सपा प्रत्याशी ने लिया नाम वापस !    सुप्रीम कोर्ट की शरण में प्रजापति गिरफ्तारी पर रोक की अर्जी !    गुजरात के तो गधों का भी होता है प्रचार !    दलित की बेटी हेलीकॉप्टर में घूमे, मोदी को अच्छा नहीं लगता !    बहुजन से बहनजी तक सिमटी बसपा : मोदी !    दहेज लोभी को नकारा, इंजीनियर से रचायी शादी !    गैंगस्टर के 4 अौर समर्थक गिरफ्तार !    मेट्रो महिला ने किया आत्महत्या का प्रयास !    जगमग योजना के विरोध में जड़ा बिजलीघर को ताला !    कोर्ट ने महिला की याचिका की खारिज !    

बदलाव › ›

फ़ीचर्ड न्यूज़
बेरोजगारी के समाधान के लिए युवाओं का कौशल विकास जरूरी

बेरोजगारी के समाधान के लिए युवाओं का कौशल विकास जरूरी

बेरोजगारी की समस्या विकराल हो चुकी है जोकि व्यक्ति के निजी जीवन को तो प्रभावित कर ही रही है, सामाजिक ताने-बाने को भी बिगाड़ रही है। बढ़ती आबादी इसकी सहायक बन गई है। सरकार योजनाएं लेकर आती है लेकिन वे भी जल्द ही नाकाफी सािबत होती हैं। यमुनानगर में सह-प्राध्यापक उचित ...

Read More

तब कालका में शाम होते ही किवाड़ बंद हो जाते, जो सुबह ही खुलते

तब कालका में शाम होते ही किवाड़ बंद हो जाते, जो सुबह ही खुलते

साल 1948 में जब मैं परिवार के साथ कालका आया तो मेरी उम्र कोई 6 साल थी। यहीं बचपन बीता, जवान हुआ और फिर रेलवे में नौकरी मिल गई। अब 75 की उम्र में बीते हुए जमाने को देखता हूं तो अहसास होता है, हम कितना कुछ पीछे छोड़ आए हैं। ...

Read More

ताकि फिर न भटकें राह, कैदियों को लकड़ी में जान डालना सिखाता हूं

ताकि फिर न भटकें राह, कैदियों को लकड़ी में जान डालना सिखाता हूं

शिल्प गुरु महेशचंद शर्मा का पता है- दिल्ली-6. उनके हाथ में हुनर है, वे बेजान लकड़ी पर जब अपने औजार चलाते हैं तो उनमें जो आकृति उबरती है, वह अनोखी होती है। कहते हैं, पैतृक कला है। कभी हाथी दांत पर आजमाते थे, उस पर रोक लगी तो फिर चंदन ...

Read More

LOC पर ज़िंदगी की  रखवाली में एक लड़की

LOC पर ज़िंदगी की रखवाली में एक लड़की

सबरीना सिद्दीकी LOC  line of control  एक तरफ भारत की सेनाएं डटी हैं तो दूसरी तरफ पाकिस्तान की सेना अपनी बंदूकों के मुंह खोले बैठी है। पाक की तरफ से शुरुआत होती है तो भारत की तरफ से उसका जवाब दिया जाता है। दिन-रात गोलीबारी चलती है, तोपें गरजती रहती हैं। इस ...

Read More

तब हर घर में गेहूं से भरी टंकी होती और चक्की भी मिलती थी

तब हर घर में गेहूं से भरी टंकी होती और चक्की भी मिलती थी

उस दिन दुकान पर आटे की थैली लेने के लिए गया तो एक पहचान के मिल गए। इधर-उधर की बातें होने लगी तो जिक्र बाजार में बिकने वाले गेहूं के आटे और चावल पर केंद्रित हो गया। कहने लगे, आजकल आटे के इतने सारे ब्रांड बाजार में हैं, सब अपने ...

Read More

आरक्षण का अाधार जातिगत नहीं, आर्थिक होना चाहिए

आरक्षण का अाधार जातिगत नहीं, आर्थिक होना चाहिए

समाज के प्रत्येक वर्ग में ऐसे लोग हैं जोकि आर्थिक रूप से समृद्ध हैं, लेकिन उसके बावजूद आरक्षण का लाभ ले रहे हैं या लेना चाहते हैं। वैसे जरूरत इसकी है कि समाज के हर जरूरतमंद को चाहे वह किसी भी वर्ग या जाति से संबंधित हो, को आरक्षण का ...

