कार खाई में गिरने से 3 की मौत !    डीजे पर झगड़ा, दूल्हे के भाई की मौत !    तेजाब हमला नाबालिग बेटियों समेत पिता घायल !    गंभीर आरोप, नहीं मिलेगी जमानत !    प्रशिक्षकों को देंगे 15 लाख का इनाम !    पानीपत में आज फिर होगी बात !    अब भाजपा को रोशन करेंगे 'रवि' !    शराब के लिए पैसे नहीं दिए तो मां को मार डाला !    ‘आवेदन मांगे पर नहीं किए हिंदी शिक्षकों के तबादले’ !    नितिन बने चैंपियन !    

दमखम › ›

फ़ीचर्ड न्यूज़
शाहाबाद को हॉकी का मक्का बनाने वाले बलदेव अब देश की टास्क फोर्स में

शाहाबाद को हॉकी का मक्का बनाने वाले बलदेव अब देश की टास्क फोर्स में

रणजीत गुप्ता, शाहाबाद मारकंडा शाहाबाद को महिला हॉकी का मक्का बनाने वाले द्रोणाचार्य अवार्डी कोच बलदेव सिंह को खेल व खिलाड़ियों को निखारने के लिए गठित टास्क फोर्स में शामिल किया गया है। इस टास्क फोर्स का गठन 2020, 2024 और 2028 में होने वाले ओलंपिक में अपेक्षित परिणाम लाने के ...

Read More

राई देख रही कबड्डी सूरमाओं की राह

राई देख रही कबड्डी सूरमाओं की राह

पुरुषोत्तम शर्मा, सोनीपत देश के सबसे प्राचीन खेल कबड्डी का मेला इस बार सोनीपत के मोतीलाल नेहरू खेलकूद स्कूल राई में लगेगा। तीन दिन तक होने वाले इस खेल के अद्भुत आयोजन में चोटी के कबड्डी सूरमा शिरकत करेंगे, तो इनके रहने और मनोरंजन के लिए भी सरकार ने गजब ...

Read More

रणजी के चौकों छक्कों से चढ़े नजरों में, अब भारतीय टीम पर निगाहें

रणजी के चौकों छक्कों से चढ़े नजरों में, अब भारतीय टीम पर निगाहें

अनिल शर्मा, रोहतक भारतीय क्रिकेट टीम में चयन के लिए रोहतक के 2 युवा क्रिकेटर जी-तोड़ मेहनत कर रहे हैं। इन दोनों ने इस साल रणजी मैचों में अच्छा प्रदर्शन कर चयनकर्ताओं का ध्यान खींचा है। हालांकि इनमें से एक खिलाड़ी हरियाणा की टीम में तो दूसरा बड़ोदा की टीम ...

Read More

11वीं के छात्र ने 9वीं बार जीता सोना

11वीं के छात्र ने 9वीं बार जीता सोना

सरिता धीमान, नारायणगढ़ नारायणगढ़ के अभय गुप्ता ने 4 से 7 जनवरी तक महाराष्ट्र के पुणे में आयोजित 62वीं राष्ट्रीय डिस्कस थ्रो प्रतियोगिता में स्वर्ण पदक जीत कर न केवल अपने शहर अपितु प्रदेश का भी नाम रोशन किया है। अभय ने यह उपलब्धि अंडर 19 वर्ग में 51.72 मीटर ...

Read More

केयू में चमक रहे पंचकूला के बाल बैडमिंटन सितारे

केयू में चमक रहे पंचकूला के बाल बैडमिंटन सितारे

दिनेश कुमार, चंडीगढ़ पंचकूला गवर्नमेंट कॉलेज के खिलाड़ी आजकल कुरुक्षेत्र यूनिवसिर्टी में छाये हुए हैं। पिछले दिनों यूनिवर्सिटी स्तरीय बाल बैडमिंटन चैंपियनशिप में इस कॉलेज की टीम ने रजत पदक जीतकर अपनी प्रतिभा का लोहा मनवाया है। नरेंद्र कुमार की कप्तानी और टीम मैनेजर डाॅ. नरेंद्र सिवाच के मार्गदर्शन में टीम ने उत्साह ...

Read More

गुजरात के मेहसाणा से पदक लाये सोनीपत के दिव्यांग

गुजरात के मेहसाणा से पदक लाये सोनीपत के दिव्यांग

पुरुषोत्तम शर्मा, सोनीपत सोनीपत के रूहचि संस्थान के दिव्यांग बच्चों ने राष्ट्रीय मानसिक मंद खिलाड़ियों की वालीबाल प्रतियोगिता में तीसरा स्थान हासिल किया है। यह प्रतियोगिता गुजरात के मेहसाणा जिले में आयोजित की गई थी। इसमें रूहचि स्कूल के 4 खिलाड़ियों ने हिस्सा ले प्रतियोगिता में विजय पताका फहराई। सोमवार को ...

