शादी समारोह से बच्चे ने चुराया 3 लाख का बैग !    फर्जी अंगूठा लगाकर मनरेगा के खाते से उड़ाये लाखों !    गुरु की तस्वीरों पर प्रकाश अाभा न दिखाने पर एतराज !    हरियाणा में 2006 के बाद के कर्मियों को भी ग्रेच्युटी !    पहले दिया समर्थन, अब झाड़ा पल्ला !    सप्ताह भर में न भरा टैक्स तो टावर होंगे सील !    पेंशन की दरकार, एसडीएम कार्यालय पर प्रदर्शन !    परियोजना वर्करों की देशव्यापी हड़ताल कल !    आईएस का हाथ था कानपुर रेल हादसे में !    आज फिर चल पड़ेगी नेताजी की कार !    

दमखम › ›

फ़ीचर्ड न्यूज़
पिता का सपना पूरा करने के लिए मोनिका ने उठायी हॉकी स्टिक

पिता का सपना पूरा करने के लिए मोनिका ने उठायी हॉकी स्टिक

पुरुषोत्तम शर्मा, सोनीपत पहली बार ओलंपिक गेम्स (रियो-2016) के लिए क्वालिफाई कर एक नया इतिहास रचने वाली भारतीय महिला हॉकी टीम का महत्वपूर्ण हिस्सा रही मोनिका मलिक की नजरें अब वर्ष-2018 में होने वाले एशियन गेम्स पर टिक गयी हैं। साधारण ग्रामीण पृष्ठभूमि से संबंध रखने वाली मोनिका अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर ...

Read More

साक्षी का जलवा, गीता बबीता लीग से बाहर

साक्षी का जलवा, गीता बबीता लीग से बाहर

अनिल शर्मा, रोहतक ओलम्पिक में कांस्य पदक विजेता साक्षी मलिक का जलवा प्रो. कुश्ती लीग सीजन-2 में भी बरकरार है। उसने 2 मैचों में अपने प्रतिद्वंद्वी को बुरी तरह पछाड़ा है। वहीं उनके मंगेतर सत्यव्रत कादियान को एक मैच में हार का सामना करना पड़ा है। लीग में शामिल हुई चारों ...

Read More

राजनीतिक परिवार से निकले इंटरनेशनल शूटर

राजनीतिक परिवार से निकले इंटरनेशनल शूटर

दिनेश भारद्वाज, चंडीगढ़ भिवानी जिले के गागरवास गांव के श्योराण परिवार को राजनीतिक परिवार के रूप में जाना जाता है। इस परिवार के अधिकांश लोग भारतीय प्रशासनिक सेवा या फिर हरियाणा प्रशासनिक सेवा में हैं लेकिन परिवार के ही दो युवाओं ने एकदम नयी राह चुनी है। ये दोनों सगे भाई-बहन ...

Read More

हॉकी से बनी स्वावलंबन की राह, खिलाड़ी ने संभाली परिवार की जिम्मेदारी

हॉकी से बनी स्वावलंबन की राह, खिलाड़ी ने संभाली परिवार की जिम्मेदारी

पुरुषोत्तम शर्मा, सोनीपत सही कहते हैं कि प्रतिभा किसी से छिपी नहीं रह सकती। अगर इसको पहचान कर तराशने वाला मिल जाए, तो फिर इसके ऐसे पंख लगते हैं कि देखते ही बनता है। ऐसी ही कुछ दास्तां हैं हॉकी की सनसनी नेहा गोयल की। पहनने को जूते नहीं और पढ़ने ...

Read More

पूरे हरियाणा ने माना कैथल के बॉक्सर का लोहा

पूरे हरियाणा ने माना कैथल के बॉक्सर का लोहा

ललित शर्मा, कैथल कैथल के जाट स्कूल ने शिक्षा के साथ-साथ खेलों में खास नाम कमाया है। खेल का मैदान कोई भी हो, यहां के खिलाड़ियों का खास दबदबा रहा है। इस दबदबे को कायम रखते हुए जाट वरिष्ठ माध्यमिक विद्यालय के बॉक्सिंग खिलाड़ी राहुल ढांडा को हरियाणा का सर्वश्रेष्ठ बाॅक्सर अवार्ड ...

Read More

हरियाणा में और भी हैं ‘दंगल’ के नायक

हरियाणा में और भी हैं ‘दंगल’ के नायक

राजेश शर्मा, फरीदाबाद 23 दिसंबर को देश-विदेशों में रिलीज हुई आमिर खान की चर्चित फिल्म दंगल जैसी ही एक कहानी फरीदाबाद में भी दिखाई देती है। भिवानी के महाबीर फौगाट के जीवन पर बनी इस फिल्म के नायक की तरह ही फरीदाबाद के पहलवान पूर्व डीएसपी जगरूप सिंह राठी ने भी ...

