असल जिंदगी का रूप है सिनेमा : अख्तर !    नहीं रहे प्रसिद्ध उर्दू गीतकार लायलपुरी !    पूर्व सीबीआई प्रमुख की रिपोर्ट पर फैसला आज !    अकाली दल के कई नेता कांग्रेस में शामिल !    2 गोल्ड जीतकर लौटी फरीदाबाद की बेटी !    जेसी कालेज की लड़कियों ने मारी बाजी !    भारत का प्रतिनिधित्व करेगा दिवेश !    तेरिया ने जीता 'झलक दिखला जा' का खिताब !    पाक में मामले की सुनवाई 25 को !    विशेष अतिथि होंगे 40 आदिवासी !    

लहरें › ›

फ़ीचर्ड न्यूज़
रोशनी  से नहाया  नगर

रोशनी से नहाया नगर

अमिताभ स. मलेशिया की केपिटल कुआलालम्पुर पर उतरते ही एयरपोर्ट की भव्यता दंग करती है। अपने देश से दस साल बाद अगस्त 1957 को मलेशिया ब्रिटिश राज से आजाद हुआ, लेकिन वहां तरक्की की रफ्तार कहीं अधिक है। समूचे मलेशिया में बिजली और पानी की कोई कमी नहीं है। कुआलालम्पुर की ...

Read More

बुजुर्गों को कभी अकेला न छोड़ें

बुजुर्गों को कभी अकेला न छोड़ें

कार्तिक क्या आपके घर में बुजुर्ग हैं? क्या आप उन्हें अकेले रहने देते हैं? घर के कामों में शामिल नहीं करते? बातचीत में शामिल नहीं करते? यदि इन सब सवालों का जवाब हां है तो ज़रा नये शोध के नतीजे पर ध्यान दीजिये। एक शोध में यह बात सामने आयी है ...

Read More

साख पर आंच

साख पर आंच

अनूप भटनागर भ्रष्टाचार, आतंकवाद और नक्सलवाद जैसी गंभीर समस्याओं से निबटने के लिये देश में मौजूद काला धन जड़ से खत्म करने के इरादे से पांच सौ और एक हजार रूपए की मुद्रा को अमान्य घोषित करने की प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी की घोषणा का जनता ने पुरजोर स्वागत किया था। परंतु ...

Read More

उलट सियासी विचार वाले साथी संग दो पल

उलट सियासी विचार वाले साथी संग दो पल

फीचर टीम सियासत को लेकर कहा जाता है कि ये भाई-भाई, बाप-बेटे में रिश्ते खराब करा देती है। इतिहास खंगाले तो बात सौ फीसदी समझ आने लगती है। मुगल शासकों में सियासत या गद्दी को लेकर खून-खराबे हुए। आज के दौर में भी सियासी मतभेद रिश्तों में तनाव पैदा करते हैं। ...

Read More

स्ट्रीट फूड बनारस का

स्ट्रीट फूड बनारस का

स्वाद शैलेष कुमार बनारसी कपड़ों की धूम अब न केवल अपने देश में हो रही है, बल्कि विदेशों में बनारसी कपड़ों से बने ड्रेसेज रैम्प पर दिखने लगे हैं। इस शहर का ठेठ बनारसीपन लोगों को इतना लुभा रहा है कि गंगा मैया की अद्भुत आरती देखने के अलावा भी लोगों की ...

Read More

कोजी कोजी ठंड

कोजी कोजी ठंड

इंटीरियर फीचर टीम ठंड में गर्माहट का अहसास ही आधी ठंड भगा डालता है। इस अहसास को घर की डेकोरेशन में डालकर तो देखें, कोजी माहौल का नज़ारा चहुंओर पाएंगे। ज्यादा कुछ नहीं करना है। कोजी फील वाली चंद चीजों का सहारा लेना है और उन्हें कायदे से यहां-वहां रखना है। ठंड ...

Read More

मैं हूं   मीरा

मैं हूं मीरा

श्वेता रंजन कृष्ण के प्रति मीरा की भक्ति और आसक्ति अटूट थी। मीरा के रोम-रोम में कृष्ण का वास था। महलों में पली-बढ़ी, एक सुहागन मीरा ने आज से 500-600 वर्ष पहले कृष्ण की भक्ति के कारण ही सम्पूर्ण जगत के विरोध का सामना किया था। कृष्ण की भक्ति और अनुरक्ति ...