Read More

जजपाल को हाॅकी ने दिलायी नौकरी, शोहरत भी

जजपाल को हाॅकी ने दिलायी नौकरी, शोहरत भी

गुंजन कैहरबा, इन्द्री निसिंग के एक छोटे से किसान का बेटा हॉकी रोलर स्केटिंग की दुनिया में हरियाणा का नाम रोशन कर रहा है। खेल-खेल से उसने न केवल नाम कमाया बल्कि सरकारी नौकरी भी हासिल की है। बात भारतीय हॉकी रोलर स्केटिंग टीम की शान समझे जाने वाले जजपाल सिंह ...

Read More


रोहेड़ा की नेशनल कबड्डी का रुक्का

Posted On January - 1 - 2015 Comments Off on रोहेड़ा की नेशनल कबड्डी का रुक्का
ललित शर्मा कैथल : बाजुओं के बलबूते खेलों की अंतर्राष्ट्रीय प्रतिस्पर्धा में कबड्डी में जिन खिलाड़ियों की तूती बोलती है, ऐसे खिलाड़ी पैदा किए हैं हरियाणा के कैथल जिले के गांव रोहेड़ा की धरती ने। जब भी कबड्डी खेल का जिक्र आता है सबसे पहले सम्मान से कैथल के गांव रोहेड़ा के उन 2 दर्जन से अधिक स्वर्ण पदक विजेताओं के नाम लिए जाते हैं जो विश्वभर में अपनी प्रतिभा का लोहा मनवा चुके 

खिलाड़ियों की नगरी भिवानी

Posted On December - 25 - 2014 Comments Off on खिलाड़ियों की नगरी भिवानी
मंदिरों के शहर भिवानी को छोटी काशी व मिनी क्यूबा का नाम दिए जाने के बाद अब अगर खिलाड़ियों की नगरी कहा जाए तो कोई अतिशयोक्ति नहीं होगी। यह अर्जुन, भीम व द्रोणाचार्य अवार्डियां की नगरी बन चुकी है। यहां के खिलाड़ी बॉक्सिंग, एथलेटिक्स, कुश्ती, कबड्डी व बैडमिंटन में भी दम-खम दिखा चुके हैं, बल्िक यूं कहें की दम-खम दिखा रहे हैं और खिलाडिय़ों का जज्बा भी ऐसा कि प्रदेश में कोई उनका सानी नहीं। 

बुलन्द हौसलों को जब मिली उड़ान

Posted On December - 25 - 2014 Comments Off on बुलन्द हौसलों को जब मिली उड़ान
किसी एक गांव की एक साथ 80 बेटियां एक क्षेत्र विशेष में जिले व राज्य का नाम रोशन कर रही हों, इसका श्रेय खेड़ी आसरा गांव को जाता है। गांव कोई बहुत बड़ा नहीं है। करीब 1500 की आबादी वाले इस छोटे से गांव में छात्राओं ने वॉलीबाल की ओर कदम बढ़ाए। करीब 12 वर्ष पूर्व सींचा गया यह बीज अब वट वृक्ष की भांति प्रतीत होने लगा है। वर्ष 2009 में इन बेटियों ने राष्ट्रीय स्तर की प्रतियोगिता में एक बार जीत का स्वाद 

ये हैं बाक्सिंग के नये सिकंदर…

Posted On December - 18 - 2014 Comments Off on ये हैं बाक्सिंग के नये सिकंदर…
विवेक शर्मा नन्हे-नन्हे हाथों में बाक्सिंग ग्लब्ज। चाहत अपने दमदार पंचों से प्रतिद्वंदियों को पस्त करने की। इनमें से कोई अखिल तो कोई विजेंद्र बनना चाहता है। बाक्सिंग में ये नया मुकाम स्थापित करना चाहते हैं। बाक्सिंग के ये नन्हें सिकंदर ओलंपिक में देश के लिये गोल्ड मेडल जीतना चाहते हैं। इन दिनों पुलिस डीएवी पब्लिक स्कूल अम्बाला की एकेडमी में ये नन्हें खिलाड़ी खूब पसीना बहा 

जीत के साथ कुश्ती को अलविदा कहा दारा ने

Posted On December - 18 - 2014 Comments Off on जीत के साथ कुश्ती को अलविदा कहा दारा ने
देश के पहले और आखिरी अंतर्राष्ट्रीय ख्याति प्राप्त पहलवान और अभिनेता दारा सिंह ने अपने पीछे जो इतिहास छोड़ा है वह निश्चित रूप से अद्वितीय है। 1947 में सिंगापुर के चैंपियन पहलवान त्रिलोक सिंह को उन्होंने कुआलालमपुर में पछाड़ा। उसके बाद उन्हें मलेशिया चैंपियन घोषित कर दिया गया। इस विजय के बाद उनके हौसले इतने बुलंद हुए कि वे विदेशों में ही रहकर फ्री स्टाइल कुश्ती लड़ते रहे और तमाम विदेशी 