Read More

ग्रामीणों ने बनाया कोष, ताकि पैसे के अभाव में न रुके कोई शादी, इलाज

ग्रामीणों ने बनाया कोष, ताकि पैसे के अभाव में न रुके कोई शादी, इलाज

बेटी शादी के योग्य हो गई थी और विधवा मां के दिन का चैन और रात की नींद खत्म हो गई थी। घर में आय का कोई जरिया नहीं था, खेती की थोड़ी-बहुत जमीन ही थी, जिसके सहारे गुजर हो रही थी। जैसे-तैसे बेटी का रिश्ता हो गया लेकिन अब ...

Read More


बाकरपुर में आकर जान जाएंगे पंचायत क्या होती है?

Posted On May - 20 - 2016 Comments Off on बाकरपुर में आकर जान जाएंगे पंचायत क्या होती है?
अगर आपके मन में गांव की तस्वीर गंदी नािलयां, कीचड़, कूड़े के ढेर, पीने का पानी नहीं, सड़क-गलियां कच्ची और ऐसी ही नाकामियों की है तो आपको एक बार जगाधरी के गांव बाकरपुर का दौरा कर आना चाहिए। यहां आकर आपको सहज ही अंदाजा हो जाएगा कि आखिर पंचायत चाहे तो क्या नहीं कर सकती? बस जरूरत होती है तो इच्छाशक्ित की। इस गांव की ....

सामाजिक बेहतरी के लिए संयुक्त परिवार हैं अाज की बड़ी जरूरत

Posted On May - 13 - 2016 Comments Off on सामाजिक बेहतरी के लिए संयुक्त परिवार हैं अाज की बड़ी जरूरत
संयुक्त परिवार बेशक अब बीते समय की बात हो गई है लेकिन आज के युवा भी मानते हैं, कि एक साथ रहना परिवार को जहां खुशहाल बनाता है वहीं मुश्िकलों को झेलने की ताकत भी देता है। कुरुक्षेत्र यूनिवर्सिटी में पढ़ रहे चीका के बब्बल कुमार गागट कहते हैं, अगर परिवार इकट‍्ठा न होता तो मैं शायद 10वीं के बाद पढ़ ही नहीं पाता। ....

तब घर के बाहर लगा पेड़ ही लोगों के लिए एसी, कूलर होता था

Posted On May - 13 - 2016 Comments Off on तब घर के बाहर लगा पेड़ ही लोगों के लिए एसी, कूलर होता था
बीते वक्त में लोग मोटा खाते थे मोटा पहनते थे और खूब मेहनत करते थे। बीमारियां कई कोस दूर रहती थीं। यह कहना है 70 वर्ष के हरेन्द्र सिंह का। पलवल निवासी हरेन्द्र पुरानी यादों को टटोलते हुए बताते हैं कि तब दूध, दही-दलिया व छाछ मनपसंद खाना होता था। लोग गौचनी (तिनाजा) की रोटियां बनाकर खाते थे। ....

मल्टीनेशनल कंपनियों की नौकरी छोड़ कपड़े के बैग बेच रहा दम्पति

Posted On May - 13 - 2016 Comments Off on मल्टीनेशनल कंपनियों की नौकरी छोड़ कपड़े के बैग बेच रहा दम्पति
शहर की मार्केट में घूमते अक्सर ऐसे लोग नजर आते हैं, जिनकी नजर नीचे होती है और आंखें कुछ ढूंढ़ रही होती हैं। वे झपट कर कुछ उठाते हैं और फिर जल्दी से उसे अपने बोरे में भरकर आगे निकल लेते हैं। हम लोग इन्हें रैगपिकर्स बुलाते हैं, मतलब कूड़ा बीनने वाले। जब देश और दुनिया के नेता पर्यावरण को बचाने के लिए चिंता से दुबले हुए ....

मैं साहस हूं , मैं ARMY हूंं…

Posted On May - 13 - 2016 Comments Off on मैं साहस हूं , मैं ARMY हूंं…
खाकी और जैतूनी हरा रंग अब लड़कियों पर भी छा चुका है। करियर के नये अवसर तलाश रही बेटियों को अब पुलिस और सेना की नौकरी खूब लुभा रही है। सेना में स्थायी कमीशन की घोषणा ने लड़कियों को प्रोत्साहित किया है कि वे इस चुनौतीपूर्ण कॅरियर को अपनाएं और आगे बढ़ें। उनके लिए यह अब सम्मान हासिल करने और कुछ कर दिखाने का अवसर ....

