एकदा !    सबरीमाला मामले में सुप्रीम कोर्ट में सुनवाई पूरी !    सपा प्रत्याशी ने लिया नाम वापस !    सुप्रीम कोर्ट की शरण में प्रजापति गिरफ्तारी पर रोक की अर्जी !    गुजरात के तो गधों का भी होता है प्रचार !    दलित की बेटी हेलीकॉप्टर में घूमे, मोदी को अच्छा नहीं लगता !    बहुजन से बहनजी तक सिमटी बसपा : मोदी !    दहेज लोभी को नकारा, इंजीनियर से रचायी शादी !    गैंगस्टर के 4 अौर समर्थक गिरफ्तार !    मेट्रो महिला ने किया आत्महत्या का प्रयास !    

लहरें › ›

फ़ीचर्ड न्यूज़
रोचक

रोचक

विटामिन 'ए' जरूर लें कार्तिक यूं तो गर्भवती महिलाओं को पौष्टिक भोजन दिये जाने की सख्त जरूरत होती है। लेकिन अब डॉक्टरों से सलाह लेकर आपको उन्हें भरपूर विटामिन 'ए' भी देना होगा। ताजा शोध में यह सामने आया है कि गर्भावस्था के दौरान मां द्वारा पर्याप्त विटामिन 'ए' नहीं लेने से ...

Read More

समुद्र चले संग-संग

समुद्र चले संग-संग

यात्रा-वृत्तांत/महाबलीपुरम केवल तिवारी इस सफर पर समुद्र की बात होती है। इस सफर पर समुद्र का ही साथ होता है। कोई इसे मंदिरों का शहर कहता है और कोई रिसाेर्ट्स का। कहे कोई कुछ भी, लेकिन यह जगह है बहुत अनूठी। जब आप यहां के सफर पर होते हैं तो लगता है ...

Read More

नन्हे का कमरा

नन्हे का कमरा

फीचर टीम उम्र में छोटे, कहने को नन्हे-मुन्ने, मगर घर का सबसे अहम सदस्य होते हैं हमारे बच्चे। इसलिए तो कहते हैं कि उनके कमरे को सजाना बच्चों का खेल नहीं। बड़ी-बड़ी जुगत भिड़ानी पड़ती है। कभी उनके आराम का ध्यान, कभी पसंद का, कभी लेटेस्ट ट्रेंड्स पर निगाह तो कभी ...

Read More

लुटाएं तहज़ीब का खज़ाना

लुटाएं तहज़ीब का खज़ाना

फीचर टीम हम कितने तमीज़दार या तहज़ीब के रखवाले हैं, इसका सच्चा खुलासा उस घड़ी होता है, जब हमारे सामने बैठा व्यक्ति कुछ-कुछ अशोभनीय आचरण करता है। हमारे में से बहुत सारे लोग सामने वाले की बदत्तमीजी को नज़रअंदाज़ करने को ही सही मानते हैं। दरअसल कई बार सबकुछ इतना जल्दी ...

Read More

चख ले  झारखंडी चोखा

चख ले झारखंडी चोखा

शैलेष कुमार झारखंड आैर बिहार में कई समानताएं हैं, जाहिर है खान-पान में भी हैं। बावजूद इसके झारखंड के खान-पान में कई ऐसी विशेषताएं हैं, जो इसे बिहार से अलग करती हैं। झारखंड के बारे में लोगों की यह भी सोच है कि यहां कुछ भी जायकेदार नहीं है, जबकि सच्चाई ...

Read More

साइबर अड्डे

साइबर अड्डे

अलका कौशिक छत्तीसगढ़ में महानदी के किनारे खुदाई ने सिरपुर की शक्ल में एक ऐसे शहर को उगला था, जिसमें कुएं की जगत के करीब ही ज़मीन पर स्टापू जैसे किसी खेल की लकीरें आज भी अपनी हस्ती को संभाले हुए हैं। पुरातत्वेत्ताओं का अनुमान है कि गांव-देहात की औरतें जब ...