शाहाबाद….महिला हाकी का ‘मक्का’

Posted On December - 18 - 2014 Comments Off on शाहाबाद….महिला हाकी का ‘मक्का’
रणजीत कुमार गुप्ता एक जिद और जुनून। और बदल गई बेटियों की तकदीर। जहां बेटियों को अकेले बाहर भेजने से मां-बाप डरते थे, आज उनके हाथों में हाकी की स्टिक है। हम बात कर रहे हैं शाहबाद की। एक कोच के जुनून के कारण शाहबाद महिला हाकी का ‘’मक्का’’ बन गया है। हाकी में बेटियों को फर्श से अर्श तक पहुंचाने वाले शख्स है द्रोणाचार्य अवार्डी कोच बलदेव सिंह। इनकी बदौलत ही आज शाहाबाद की हाकी का पूरे 

अखाड़ों पर भारी पड़ते जिम

Posted On December - 11 - 2014 Comments Off on अखाड़ों पर भारी पड़ते जिम
हरियाणा की संस्कृति में अखाड़ों का विशेष महत्व है। बात चाहे ओलंपिक की हो या फिर कॉमनवैल्थ खेल की, एशियन गेम हों चाहे राष्ट्रीय स्तर की कुश्ती प्रतिस्पर्धा, हरियाणा के पहलवानों ने विश्व पटल पर राज्य और राष्ट्र का नाम रौशन किया है। लेकिन आजकल के युवा अखाड़ों की बजाय जिम में जोर आजमा रहे हैं। कैथल जिले का सीवन कस्बा कभी अखाड़ों में चलने वाली दंगल प्रतियोगिताओं के लिये जाना जाता था। जन्माष्टमी 

कीकड़ ने लड़ी डेढ़ हजार कुश्तियां

Posted On December - 11 - 2014 Comments Off on कीकड़ ने लड़ी डेढ़ हजार कुश्तियां
7 फुट लम्बे और 5 मन वजनी रियाजी डील-डौल के मालिक कीकड़ सिंह महाराज शिवाजीराव की रियासत के पहलवान थे। उन्हाेंने अपने पूरे जीवन में करीब डेढ़ हजार कुश्तियां लड़ीं और पंजाबी, यूपी, जम्मू, कोल्हापुर और बनारस के कई  दिग्गज पहलवानों को अपने प्रसिद्ध ‘खब्चा’ दांव से आसमान दिखाया। होलकर दरबार से भी उन्हें खूब सम्मान मिले। कीकड़ सिंह अधिकांश कुश्तियों में विजयी रहे। अपवादस्व्ारूप वह एक कुश्ती 

विदेश में भारतीय पहलवान की पहली जीत

Posted On December - 11 - 2014 Comments Off on विदेश में भारतीय पहलवान की पहली जीत
गुलाम पहलवान की शौहरत और उनकी कुश्ितयों के कायल प. मोतीलाल नेहरू अपने खर्च पर उन्हें विलायत ले गए। साथ में गुलाम का छोटा भाई कल्लू भी था। पेरिस के दंगल में गुलाम की कुश्ती टर्की के नामी पहलवान अहमद मद्राल्ली से हुयी थी। पहले-पहल तो गुलाम यूरोपियन दांव-पेच से घबरा गया। टर्की के पहलवान ने गुलाम को खूब रगड़ा। भारतीय पहलवान की दुर्गति देख पं. मोतीलाल नेहरू अपनी कुर्सी से उठे और गुलाम पहलवान 

कुछ तो नाजुक मिजाज हैं ये भी

Posted On December - 11 - 2014 Comments Off on कुछ तो नाजुक मिजाज हैं ये भी
अच्छे-खासे शरीर के मालिक बाउंसरों में अक्खड़पन के साथ होती है तमीज और तहजीब अमरनाथ वासिष्ठ ‘इतनी शक्ति हमें देना दाता, मन का विश्वास कमजोर हो ना।’ किसी बाउंसर के मोबाइल फोन पर यह रिंगटोन सुनना थोड़ा अजीब-सा लगता है क्योंकि बाउंसर तो इस बात के लिए पहचाने जाते हैं, कि वे जिसके साथ होते हैं, वह खुद को शक्तिसम्पन्न महसूस करता है। लेकिन दिल्ली में साकेत क्षेत्र के क्लबों में 8 साल से 