तब रेडियो या टीवी पूरे परिवार को जोड़ने का जरिया होते थे

Posted On May - 6 - 2016 Comments Off on तब रेडियो या टीवी पूरे परिवार को जोड़ने का जरिया होते थे
तब गांव-देहात में रेडियो ही सूचनाओं का एकमात्र जरिया होता था। किसी-किसी घर में रेडियाे होता था और आसपास के लोग उसे सुनने के लिए जुटते थे। रेडियो पर गूंजती आवाज ग्रामीणों को हैरान कर देती। ....

सिर्फ किताबी पढ़ाई ही अच्छी न हो बल्कि जीवन का सबक भी सुंदर हो

Posted On May - 6 - 2016 Comments Off on सिर्फ किताबी पढ़ाई ही अच्छी न हो बल्कि जीवन का सबक भी सुंदर हो
आज हम बेशक बच्चों को अच्छी शिक्षा देने पर जोर दे रहे हैं, लेकिन इसके साथ हमें उन्हें अच्छे संस्कार देने पर भी ध्यान देना चाहिए। इसकी जिम्मेदारी जहां माता-पिता और समाज की है वहीं स्कूल में शिक्षकों की भी बनती है। अच्छे विचार तरक्की में योगदान देते हैं। ग्रामीण इलाके में लड़कियों की शिक्षा को लेकर काम कर रहे शिक्षाविद‍् दीपक यादव यह बात ....

लातुर में गणित का मास्टर रोजाना बांट देता है 10 हजार लीटर पानी

Posted On May - 6 - 2016 Comments Off on लातुर में गणित का मास्टर रोजाना बांट देता है 10 हजार लीटर पानी
पानी क्या होता है, शायद कर्नाटक और महाराष्ट्र के लोग इसे बेहतर बता सकेंगे। सूखे की मार झेल रहे इन प्रदेशों में हाहाकार मचा है, देश के दूसरे हिस्सों से यहां पानी भेजा जा रहा है। हालात ऐसे हैं कि लोगों का सारा ध्यान इस पर केंद्रित हो गया है कि कैसे पानी को जुटाया जाए। गृहिणियों का पूरा-पूरा दिन पानी भरने में ही बीत ....

यहां दो काम जरूरी हैं…

Posted On May - 6 - 2016 Comments Off on यहां दो काम जरूरी हैं…
गांव की गली में लगी टूंटी से पानी बह रहा था। पास में खूंटे से भैंस बांधकर एक व्यक्ित उसे मसल-मसल कर नहला रहा था। मैंने उसे टोका तो उसका कहना था कि वह अपनी टूंटी के पानी से अपनी भैंस को नहला रहा है, इसमें क्या बुराई है? मैंने उसे समझाया कि जब पानी की इतनी किल्लत है और हर एक को उसकी जरूरत ....

बेटियों ने खुद कुदाल चला कर बना लिया घर में टाॅयलेट

Posted On April - 29 - 2016 Comments Off on बेटियों ने खुद कुदाल चला कर बना लिया घर में टाॅयलेट
यह अब कोई अनजानी बात नहीं है। बच्चा-बच्चा समझ गया है, खुले में शौच जाने का मतलब है, बीमारियां फैलाना और इसका उपाय है टॉयलेट बनाना। हर घर, हर सार्वजनिक स्थल, बस अड‍्डा, रेलवे स्टेशन सभी जगह सही से मेनटेन किए गए टॉयलेट होने चाहिए। ....

संसद और विधानसभाएं नवनिर्माण के लिए हैं, षड‍्यंत्र के लिए नहीं

Posted On April - 29 - 2016 Comments Off on संसद और विधानसभाएं नवनिर्माण के लिए हैं, षड‍्यंत्र के लिए नहीं
राजनीतिक उठा-पटक बेशक नेताओं के अहम को संतुष्ट करती हो लेकिन इसका नुकसान जनता को ही भुगतना पड़ता है। शिक्षक विकास श्याेराण यह बात कहते हैं। उनके अनुसार लोकतंत्र जनता के लिए वरदान है लेकिन जब-तब इस वरदान को चोट पहुंचती रही है। हालिया मामला उत्तराखंड का है। यहां केंद्र सरकार की सिफारिश पर राष्ट्रपति शासन लगा दिया गया, शासन कर रही कांग्रेस हाईकोर्ट में चली ....

