असल जिंदगी का रूप है सिनेमा : अख्तर !    नहीं रहे प्रसिद्ध उर्दू गीतकार लायलपुरी !    पूर्व सीबीआई प्रमुख की रिपोर्ट पर फैसला आज !    अकाली दल के कई नेता कांग्रेस में शामिल !    2 गोल्ड जीतकर लौटी फरीदाबाद की बेटी !    जेसी कालेज की लड़कियों ने मारी बाजी !    भारत का प्रतिनिधित्व करेगा दिवेश !    तेरिया ने जीता 'झलक दिखला जा' का खिताब !    पाक में मामले की सुनवाई 25 को !    विशेष अतिथि होंगे 40 आदिवासी !    

लहरें › ›

फ़ीचर्ड न्यूज़
रोशनी  से नहाया  नगर

रोशनी से नहाया नगर

अमिताभ स. मलेशिया की केपिटल कुआलालम्पुर पर उतरते ही एयरपोर्ट की भव्यता दंग करती है। अपने देश से दस साल बाद अगस्त 1957 को मलेशिया ब्रिटिश राज से आजाद हुआ, लेकिन वहां तरक्की की रफ्तार कहीं अधिक है। समूचे मलेशिया में बिजली और पानी की कोई कमी नहीं है। कुआलालम्पुर की ...

Read More

बुजुर्गों को कभी अकेला न छोड़ें

बुजुर्गों को कभी अकेला न छोड़ें

कार्तिक क्या आपके घर में बुजुर्ग हैं? क्या आप उन्हें अकेले रहने देते हैं? घर के कामों में शामिल नहीं करते? बातचीत में शामिल नहीं करते? यदि इन सब सवालों का जवाब हां है तो ज़रा नये शोध के नतीजे पर ध्यान दीजिये। एक शोध में यह बात सामने आयी है ...

Read More

साख पर आंच

साख पर आंच

अनूप भटनागर भ्रष्टाचार, आतंकवाद और नक्सलवाद जैसी गंभीर समस्याओं से निबटने के लिये देश में मौजूद काला धन जड़ से खत्म करने के इरादे से पांच सौ और एक हजार रूपए की मुद्रा को अमान्य घोषित करने की प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी की घोषणा का जनता ने पुरजोर स्वागत किया था। परंतु ...

Read More

उलट सियासी विचार वाले साथी संग दो पल

उलट सियासी विचार वाले साथी संग दो पल

फीचर टीम सियासत को लेकर कहा जाता है कि ये भाई-भाई, बाप-बेटे में रिश्ते खराब करा देती है। इतिहास खंगाले तो बात सौ फीसदी समझ आने लगती है। मुगल शासकों में सियासत या गद्दी को लेकर खून-खराबे हुए। आज के दौर में भी सियासी मतभेद रिश्तों में तनाव पैदा करते हैं। ...

Read More

स्ट्रीट फूड बनारस का

स्ट्रीट फूड बनारस का

स्वाद शैलेष कुमार बनारसी कपड़ों की धूम अब न केवल अपने देश में हो रही है, बल्कि विदेशों में बनारसी कपड़ों से बने ड्रेसेज रैम्प पर दिखने लगे हैं। इस शहर का ठेठ बनारसीपन लोगों को इतना लुभा रहा है कि गंगा मैया की अद्भुत आरती देखने के अलावा भी लोगों की ...

Read More

कोजी कोजी ठंड

कोजी कोजी ठंड

इंटीरियर फीचर टीम ठंड में गर्माहट का अहसास ही आधी ठंड भगा डालता है। इस अहसास को घर की डेकोरेशन में डालकर तो देखें, कोजी माहौल का नज़ारा चहुंओर पाएंगे। ज्यादा कुछ नहीं करना है। कोजी फील वाली चंद चीजों का सहारा लेना है और उन्हें कायदे से यहां-वहां रखना है। ठंड ...

Read More

मैं हूं   मीरा

मैं हूं मीरा

श्वेता रंजन कृष्ण के प्रति मीरा की भक्ति और आसक्ति अटूट थी। मीरा के रोम-रोम में कृष्ण का वास था। महलों में पली-बढ़ी, एक सुहागन मीरा ने आज से 500-600 वर्ष पहले कृष्ण की भक्ति के कारण ही सम्पूर्ण जगत के विरोध का सामना किया था। कृष्ण की भक्ति और अनुरक्ति ...