Read More

सरकारी तंत्र में 'अनफिट' ईमानदार दारोगा

सरकारी तंत्र में 'अनफिट' ईमानदार दारोगा

नमक का दारोगा मुंशी प्रेमचंद मुंशी प्रेमचंद की कहानियां हर देश-काल-परिस्थिति पर फिट बैठती हैं। उनकी लिखी कहानी है 'नमक का दारोगा', जो आज के दौर में भी उतनी ही सटीक बैठती है, जितना अपने रचे जाने के समय में। इस कहानी के मुख्य पात्र हैं मुंशी वंशीधर। कहानी सरकारी तंत्र ...

Read More


  • साइबर अड्डे
     Posted On February - 19 - 2017
    छत्तीसगढ़ में महानदी के किनारे खुदाई ने सिरपुर की शक्ल में एक ऐसे शहर को उगला था, जिसमें कुएं की....
  • सरकारी तंत्र में ‘अनफिट’ ईमानदार दारोगा
     Posted On February - 19 - 2017
    मुंशी प्रेमचंद की कहानियां हर देश-काल-परिस्थिति पर फिट बैठती हैं। उनकी लिखी कहानी है 'नमक का दारोगा', जो आज के....
  • लुटाएं तहज़ीब का खज़ाना
     Posted On February - 19 - 2017
    हम कितने तमीज़दार या तहज़ीब के रखवाले हैं, इसका सच्चा खुलासा उस घड़ी होता है, जब हमारे सामने बैठा व्यक्ति....
  • समुद्र चले संग-संग
     Posted On February - 19 - 2017
    इस सफर पर समुद्र की बात होती है। इस सफर पर समुद्र का ही साथ होता है। कोई इसे मंदिरों....

मौज-मस्ती की दुनिया

Posted On November - 27 - 2016 Comments Off on मौज-मस्ती की दुनिया
मौज-मस्ती और मनोरंजन की वर्ल्ड केपिटल कहां है? सही पहचाना-डिज़्नीलैंड और वो भी अमेरिका में। हैरत तो इस बात की है कि अमेरिका में एक नहीं, दो-दो डिज्नीलैंड हैं। मनोरंजन के लिए पूरा का पूरा शहर ही है। पहला डिज्नीलैंड केलिफोर्निया में जुलाई 1955 में चालू हुआ। ....

मौके पर चुभती कहने वाले देशपांडे

Posted On November - 27 - 2016 Comments Off on मौके पर चुभती कहने वाले देशपांडे
अपने यजमान या मेजबान पी.वाई. देशपांडे, एम.ए., एल.एल.बी. का परिचय मैंने नहीं दिया है। आप मराठी के प्रमुख साहित्यिक हैं। कथा साहित्य में राजनैतिक प्रगति का पुट देने का आपको विशेष श्रेय है। नागपुर विश्वविद्यालय के लॉ कालेज में आप लेक्चरार भी हैं। ....

एकला चलो रे

Posted On November - 27 - 2016 Comments Off on एकला चलो रे
दिल्ली की मशहूर फैशन डिज़ाइनर आशिमा सिंह का मानना है कि एकला चलने का मतलब आज़ादी के साथ-साथ उत्तरदायित्व भी है। पिछले 24 साल से वह अपनी पार्टनर लीना के साथ मिलकर आशिमा-लीना फैशन ब्रांड चला रही थीं। फिर इस साल कुछ ऐसा हुआ कि लोगों को यकीन ही नहीं हो पाया। ....

मुफ्त की सलाह ना बाबा ना!

Posted On November - 27 - 2016 Comments Off on मुफ्त की सलाह ना बाबा ना!
आज ज्ञान गुरुओं का युग है। टीवी पर, प्रवचन स्थलों और कई बार तो हमारे आसपास, बिन मांगे सलाह देने वाले हमें हर जगह मिल जाते हैं। ये ज्ञान गुरू हमें अक्सर यह एहसास कराते हैं जैसे अब तक हम गलत राह पर ही थे या अब तक हमने जिंदगी में जितने फैसले लिए, सब गलत थे। जो यह हमें बता रहे हैं, बस वही ....

