें से आहार की बात करें तो पोषक तत्वों और एंटी ऑक्सीडेंट्स से भरपूर खाना एक्ने को कम करने में मदद करता है। वहीं ज्यादा ग्लाइसेमिक इंडेक्स वाली चीजें यानी जो शरीर में जाकर तेजी से ग्लूकोज 

ध्यान : एक गुण है, कोई काम नहीं

Posted On July - 27 - 2016 Comments Off on ध्यान : एक गुण है, कोई काम नहीं
आप ध्यान को मेडिटेशन समझते हैं तो यह कोई ऐसी चीज नहीं है जिसे आप कर सकते हैं। जिन लोगों ने भी ध्यान करने की कोशिश की है, उनमें से ज्यादातर अंत में इस नतीजे पर पहुंचते हैं कि इसे करना या तो बेहद मुश्किल है या फिर असंभव। और इसकी वजह यह है कि उसे आप करने की कोशिश कर रहे हैं। आप मेडिटेशन नहीं कर सकते, लेकिन आप मेडिटेटिव हो सकते हैं। ध्यान एक खास तरह का गुण है, कोई काम नहीं। अगर आप अपने तन, मन, ऊर्जा 

जूस नहीं, पानी के साथ ही लें दवा

Posted On July - 27 - 2016 Comments Off on जूस नहीं, पानी के साथ ही लें दवा
 हेल्थ कैप्सूल यदि आप पानी के बजाय जूस के साथ दवा लेते हैं तो ऐसा न करें। इंडियन मेडिकल एसोसिएशन (आईएमए) ने एडवाइजरी जारी कर कहा है कि जूस के साथ दवा लेने से उसका असर कम हो जाता है। खासकर हाइपरटेंशन या दिल की बीमारियों की दवा पानी के साथ ही लेनी चाहिये। आईएमए ने यूनिवर्सिटी ऑफ वेस्टर्न ओंटारियो, कनाडा के एक अध्ययन का हवाला देते हुए कहा कि सेब,  संतरे और अंगूरों के जूस कुछ दवाओं की 

छिपकर वार करता है हेपेटाइटिस

Posted On July - 27 - 2016 Comments Off on छिपकर वार करता है हेपेटाइटिस
डॉ. एके मुखोपाध्याय, डीआईजी, कम्पोजिट हॉस्पिटल, आईटीबीपी, चंडीगढ़ दुनियाभर में करीब 40 करोड़ लोग हेपेटाइटिस ‘बी’ और ‘सी’ से संक्रमित हैं। यह आंकड़ा एचआईवी के साथ जी रहे लोगों से 10 गुना ज्यादा है। विश्व स्वास्थ्य संगठन के मुताबिक हेपेटाइटिस बी और सी से संक्रमित 95 फीसदी लोग यह जानते तक नहीं कि उन्हें यह वायरस घेर चुका है। यह वायरस छिपे रहकर हमला करता है। आज वर्ल्ड 

जीवन का आधार है व्यवहार

Posted On July - 27 - 2016 Comments Off on जीवन का आधार है व्यवहार
केवल तिवारी ‘जिंदगी जिंदादिली का नाम है, मुर्दा दिल क्या खाक जीते हैं।’ ‘जो जिंदा है, वही लचीला होता है, मुर्दे तो वरना अकड़ जाते हैं।’ इंसान के लचीलेपन यानी ‘फ्लैक्सिबिटी’ को लेकर कितने सारे जुमले गढ़े गये। कितनी बातें की गयीं और की जा रही हैं। लचीलेपन को कोई व्यावहारिक यानी प्रैक्टिकल होने के बराबर बताता है तो कोई इसे कमजोरी से आंकता है। ऐसे में सवाल उठता है कि क्या हमें लचीला 

अपनी कीमत समझें, खुद में निवेश करें

Posted On July - 20 - 2016 Comments Off on अपनी कीमत समझें, खुद में निवेश करें
कल्पना कीजिये की चिराग से निकला जिन आपसे कहे कि दुनिया की कोई भी एक कार मांग लो। शर्त यह है कि इसके बाद कभी भी आपके पास दूसरी कोई कार नहीं होगी। न खुद कार खरीद सकेंगे, न किसी दूसरे से ले पाएंगे। बस इसी कार से काम चलाना होगा। आप क्या करेंगे? यदि कार ले लेते हैं तो जाहिर है इसे बड़ी हिफाज़त से रखेंगे। जिंदगीभर यही कार चलानी है तो उसके रखरखाव का भी पूरा ध्यान रखेंगे। उसे हमेशा नयी जैसी रखने का 
Page 6 of 33« First...234567891011...Last »

समाचार में हाल लोकप्रिय