Read More

बचपन की शरारतों से बनी बाक्सिंग की राह

बचपन की शरारतों से बनी बाक्सिंग की राह

पुरुषोत्तम शर्मा, सोनीपत कहते हैं कि पूत के पांव पालने में ही पता चल जाते हैं। बशर्तें इसे देखने और समझने की सोच और नजरिया इंसान के पास हो। अगर आपका दृष्टिकोण सकारात्मक है, तो फिर जीवन में कुछ भी नकारात्मक नहीं हो सकता है। न ही कोई हार या ...

Read More


आम आदमी बनकर रह गया आर्म रेस्लर

Posted On December - 11 - 2014 Comments Off on आम आदमी बनकर रह गया आर्म रेस्लर
बहादुर सैनी यूं तो भारतीय सरकार खेलों में उत्कृष्ट प्रदर्शन करने वाले खिलाड़ियों को सम्मानित करने के वायदे करती है, मगर यह सम्मान केवल कुछ खेलों तक ही सीमित है। ऐसी ही कहानी है, कैथल जिले के सीवन कस्बे में रहने वाले नरेन्द्र सैनी की, जिन्होंने पंजा लड़ाओ प्रतियोगिता (आर्म रेस्लिंग) में पूरे भारत में पहला स्थान प्राप्त किया, मगर उनकी काबलियत का मान-सम्मान करने वाला कोई नहीं मिला। 

फोकस रियो ओलंपिक में सोने पर

Posted On December - 11 - 2014 Comments Off on फोकस रियो ओलंपिक में सोने पर
कुश्ती स्टार योगेश्वर दत्त ओलंपिक के बाद नयी पीढ़ी को देंगे अपने हुनर का ज्ञान पुरुषोत्तम शर्मा इसी साल ग्लास्गो कॉमनवैल्थ तथा इंचियान एशियाड में देश को सोना दिलाने वाले योगेश्वर दत्त कहते हैं कि उनका एकमात्र लक्ष्य 2016 के रियो ओलंपिक में देश के लिए सोना जीतना है। योगी बताते हैं कि वह इसके लिए कड़ा अभ्यास कर रहे हैं। फिलहाल मधुबन पुलिस ट्रेनिंग कैंपस में हैं और यहीं पर सुबह-शाम 

पुरुष पहलवान पर भारी पड़ी नारी

Posted On December - 4 - 2014 Comments Off on पुरुष पहलवान पर भारी पड़ी नारी
कुश्ती आमतौर पर पुरुषों का खेल माना जाता है, लेकिन महिलाएं भी इस खेल में न सिर्फ पुरुषों के साथ कंधे से कंधा मिलाकर कर हिस्सा ले रही हैं बल्कि अखाड़े में पुरुष पहलवान को धूल चटा रही हैं। पिछले दिनों कुछ ऐसा ही देखने को मिला उत्तर प्रदेश के बरेली में जहां पर जोगी नवादा रामलीला मेला लगता है। जोगी नवादा रामलीला मेले के दंगल में महिला और पुरुष पहलवान की कुश्ती हुई, जिसमे महिला पहलवान ने 

क्योंकि जानना जरूरी है

Posted On December - 4 - 2014 Comments Off on क्योंकि जानना जरूरी है
कुश्ती: दांव-पेंच और दमख़म का संगम कुश्ती, ओलंपिक के सबसे पुराने खेलों में से एक है. इसके कई तरीक़े और रूप हैं। आधुनिक ओलंपिक खेलों में कुश्ती दो श्रेणियों में लड़ी जाती है- पहली फ्री-स्टाइल और दूसरी ग्रीको-रोमन।  फ्री-स्टाइल कुश्ती में खिलाड़ी एक-दूसरे को कमर के नीचे से ही पकड़ सकते हैं. ग्रीको-रोमन कुश्ती में शरीर के ऊपरी हिस्से और भुजाओं का ही इस्तेमाल होता है। पुरुषों के कुश्ती मुक़ाबलों 

कबड्डी का जुनून…

Posted On December - 4 - 2014 Comments Off on कबड्डी का जुनून…
सड़कें हो जाती हैं जाम बेशक क्रिकेट, फुटबाल और टेनिस को दुनिया के प्रसिद्ध और लोकप्रिय खेल माने गए हों, लेकिन हरियाणा में कबड्डी का जुनून सब पर भारी पड़ता है। किसी भी गांव या शहर में कबड्डी मैच हो रहे हों तो आसपास के लोग सारा काम छोड़ मैच देखने के लिये उमड़ पड़ते हैं। कबड्डी के जुनून की और क्या कहिए, सुबह से सायं तक कबड्डी प्रेमी भूखे प्यासे कबड्डी खेल मैदान में डटे रहते हैं और मैच को 