स्तन कैंसर सावधान!

Posted On November - 27 - 2016 Comments Off on स्तन कैंसर सावधान!
कुछ समय से महिलाओं में स्तन कैंसर बढ़ने के मामले सुनने में आते हैं। कभी कोई इसे लेकर डराता है तो कभी चेकलिस्ट इतनी लंबी होती है कि कुछ समझ में नहीं आता। अब कुछ डॉक्टरों की टीम ने इसके प्रति डराने जैसी शब्दावली के खिलाफ मुहिम छेड़कर इसके बचावों के प्रति अभियान चलाया है। ....

एक डॉलर में माइक्रोस्कोप

Posted On November - 27 - 2016 Comments Off on एक डॉलर में माइक्रोस्कोप
है न विज्ञान का अचरज भरा और कितना सस्ता नमूना। माना कि विज्ञान की खोजों के लिए असरदार माइक्रोस्कोप लैब का एक जरूरी उपकरण है। मगर बड़े से आकार और भारी भरकम कीमत के चलते इसकी उपलब्धता सुलभ नहीं रहती। ....

सर्दी में कोज़ी-कोज़ी

Posted On November - 27 - 2016 Comments Off on सर्दी में कोज़ी-कोज़ी
जाड़ों में मौसम कैसा डल हो जाता है। लंबे-लंबे उदास दिन और ठंड से सिकुड़ गयी रातें। पर इस मौसम में आपका मूड भी कहीं डल न हो जाए इसलिए अपने घर के इंटीरियर को खुशनुमा तरीके से सजाइए क्रिएटिव बनकर। ....

दुख ने मांजा तो आम से खास हुई मां

Posted On November - 27 - 2016 Comments Off on दुख ने मांजा तो आम से खास हुई मां
कुछ किताबें चेहरों को पढ़ लेती हैं तो कुछ किताबों को पढ़ने के लिए चेहरे आईने की तरह काम करते हैं। कुछ लेखकों का व्यक्तित्व ही ऐसा होता है कि उनकी उपस्थिति की गंध उनके लिखे हरफों को जुबान दे देती है। अर्थ अपने आप खुलने लगते हैं। ....

दिल चाहे बस मेड इन इंडिया

Posted On November - 27 - 2016 Comments Off on दिल चाहे बस मेड इन इंडिया
नये दौर में रिश्तों के मायने भी बदले हैं। एक ओर जहां ग्लोबलाइजेशन के चलते दुनिया छोटी जान पड़ती है, वहीं रिश्तों के बीच दूरियां बढ़ गई हैं। ऐसे में भी अगर एक रिश्ता है जो दूरियों को पाटते हुए, दो देशों के बीच की दूरी को तय कर, सात समंदर लांघ जाता है, वो है प्रेम का रिश्ता.....या फिर यूं कहें कि पति-पत्नी के ....

रत्नी और जीवी एक हकीकत एक फसाना

Posted On November - 20 - 2016 Comments Off on रत्नी और जीवी एक हकीकत एक फसाना
क्लासिक किरदार एक जीवी, एक रत्नी, एक सपना अमृता प्रीतम जीवन जिस रफ्तार से भाग रहा है, उसमें कौन सी चीज कब छूट गयी, पता ही नहीं चलता। जीवन में बाजार के घुसपैठ ने जीवन व रस के रिश्ते को ही बिगाड़कर रख दिया है। नजर सिर्फ रफ्तार पर है, संतुलन नजरों से ओझल। पैसे ने मुस्कुराहट व हंसी तक को तय करना शुरू कर दिया है। बाजार ने मुस्कुराहट की ताकत को भांपकर उसका इस्तेमाल करना तो सीख लिया है, पर उसकी 

आ मेरे साथ चल तू

Posted On November - 20 - 2016 Comments Off on आ मेरे साथ चल तू
हमारे खालीपन को भरता, हमसफर बनता टीवी, कहने को छोटा पर्दा, मगर असर बड़े से भी बड़ा। 60 का वो दशक, चुपके-चुपके हमारी जिंदगी में दाखिल हो रहा था टीवी। कालांतर में इसने कुछ यूं रंग बदला कि ब्लैक एंड व्हाइट से रंगीन हो गया। ....