आम आदमी बनकर रह गया आर्म रेस्लर

Posted On December - 11 - 2014 Comments Off on आम आदमी बनकर रह गया आर्म रेस्लर
बहादुर सैनी यूं तो भारतीय सरकार खेलों में उत्कृष्ट प्रदर्शन करने वाले खिलाड़ियों को सम्मानित करने के वायदे करती है, मगर यह सम्मान केवल कुछ खेलों तक ही सीमित है। ऐसी ही कहानी है, कैथल जिले के सीवन कस्बे में रहने वाले नरेन्द्र सैनी की, जिन्होंने पंजा लड़ाओ प्रतियोगिता (आर्म रेस्लिंग) में पूरे भारत में पहला स्थान प्राप्त किया, मगर उनकी काबलियत का मान-सम्मान करने वाला कोई नहीं मिला। 

फोकस रियो ओलंपिक में सोने पर

Posted On December - 11 - 2014 Comments Off on फोकस रियो ओलंपिक में सोने पर
कुश्ती स्टार योगेश्वर दत्त ओलंपिक के बाद नयी पीढ़ी को देंगे अपने हुनर का ज्ञान पुरुषोत्तम शर्मा इसी साल ग्लास्गो कॉमनवैल्थ तथा इंचियान एशियाड में देश को सोना दिलाने वाले योगेश्वर दत्त कहते हैं कि उनका एकमात्र लक्ष्य 2016 के रियो ओलंपिक में देश के लिए सोना जीतना है। योगी बताते हैं कि वह इसके लिए कड़ा अभ्यास कर रहे हैं। फिलहाल मधुबन पुलिस ट्रेनिंग कैंपस में हैं और यहीं पर सुबह-शाम 

पुरुष पहलवान पर भारी पड़ी नारी

Posted On December - 4 - 2014 Comments Off on पुरुष पहलवान पर भारी पड़ी नारी
कुश्ती आमतौर पर पुरुषों का खेल माना जाता है, लेकिन महिलाएं भी इस खेल में न सिर्फ पुरुषों के साथ कंधे से कंधा मिलाकर कर हिस्सा ले रही हैं बल्कि अखाड़े में पुरुष पहलवान को धूल चटा रही हैं। पिछले दिनों कुछ ऐसा ही देखने को मिला उत्तर प्रदेश के बरेली में जहां पर जोगी नवादा रामलीला मेला लगता है। जोगी नवादा रामलीला मेले के दंगल में महिला और पुरुष पहलवान की कुश्ती हुई, जिसमे महिला पहलवान ने 

क्योंकि जानना जरूरी है

Posted On December - 4 - 2014 Comments Off on क्योंकि जानना जरूरी है
कुश्ती: दांव-पेंच और दमख़म का संगम कुश्ती, ओलंपिक के सबसे पुराने खेलों में से एक है. इसके कई तरीक़े और रूप हैं। आधुनिक ओलंपिक खेलों में कुश्ती दो श्रेणियों में लड़ी जाती है- पहली फ्री-स्टाइल और दूसरी ग्रीको-रोमन।  फ्री-स्टाइल कुश्ती में खिलाड़ी एक-दूसरे को कमर के नीचे से ही पकड़ सकते हैं. ग्रीको-रोमन कुश्ती में शरीर के ऊपरी हिस्से और भुजाओं का ही इस्तेमाल होता है। पुरुषों के कुश्ती मुक़ाबलों 

कबड्डी का जुनून…

Posted On December - 4 - 2014 Comments Off on कबड्डी का जुनून…
सड़कें हो जाती हैं जाम बेशक क्रिकेट, फुटबाल और टेनिस को दुनिया के प्रसिद्ध और लोकप्रिय खेल माने गए हों, लेकिन हरियाणा में कबड्डी का जुनून सब पर भारी पड़ता है। किसी भी गांव या शहर में कबड्डी मैच हो रहे हों तो आसपास के लोग सारा काम छोड़ मैच देखने के लिये उमड़ पड़ते हैं। कबड्डी के जुनून की और क्या कहिए, सुबह से सायं तक कबड्डी प्रेमी भूखे प्यासे कबड्डी खेल मैदान में डटे रहते हैं और मैच को 

वीरान अखाड़े, बदहाल पहलवान

Posted On December - 4 - 2014 Comments Off on वीरान अखाड़े, बदहाल पहलवान
अमरनाथ वासिष्ठ मध्यप्रदेश के झांसी के पास दतिया में 1881 ई. में जन्मे विश्व प्रसिद्ध शाही पहलवान गामा तथा उनके भाई इमामबख्श का खानदान पूरे एक शतक से भी अधिक समय तक कुश्ती कला के आकाश में सूर्य की भांति विश्व के कुश्ती जगत को प्रकाश और साधना की प्रेरणा देता रहा। इसके बाद वह दौर भी था जब इस परिवार के आलम, असलम, अकरम, गोगा, और भोलू पहलवान लाहौर में कुश्ती की प्रेक्टिस करते थे और उनका जलवा 
Page 21 of 22« First...13141516171819202122

समाचार में हाल लोकप्रिय