तब चंडीगढ़ की सड़कों पर सुबह शाम साइकिलें ही नजर आती थीं

Posted On April - 29 - 2016 Comments Off on तब चंडीगढ़ की सड़कों पर सुबह शाम साइकिलें ही नजर आती थीं
तब चंडीगढ़ की सड़कों पर साइकिल ही साइिकल होते थे। इक्का-दुक्का गाड़ी दिखती थी। हालात ऐसे होते थे कि सुबह सरकारी कर्मचारी साइकिलों पर निकलते और शाम को फिर सड़कों पर साइकिलों का सैलाब नजर आता। हालांकि अब तो शहर की सड़कों से कोई साइकिल लेकर निकल भी नहीं सकता। पीजीआई चंडीगढ़ से रिटायर्ड और अब पंचकूला के सेक्टर-11 में रह रहे 75 वर्षीय देवीदयाल ....

10वीं पास ने बना दी एक मिनट में 300 ईंटें बनाने वाली मशीन

Posted On April - 29 - 2016 Comments Off on 10वीं पास ने बना दी एक मिनट में 300 ईंटें बनाने वाली मशीन
आविष्कार इसलिए हुए हैं क्योंकि वैसी चीजों की इंसान को जरूरत महसूस हुई। दरअसल, जरूरत ही इंसान को बड़ा काम करने के लिए प्रेरित करती है। सोनीपत के लडरावन गांव के छिक्कारा बंधुओं ने इसी जरूरत को समझ ईंट-भट‍्ठा व्यवसाय को नयी दिशा दिखाई है। ....

भाई, मैं घर भी संभाल ल्यूंगी अर गाड‍्डी भी…

Posted On April - 22 - 2016 Comments Off on भाई, मैं घर भी संभाल ल्यूंगी अर गाड‍्डी भी…
सिरसा के छोटे से गांव औढां में माता हरकी देवी कॉलेज फॉर वुमन की बड़े-बड़े शीशे वाली बिल्डिंग से एक सीन देख रहा हूं। कॉलेज के खेल के मैदान में एक कार लगातार घूम रही है। थोड़ी ही देर में कार रुकती है और ड्राइविंग सीट से एक लड़की उतर कर मुस्कराते हुये बाहर आ जाती है। इसके बाद उसकी जगह  दूसरी लड़की ड्राइवर सीट पर बैठती है। लड़की की साथ वाली सीट पर एक अन्य व्यक्ति बैठा है जो उसे हिदायतें 

निर्वाचित महिला पंच, सरपंच आगे आकर घूंघट प्रथा को भी खत्म करें

Posted On April - 22 - 2016 Comments Off on निर्वाचित महिला पंच, सरपंच आगे आकर घूंघट प्रथा को भी खत्म करें
हरियाणा में पिछले दिनों हुए पंचायती राज के चुनावों में महिलाओं ने बढ़-चढ़ कर हिस्सा लिया। इससे जहां सामाजिक तस्वीर बदली है वहीं इसके भविष्य में इसके सकारात्मक परिणाम सामने आएंगे। हालांकि एक बात है जोकि सही नहीं है, उसे बदले जाने की जरूरत है। यह बात है- चुनी गईं महिलाओं का अभी तक घूंघट में रहना। बीए के छात्र गौरव शर्मा यह बात कहते हैं। उनके मुताबिक एमए, एमफिल पास महिलाएं भी घूंघट 

तब घर में शादी-ब्याह की तारीख ही फसल आने के बाद तय होती थी

Posted On April - 22 - 2016 Comments Off on तब घर में शादी-ब्याह की तारीख ही फसल आने के बाद तय होती थी
वो जमाना कुछ और ही था भाई। तब एक-एक पैसे की कद्र थी। किसान हो या फिर कोई और रोजगार करने वाला, सभी के लिए पैसा बेहद कीमती था। अब तो मैंने सुना है कि पार्टियों के नाम पर थोड़ी देर के लिए लोग हजारों रुपये उड़ा देते हैं। गांव समचाना के निवासी बुजुर्ग रामकिशन यह बात कहते हैं। उनके मुताबिक पहले व्यावसायिकता नहीं थी। नौकरी-रोजगार के ज्यादा साधन भी नहीं थे। किसान का सारा बजट खेती पर ही निर्भर 

समाचार में हाल लोकप्रिय

Powered by : Mediology Software Pvt Ltd.