Read More


  • साख पर आंच
     Posted On January - 22 - 2017
    भ्रष्टाचार, आतंकवाद और नक्सलवाद जैसी गंभीर समस्याओं से निबटने के लिये देश में मौजूद काला धन जड़ से खत्म करने....
  • रोशनी  से नहाया  नगर
     Posted On January - 22 - 2017
    मलेशिया की केपिटल कुआलालम्पुर पर उतरते ही एयरपोर्ट की भव्यता दंग करती है। अपने देश से दस साल बाद अगस्त....
  • डाकिया थनप्पा खुशी बांचता गम छिपाता
     Posted On January - 22 - 2017
    जाने-माने साहित्यकार आरके नारायण की महान कृति ‘मालगुडी डेज’ के उन एपिसोड को याद कीजिये जो दूरदर्शन पर लंबे समय....
  • कोजी कोजी ठंड
     Posted On January - 22 - 2017
    ठंड में गर्माहट का अहसास ही आधी ठंड भगा डालता है। इस अहसास को घर की डेकोरेशन में डालकर तो....

दीजों के रोमांचक सफर पर

Posted On October - 23 - 2016 Comments Off on दीजों के रोमांचक सफर पर
हवाई जहाज़ जब पेरिस के शार्ल द गॉल एयरपोर्ट पर लैंडिंग कर रहा था, तब वहां घना कोहरा छाया हुआ था। हवाईपट्टी तो दूर, एयरपोर्ट भी दिखाई नहीं दे रहा था। उस पर पासपोर्ट चेकिंग की लंबी कतार में काफी इंतज़ार करना पड़ा जिसके चलते पेरिस शहर तक पहुंचते-पहुंचते अच्छा खासा टाइम ज़ाया हो गया। ....

लफ़्ज़ों की महफि़लें

Posted On October - 23 - 2016 Comments Off on लफ़्ज़ों की महफि़लें
एक दौर था जब एडिनबरा इंटरनेशनल बुक फेस्टिवल, सिडनी राइटर्स फेस्टिवल, हे फेस्टिवल, लॉस एंजेल्स टाइम्स फेस्टिवल्स आॅफ बुक्स, मेलबर्न राइटर्स फेस्टिवल जैसे साहित्यिक उत्सवों की बातें हुआ करती थी तो हम दिल मसोसकर रह जाया करते थे। ....

अल्जाइमर का इलाज

Posted On October - 23 - 2016 Comments Off on अल्जाइमर का इलाज
अल्जाइमर एक ऐसा रोग है, जिसमें इंसान अपनी याद्दाश्त खोने लगता है। समय पर इसकी पहचान हो जाए तो इलाज से इस पर काबू पाया जा सकता है। लेकिन अच्छी याद्दाश्त महिलाओं के लिए अल्जाइमर जांच में बाधक बन सकती है। ....

तान और तरानों की पंडिताइन

Posted On October - 16 - 2016 Comments Off on तान और तरानों की पंडिताइन
तानों, तरानों के जरिए दुनिया भर में अपनी साख बनाने वाली मीता पंडित खयाल गायकी की पंडिताइन हैं। उनका घराना भी उच्च कोटि का है-ग्वालियर घराना। ....

बाढ़ में बह गए जात-पात के बंधन

Posted On October - 16 - 2016 Comments Off on बाढ़ में बह गए जात-पात के बंधन
महाश्वेता की कहानी 'बाढ़' में एक पुराना रूपक आता है कि बहुत पहले एक बार बाढ़ के पानी में जात-पात का बंधन बह गया था और धनी लोगों ने आदिवासियों को भरपेट भोजन कराया था। इस व्यंजना की प्रतिष्ठा कदाचित विषमता के बीच समता की स्थापना करने के लिए की गई है। ....

ज़ुबां पे लागा देसी ज़ायका

Posted On October - 16 - 2016 Comments Off on ज़ुबां पे लागा देसी ज़ायका
दस्तरख्वान बिछ गया है! दावत है हिंदुस्तानी जायकों की। क्या कहना हमारे सदाबहार देसी स्वाद का ; जो लज़ीज़ है, हरदिल अजीज है और हर जुबां पर चटखारों जैसा चास्पां है। माना दौर है पिज्जा, बर्गर की हुकूमत का, मगर चटपटे समोसों और तीखे गोलगप्पों के आगे सब बकबक, फीके-फुस्स। ऐसे ही चाइनीज़ ‘चाउमाउ’ की दुनिया दीवानी। ....

देवधर का अनशन, बेटों के लिए टशन

Posted On October - 16 - 2016 Comments Off on देवधर का अनशन, बेटों के लिए टशन
आप चाहे कितने भी स्मार्ट हो, नयी पीढ़ी के सामने आपकी सारी स्मार्टनेस धरी की धरी रह जाती है। जैसे बाल कृष्ण ने मथुरा के बड़े वीरों को धूल चटा दी थी, वैसे ही कोई छोटा बालक भी आपके स्मार्टनेस के सारे दावे की हेकड़ी एकबारगी फुस्स कर सकता है। ....

शॉपिंग के लिए फेसबुक है ना!

Posted On October - 16 - 2016 Comments Off on शॉपिंग के लिए फेसबुक है ना!
आप फेसबुक पर अब तक लाइक, कमेंट और शेयर के ही ऑप्शन देखते आए हैं। जल्दी ही आपको फेसबुक के जरिये ऑन लाइन शॉपिंग का ऑप्शन भी मिल जायेगा। यह नया ऑप्शन सिर्फ सामान खरीदारी तक सीमित नहीं रहेगा, आप इसके जरिये अपना पुराना सामान बेच भी सकते हैं। ....