फैशन की दुनिया में पायल की रुनझुन

Posted On November - 20 - 2016 Comments Off on फैशन की दुनिया में पायल की रुनझुन
कला के ना जाने कितने रंग हैं। सुरों के संग खेलना हो, रंगों के माध्यम से कैनवास को जीवंत करना हो या फिर पहनावे को बेहतरीन परिधान का रूप देना हो, ये सब कला के ही उदाहरण हैं। तभी तो जानी-मानी फैशन डिजाइनर पायल जैन अपनी कला को आकार देने के लिए फेब्रिक का इस्तेमाल करती हैं। ....

सत्याग्रह पर खरी-खरी

Posted On November - 20 - 2016 Comments Off on सत्याग्रह पर खरी-खरी
संस्मरण यशपाल ऐसे उत्साही और दृढ़व्रती कार्यकर्ताओं के मन की भावना जानने की इच्छा हुई। ठीक उनके समीप पहुंचकर कार के सहसा रुक जाने से वे चकित भी हुए। गाड़ी से निकलकर उनसे अंग्रेजी में पूछा – ‘आप कहां जा रहे हैं?’ दृढ़ता से उन्होंने उत्तर दिया – ‘हम लोग सत्याग्रही हैं। हम दिल्ली जा रहे हैं।’ ‘इससे क्या लाभ?’ ‘हम जा रहे हैं, आप जो चाहें कर सकते हैं,’ उन्होंने चुनौती 

रहस्यमयी स्टोन सर्कल

Posted On November - 20 - 2016 Comments Off on रहस्यमयी स्टोन सर्कल
कितना विस्मययुक्त एवं रहस्यमयी-अपने सम्मुख विस्तृत विशाल हरे-भरे पठार पर पत्थरों के गोल घेरे और चारों ओर फैली बर्फ से ढकी पर्वत शृंखलाओं को देखकर, केवल यही दो शब्द मस्तिष्क में गूंज रहे थे। हम उत्तर पश्चिमी इंगलैंड के 4500 वर्ष पूर्व बने कासल रिग-स्टोन-सर्कल इलाके में थे। कहा जाता है कि इसे खगोल विद्या के जानकारों द्वारा आकार दिया गया था। ....

जापानी ज़ायका भोजन की थाली में सेहत

Posted On November - 20 - 2016 Comments Off on जापानी ज़ायका भोजन की थाली में सेहत
प्रधानमंत्री ने रुपयों को लेकर बड़ी घोषणा की आैर जापान के टूर पर निकल गए। जापान में दिया गया उनका भाषण अपने यहां टीवी पर बोलता रहा। भारतीय रुपये के साथ जापान भी अपने यहां कई दिनों तक प्रधानमंत्री के दिए गए भाषण के कारण सुर्खियों में रहा आैर रहने वाला है। ....

बटन दबाओ, फोल्ड हो जाएगी साइकिल

Posted On November - 20 - 2016 Comments Off on बटन दबाओ, फोल्ड हो जाएगी साइकिल
एक अनोखी साइकिल बना ली गयी है। इसमें जैसे-जैसे आप पैडल मारेंगे यह चार्ज होती जाएगी। सफर पूरा हुआ तो फोल्ड कीजिये और घर में रखिये। जाहिर है जब चार्ज होने वाली साइकिल है तो इसमें बैट्री लगी होगी। ....
Page 8 of 228« First...45678910111213...Last »

समाचार में हाल लोकप्रिय

Powered by : Mediology Software Pvt Ltd.