Read More


  • साख पर आंच
     Posted On January - 22 - 2017
    भ्रष्टाचार, आतंकवाद और नक्सलवाद जैसी गंभीर समस्याओं से निबटने के लिये देश में मौजूद काला धन जड़ से खत्म करने....
  • रोशनी  से नहाया  नगर
     Posted On January - 22 - 2017
    मलेशिया की केपिटल कुआलालम्पुर पर उतरते ही एयरपोर्ट की भव्यता दंग करती है। अपने देश से दस साल बाद अगस्त....
  • डाकिया थनप्पा खुशी बांचता गम छिपाता
     Posted On January - 22 - 2017
    जाने-माने साहित्यकार आरके नारायण की महान कृति ‘मालगुडी डेज’ के उन एपिसोड को याद कीजिये जो दूरदर्शन पर लंबे समय....
  • कोजी कोजी ठंड
     Posted On January - 22 - 2017
    ठंड में गर्माहट का अहसास ही आधी ठंड भगा डालता है। इस अहसास को घर की डेकोरेशन में डालकर तो....

गांधी की कुटिया डगर ज़रा कठिन थी

Posted On November - 13 - 2016 Comments Off on गांधी की कुटिया डगर ज़रा कठिन थी
यशपाल 1939 में दूसरा महायुद्ध आरंभ हुआ तो ब्रिटिश साम्राज्यशाही सरकार ने भारत की इच्छा के विरुद्ध देश को उस युद्ध में लपेट लिया। उस समय देश के सभी राजनैतिक दल युद्ध में भाग लेने के विरुद्ध थे। ब्रिटिश सरकार के इस अन्याय के विरोध में कांग्रेस मंत्रिमंडलों ने शासन से असहयोग कर त्यागपत्र दे दिए। कांग्रेस ने गांधी जी के नेतृत्व में युद्ध-विरोध का आंदोलन तो आरंभ किया परंतु आंदोलन को 

रूप बदलता रुपया

Posted On November - 13 - 2016 Comments Off on रूप बदलता रुपया
8 नवंबर की वह आधी रात और विदा हो गए 500 और हज़ार के करारे-करारे से दिखने वाले नोट। इतिहास के कूचों-गलियों में खो गए। मगर इनकी अचानक विदाई और विदाई के बाद मचे हंगामे के चलते ये लंबे समय तक याद रखे जाएंगे। अब सरकार ने 500 और 2 हज़ार के नये करेंसी नोट जारी कर दिए हैं। ....

फिर न दिखेगी चिड़िया

Posted On November - 13 - 2016 Comments Off on फिर न दिखेगी चिड़िया
इंसानों की बढ़ती संख्या वन्य जीवों के लिए बेहद घातक साबित हो रही है। आशंका जतायी जा रही है कि दुनिया में वन्य जीवों की संख्या वर्ष 2020 तक दो तिहाई घट जाएगी। वन्य जीवों के मामलों में किये गए एक अध्ययन में कहा गया है कि बढ़ती जनसंख्या के कारण तरह-तरह की मांग बढ़ रही हैं, मसलन-खाद्यान्न, आवास आदि। इन मांगों के कारण वनों ....

7 दिन में उगाओ, पकाओ, खाओ

Posted On November - 13 - 2016 Comments Off on 7 दिन में उगाओ, पकाओ, खाओ
यह बात थोड़ी अजीब तो लग सकती है, लेकिन नामुमकिन नहीं है। क्योंकि प्रयोग सफल रहा है। उसके वैज्ञानिक मानकों की जांच हो रही है। सबकुछ ठीक रहा तो आपको किचन में फल, साग-सब्जी उगाने का मौका मिल सकता है, वह भी बिना खाद-मिट्टी के। ....

केन फर्नीचर फिर फैशन लौटा

Posted On November - 13 - 2016 Comments Off on केन फर्नीचर फिर फैशन लौटा
केन से बना फर्नीचर आजकल मार्किट में इन है। फर्नीचर की दुकानों से लेकर बड़े-बड़े शो रूम में इनका बोलबाला है। लोग भी क्योंकि आजकल इको फ्रेंडली हो रहे हैं और हर पल कुदरत का सामीप्य चाहते हैं, अत: केन से बना फर्नीचर उनकी इस ख्वाहिश को पूरा करने में मददगार साबित हो रहा है। ....

सिक्किम फूड घुल मिल गए सभी स्वाद

Posted On November - 13 - 2016 Comments Off on सिक्किम फूड घुल मिल गए सभी स्वाद
मोमोज भला किसे पसंद नहीं! मोमोज को भले ही हम लोग चाइनीज कुजीन का हिस्सा मानते हों लेकिन सच तो यह है कि मोमोज हमारे देश के उत्तरी-पूर्व राज्यों से चलकर हमारे बीच पहुंचा। ....

फुटवियर भी हैं ड्रेस का हिस्सा

Posted On November - 13 - 2016 Comments Off on फुटवियर भी हैं ड्रेस का हिस्सा
कहने को तो आपने बढ़िया से बढ़िया पोशाक, साथ में मैचिंग गहने पहन लिए, लेकिन अगर आपके जूते आरामदायक नहीं हैं या फिर गंदे, मटमैले दिख रहे हैं तो बस समझ लीजिए, हो गया आपके सारे व्यक्तित्व का कबाड़ा। ....