बिरयानी के शहर में

Posted On October - 16 - 2016 Comments Off on बिरयानी के शहर में
कहते हैं न कि यदि किसी जगह आैर वहां के लोगों को करीब से जानना हो तो वहां के भोजन का स्वाद जरूर लीजिए। किसी भी जगह का भोजन वहां की परंपरा आैर संस्कृति का अटूट हिस्सा होता है। कुछ जगह तो जाने ही जाते हैं अपनी खाने की परंपराओं को लेकर। ....

वार्डरोब में समेट लो दुनिया

Posted On October - 16 - 2016 Comments Off on वार्डरोब में समेट लो दुनिया
बड़े-बड़े शहरों में जगह की कमी के चलते घर छोटे हो रहे हैं और जरूरतें बढ़ती जा रही हैं। आज की भागदौड़ भरी जिंदगी में घर और घर की चीजों को सलीके से रखना सच में चुनौतीपूर्ण काम है, पर कायदे का पाठ पढ़कर हम इस काम को बाखूबी अंजाम दे सकते हैं। ....

रंगों से निखारें सेहत

Posted On October - 16 - 2016 Comments Off on रंगों से निखारें सेहत
लाल रंग जोश भर जाता है और नीले रंग को देखकर सुकून मिलता है? पीला रंग देखकर आप खिल उठते हैं और बेड पर बिछी गुलाबी चादर दिनभर की थकान को थोड़ी देर के लिये भुला देती है। ऐसा इसलिये होता है क्योंकि ये रंग हमारे जीवन का बेहद अहम हिस्सा हैं। ....

डांडिया की मस्ती परंपराओं के रंग

Posted On October - 16 - 2016 Comments Off on डांडिया की मस्ती परंपराओं के रंग
बेसबब घुमक्कड़ी हर किसी का शौक नहीं होता। किसी मंज़िल को नापने के लिए एक अदद बहाना थामने का इंतज़ार जिन्हें रहता है, उनके लिए बेहतरीन समय अब शुरू हो चुका है। देश के कोने-कोने में उत्सवों का माहौल है, आयोजनों की आमद है और छुट्टियों के भी तो तकाज़े हैं कि कहीं चला जाए। ....

मैटल बर्ड्स से सर्जिकल स्ट्राइक

Posted On October - 16 - 2016 Comments Off on मैटल बर्ड्स से सर्जिकल स्ट्राइक
भारतीय सैन्य कमांडो के जो सर्जिकल स्ट्राइक इन दिनों सुर्खियों में हैं, उसमें 'मैटल बर्ड्स' की भी महत्वपूर्ण भूमिका रही। हमारे जांबाज सैनिक जिस तरह आतंकी ठिकानों को ध्वस्त करके आये, उसकी चर्चा पूरे विश्व में है। ....

भूकंप में जीवन की आस

Posted On October - 9 - 2016 Comments Off on भूकंप में जीवन की आस
बात थोड़ी अजीब लग रही है, लेकिन है सही। भूकंप आयेगा तो हाइड्रोजन जैसी गैस वायुमंडल में पहुंचेगी। यह अन्य गैसीय चक्र को जन्म देगी और जीवन की उम्मीद जगेगी। ....

कोंडाना जंगल में कुछ पल

Posted On October - 9 - 2016 Comments Off on कोंडाना जंगल में कुछ पल
तीन दिन मुम्बई महानगर की महाभीड़ में घूमते-उलझते, कहीं तंग होते तो कहीं अचम्भित होने के उपरान्त हमारी अगली यात्रा का लक्ष्य था कि हम मुम्बई के आसपास (50 से 200 किमी के दायरे में) स्थित खूबसूरत पर्यटन स्थलों, किलों, गुफाओं, झीलों, झरनों या अभ्यारण्यों को देखें। ....

मन्नू को क्या बताए पूजा

Posted On October - 9 - 2016 Comments Off on मन्नू को क्या बताए पूजा
अमृता प्रीतम ने अपनी कहानियों में नारी मन के अंतर्द्वंद्व को बेहद अलग अंदाज में पेश किया है। उसके सामने कभी सामाजिक रीति-रिवाज होते हैं, कभी प्यार उमड़ता-घुमड़ता है। उस प्यार के भी न जाने कितने अंदाज होते हैं। सामाजिक वर्जनाओं से बंधी यह महिला कभी तो पार पा लेती है, लेकिन हर किसी में ऐसा साहस कहां होता है, जैसा ‘बृहस्पतिवार का व्रत’ कहानी ....
Page 9 of 225« First...567891011121314...Last »

समाचार में हाल लोकप्रिय

Powered by : Mediology Software Pvt Ltd.