वीरान अखाड़े, बदहाल पहलवान

Posted On December - 4 - 2014 Comments Off on वीरान अखाड़े, बदहाल पहलवान
अमरनाथ वासिष्ठ मध्यप्रदेश के झांसी के पास दतिया में 1881 ई. में जन्मे विश्व प्रसिद्ध शाही पहलवान गामा तथा उनके भाई इमामबख्श का खानदान पूरे एक शतक से भी अधिक समय तक कुश्ती कला के आकाश में सूर्य की भांति विश्व के कुश्ती जगत को प्रकाश और साधना की प्रेरणा देता रहा। इसके बाद वह दौर भी था जब इस परिवार के आलम, असलम, अकरम, गोगा, और भोलू पहलवान लाहौर में कुश्ती की प्रेक्टिस करते थे और उनका जलवा 

कुरुक्षेत्र में एक और ‘अर्जुन’

Posted On December - 4 - 2014 Comments Off on कुरुक्षेत्र में एक और ‘अर्जुन’
ललित शर्मा आखिर 44 साल बाद कैथल के पूत को अर्जुन अवार्ड मिला। और उसका सपना सच हो गया। लेकिन अर्जुन अवार्ड पाने के लिये बाक्सर मनोज ने अपना कैरियर तक दांव पर लगा दिया था। पहले खिलाड़ी डर के कारण आवाज नहीं उठा पाते थे, लेकिन मनोज ने आवाज उठाई और उसे उसकी काबलियत का अवार्ड मिल ही गया। हकदार होने के बावजूद भी उसे कानूनी लड़ाई लड़नी पड़ी और कोर्ट ने भी मनोज की बात पर मोहर लगा दी और आज उसके 

आर्थिक संकट से जूझता कल्याणा का श्री हनुमान अखाड़ा

Posted On November - 27 - 2014 Comments Off on आर्थिक संकट से जूझता कल्याणा का श्री हनुमान अखाड़ा
आर्थिक संकट से जूझता, लक्ष्यों की प्राप्ति की दिशा में निरंतर अग्रसर है शाहाबाद उपमंडल के गांव कल्याणा में स्थित श्री हनुमान अखाड़ा। लगभग डेढ़ कनाल मेें फैले तथा कल्याणा के ही अखाड़ा प्रेमियों नछत्तर सिंह एवं मद्दी पहलवान बंधुओं द्वारा स्थापित इस अखाड़ा में यही दोनों युवाओं को प्रशिक्षित कर रहे हैं। अखाड़ा के प्रधान अजय सिंह काजल कतलाहरी ने कहा कि उनका संकल्प है कि यहां प्रशिक्षित 

अोलंपिक कुश्ती में पहला पदक जाधव को

Posted On November - 27 - 2014 Comments Off on अोलंपिक कुश्ती में पहला पदक जाधव को
1952 के हेलसिंकी अोलंपिक के 57 िकलो फ्री स्टाइल में के डी जाधव ने भारत को कांस्य पदक िदलाया था। यह कुश्ती में भारत का पहला पदक था। जाधव 1930 में महाराष्ट्र के सतारा जिले में गोलेश्वर गांव में जन्मे। इससे पूर्व 1948 के लंदन अोलंिपक में जाधव को छठा स्थान प्राप्त हुअा था। यह वह दौर  था जब पहलवान बनते भी अपने साधनों  से थे अौर अंतर्राष्ट्रीय प्रतियोिगताअों में भी अपने खर्चे पर जाते थे। जाधव 

इंटरनेशनल कुश्ती में दो लालों ने ‘भर’ दिया मां का ‘मन’

Posted On November - 27 - 2014 Comments Off on इंटरनेशनल कुश्ती में दो लालों ने ‘भर’ दिया मां का ‘मन’
कुमार मुकेश उसके माता-पिता ने न जाने किस कारण उसका नाम मनभरी रखा। लेकिन उसके 2 पुत्रों ने अंतरराष्ट्रीय कुश्ती में देश का नाम रोशन करके वास्तव में उसका मन भर दिया। यह अलग बात है कि इस दौर की तरह अंतरराष्ट्रीय पहलवानों के पिता धनपत उस दौर में धन नहीं भर पाए। हम यहां बात कर रहे हैं कुश्ती के पहले अर्जुन अवार्डी, 3 बार के ओलंपियन, राष्ट्रमंडल कुश्ती में पहला स्वर्ण, एशियाई खेल में 2 रजत, 