प्रशंसा से प्रसन्न न होती थीं महाश्वेता

Posted On November - 6 - 2016 Comments Off on प्रशंसा से प्रसन्न न होती थीं महाश्वेता
आखिरी वर्षों में लेखन ही महाश्वेता की आजीविका का एकमात्र साधन रहा, इसलिए उनका पेशेवर लेखिका होना स्वाभाविक था। लेकिन समान निष्ठा से ही उन्होंने लघु पत्रिकाओं में भी लिखा। लघु पत्रिकाओं के लिए उन्होंने संघर्ष भी किया। उन्होंने अपने संपादन में निकलने वाली 'वर्तिका' में छोटे पत्रों की तालिका भी नियमित छापी। ....

लागी घुंघरू से बालपन में लगन…

Posted On November - 6 - 2016 Comments Off on लागी घुंघरू से बालपन में लगन…
संगीत आत्माभिव्यक्ति का बेजोड़ माध्यम है, जो दिल में छिपी भावनाओं को क्रियाशील बनाता है, जीवन में संजीवनी का कार्य करता है। नृत्य और संगीत की इन आंतरिक शक्तियों को कत्थक नृत्यांगना नम्रता राय ने कम उम्र में ही समझ लिया था। ....

परोसें पारसी स्नैक्स

Posted On November - 6 - 2016 Comments Off on परोसें पारसी स्नैक्स
मुंबई की जान हैं पारसी! दक्षिण मुंबई की सड़कों पर निकल जाएं तो पारसी हर जगह दिख जाएंगे। पारसी की संख्या भले ही कम हो रही हो लेकिन इनके खान-पान को चारों ओर पहचान मिल रही है। आज जिस खारी के जायके को लोग चाय के साथ आजमा रहे हैं, वह खारी इन पारसियों की ही देन है। ....

जाड़े के मौसम को कहें वेलकम

Posted On November - 6 - 2016 Comments Off on जाड़े के मौसम को कहें वेलकम
सर्दियों ने दरवाजे पर दस्तक दे दी है। आप अपना और अपने परिवार का ध्यान रखने में जुटी हैं। ऐसे में अपने प्यारे घर का ध्यान रखना भी जरूरी है। आप इस मौसम का आनंद तभी उठा पाएंगे अगर आपने आसपास के परिवेश को सर्दी के अनुकूल ढालने का प्रयास किया होगा। ....

विचारशून्य निष्ठुर घीसू, माधव

Posted On November - 6 - 2016 Comments Off on विचारशून्य निष्ठुर घीसू, माधव
भुने हुए आलू की महक लाजवाब होती है और उसे खाते हुए जो आनंद आता है वह उस घड़ी में किसी बड़े भोज को भी मात दे सकता है। लेकिन दर्द की चित्कारों के बीच क्या इस आनंद की अनुभूति की जा सकती है? बेहद निर्मम अंदाज में कहा जा सकता है, नहीं। ....

दिल पे मत ले यार

Posted On November - 6 - 2016 Comments Off on दिल पे मत ले यार
तकनीक के उन्नत होने के साथ ही इलाज को लगातार आसान बनाने का प्रयास किया जा रहा है। पहले ज्यादातर दिल के रोगों के उपचार के लिए सर्जरी को पहला और आखिरी हथियार माना जाता था। ....

बुरी है लत मोबाइल की

Posted On November - 6 - 2016 Comments Off on बुरी है लत मोबाइल की
यह कोई नयी जानकारी नहीं है कि हर समय मोबाइल पर बिना काम लगे रहने की लत बुरी है। आप स्टूडेंट हैं तो घरवालों से इसको लेकर डांट भी सुनते रहते होंगे। अगर घर के मुखिया हैं तो हो सकता है पत्नी या बच्चों के तंज सुनते होंगे। इस लत को लेकर एक शोध आया है। ....

खाना घर पर ही खाएं

Posted On November - 6 - 2016 Comments Off on खाना घर पर ही खाएं
क्या आप अक्सर घर से बाहर खाना खाते हैं। यदि आपका जवाब हां में है तो अपनी आदत बदल डालिये। कभी-कभार स्वाद बदलने को ऐसा करना चल सकता है, लेकिन बाहर खाने की आदत बना लेना आपको दिक्कत में डाल सकता है। ....

नामेरी इको कैंप में एक रात एक दिन

Posted On November - 6 - 2016 Comments Off on नामेरी इको कैंप में एक रात एक दिन
सैर-सपाटे का मज़ा दोगुना होते देर नहीं लगती अगर हमजोली मित्रों की टोली हो तो। आनंद उस समय चौगुना हो जाता है, जब आपके भीतर का यायावर भ्रमण के लिए असम जैसे कुदरती इलाके में नामेरी नेशनल पार्क के निकट बने इको कैंप का चयन करता है। ....
Page 7 of 225« First...3456789101112...Last »

समाचार में हाल लोकप्रिय

Powered by : Mediology Software Pvt Ltd.