अखाड़ों के गुर कबड्डी में कारगर

Posted On November - 27 - 2014 Comments Off on अखाड़ों के गुर कबड्डी में कारगर
ललित शर्मा किसी भी विद्या को सीखने के लिए गुरू की जरूरत होती है। खेलों में अगर कुश्ती व कबड्डी की बात करें तो कबड्डी की गुरू कुश्ती है। खिलाड़ियों का तो यहां तक कहना है कि कुश्ती सर्कल कबड्डी की मां है। क्योंकि कुश्ती के अखाड़ों में सीखे गुर, दाव पेंच, चित-पट, पीठ लगाना, खिलाड़ी में फुर्ती, ताकत का प्रयोग और किस वक्त करना चाहिए, ये सभी गुर अखाड़ों में सिखाए जाते हैं जो कबड्डी में 

अब नयी पौध से ओलंपिक में उम्मीद

Posted On November - 27 - 2014 Comments Off on अब नयी पौध से ओलंपिक में उम्मीद
पुरुषोत्तम शर्मा शानदार प्रदर्शन और जानदार प्रस्तुति, दाव-पेंच लगाने में सब पर भारी कुश्ती दबंग रहे राष्ट्रमंडल खेल में स्वर्ण पदक विजेता अनिल खत्री ने कुश्ती से कैरियर बनाने वाले बच्चों और युवाओं को प्रशिक्षण दे रहे है। वह जो नहीं कर पाए अब आने वाली पीढ़ी को वैसा करने के लिए प्रेरित कर रहे हैं। ताकि उनकी मुराद को ये भावी कर्णधार पूरा कर सकें। पिता से विरासत में मिली कुश्ती की 

3 पीढ़ियों ने बहाया अखाड़े में पसीना

Posted On November - 20 - 2014 Comments Off on 3 पीढ़ियों ने बहाया अखाड़े में पसीना
ललित शर्मा कैथल में अगर कुश्ती व अखाड़ों का जिक्र आता है तो हरि सिंह के हनुमान अखाड़े का नाम सबसे पहले लिया जाता है। हालांकि मदन पहलवान का अखाड़ा भी कम नहीं है। लेकिन हरि सिंह अखाड़े का इतिहास करीब 100 वर्ष पुराना है। इस अखाड़े में हरि सिंह की 3 पीढ़ियों ने पसीना बहाया है और यहां के पहलवानों का ढंका पूरे प्रदेश में बजता है। अखाड़े के संचालक हरि सिंह बताते हैं कि उनके पिता सरदारा सिंह के गुरू 

भिवानी जिले में एक हजार से अधिक युवक-युवतियां कुश्ती खेल का हिस्सा

Posted On November - 20 - 2014 Comments Off on भिवानी जिले में एक हजार से अधिक युवक-युवतियां कुश्ती खेल का हिस्सा
अजय मल्होत्रा हरियाणा के गांव-गांव व शहरों में सदियों से खेले जा रहे कुश्ती खेल के प्रति आज भी भिवानी जिले के युवक-युवतियों में जबरदस्त उत्साह और भावनात्मक लगाव है। जिले के विभिन्न गांवों, कस्बों व शहर में पौ फटते ही लगभग 1000 युवक-युवतियां विभिन्न अखाड़ों में अपना दम-खम दिखाने और प्रशिक्षण के लिए उतर आते हैं। जिले का शायद ही ऐसा कोई बड़ा गांव है, जहां के कण-कण में कुश्ती ना बसी हो। 

सेलेब्रिटी गेम बन गयी कुश्ती

Posted On November - 20 - 2014 Comments Off on सेलेब्रिटी गेम बन गयी कुश्ती
हरीश भारद्वाज कुश्ती अब केवल शौक तक सीमित नहीं रह गई है। अब यह सेलेब्रिटी गेम बन गया है। ग्रामीण आंचलों से निकल कर पहलवान जिस तरह अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर छाने लगे हैं, उससे उभरते पीढ़ी कुश्ती की ओर आकर्षित हो रही है। कुश्ती की चमक-दमक को देख कर केवल लडके ही नहीं लडकियां भी इस क्षेत्र में बढ़-चढ़कर हिस्सा ले रही हैं। रोजगार के अवसरों व इनामों की बौछार देख ज्यादातर पुराने पहलवानों 
Page 21 of 21« First...12131415161718192021

समाचार में हाल लोकप्रिय

Powered by : Mediology Software Pvt Ltd.